BREAKING NEWS

निर्भया मामला : दोषी विनय ने तिहाड़ जेल में दीवार पर सिर मारकर खुद को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की◾चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 2000 के पार◾मनमोहन ने की Modi सरकार की आलोचना, कहा - सरकार आर्थिक मंदी को स्वीकार नहीं कर रही है◾अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के मद्देनजर J&K में सुरक्षा बल सतर्क◾राम मंदिर का मॉडल वही रहेगा, थोड़ा बदलाव किया जाएगा : नृत्यगोपाल दास ◾मुंबई के कई बड़े होटलों को बम से उड़ाने की धमकी, ई-मेल भेजने वाला लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य◾‘हिंदू आतंकवाद’ की साजिश वाली बात को मारिया ने 12 साल तक क्यों नहीं किया सार्वजनिक - कांग्रेस◾सरकार को अयोध्या में मस्जिद के लिए ट्रस्ट और धन उपलब्ध कराना चाहिए - शरद पवार◾संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फलों फूलों की प्रदर्शनी देख PM मोदी हुए अभिभूत, साझा की तस्वीरें !◾दुनिया भर में कोरोना वायरस का प्रकोप, विश्व में अब तक 75,000 से अधिक लोग वायरस से संक्रमित◾आर्मी हेडक्वार्टर को साउथ ब्लॉक से दिल्ली कैंट ले जाया जाएगा : सूत्र◾INDO-US के बीच व्यापार समझौता ‘अटका’ नहीं है : डोनाल्ड ट्रंप ने कहा - जल्दबाजी में यह नहीं किया जाना चाहिये◾कन्हैया ने BJP पर साधा निशाना , कहा - CAA से गरीबों एवं कमजोर वर्गों की नागरिकता खत्म करना चाहती है Modi सरकार◾महंत नृत्य गोपाल दास बने श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष , नृपेंद्र मिश्रा को निर्माण समिति की कमान◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सिद्धू के AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾पंजाब में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नवजोत सिद्धू AAP में जाने की अटकलें , भगवंत बोले- कोई वार्ता नहीं हुई◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले माह जाएंगे बांग्लादेश दौरे पर◾विनायक दामोदर सावरकर पर बड़े विमर्श की तैयारी, अमित शाह संभालेंगे कमान◾अगले 5 साल में खोले जाएंगे 10,000 नए एफपीओ, मंत्रिमंडल ने दी योजना को मंजूरी◾केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में 22वें विधि आयोग के गठन को मंजूरी दी◾

पूर्व मंत्री सिद्धू की पत्नी डा. नवजोत कौर ने कांग्रेस छोड़ी, बोलीं- अब किसी पार्टी से कोई संबंध नहीं

लुधियाना-अमृतसर : अमृतसर के विधानसभा हलका पूर्वी में विकास कार्यो का आज उदघाटन करने पहुंचे पूर्व केबिनेट मंत्री और सफल क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी डॉ नवजोत कोर सिद्धू ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते कहा कि कुछ कांग्रेसियों द्वारा कैप्टन के कान भरने के कारण ही नवजोत सिंह सिद्धू को उसके पद से अलग किया गया। उन्होंने कहा कि सिद्धू आज भी इलाके के विधायक के तौर पर अपना कामकाज देख रहे है। वही नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा हाल ही में कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची में कांग्रेस प्रवक्ता के तौर पर शामिल होने के बाद भी विधानसभा चुनावों का प्रचार ना करने संबंधित पूछे सवाल के जवाब पर नवजोत कोर सिद्धू ने कहा कि इस सवाल का जवाब सिद्धू स्वयं ही देंगे। 

पेशे से कभी चिकित्सक रही डॉ नवजोत कौर सिद्धू ने 2012 की सियासत में आने के लिए इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुई तो तत्कालीन अकाली-भाजपा सरकार ने उन्हें मुख्य संसदीय सचिव के रूप में नियुक्त किया फिर वह भाजपा छोड़ कांग्रेस में आ गई तो 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में फिर से विधायक चुनी गई। हमेशा बेखौफ होकर बोलने वाली नवजोत कोर सिद्धू ने कांग्रेस के अंदर चल रही खींचतान के बारे में बात की तो पहले उन्होंने चुप्पी साध ली फिर अपनी ही बात पर नवजोत कोर सिद्धू ने अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया। 

उन्होंने कहा कि अब उनका किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है। वह बोलीं कि वह अब सिर्फ समाजसेवी हैं और सोशल वर्कर के  तौर पर पंजाब के लिए लड़ाई जारी रखेंगी। डा. कौर मंगलवार को एक कार्यक्रम में वेरका पहुंची थीं। 

विधानसभा चुनावों में नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा प्रचार न करने पर डा. कौर ने कहा कि सिद्धू अपनी मर्जी के मालिक हैं। वह चुनाव प्रचार करने क्यों नहीं गए इसका जवाब वह खुद ही दे सकते हैं। सिद्धू अपनी कोई पार्टी बनाने की तैयारी में नहीं है। अभी उनका एरिया अमृतसर पूर्वी है। वह उसी पर ध्यान दे रहे हैं। वह अपने हलके की एक-एक सडक़ बनवाएंगी, जिसके लिए सिद्धू बैठकें कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि उनके हलके के विकास के लिए पैसा नहीं दिया गया तो वह सरकार के खिलाफ धरना भी देंगी।

उन्होंने यह भी कहा कि कुछ कांग्रेसियों ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के कान भरे हैं, इसलिए सिद्धू का मंत्रालय बदला गया था। सिद्धू कांग्रेस के सिपाही हैं और सेवा करते रहेंगे। पंजाब में आई बाढ़ और बटाला पटाखा फैक्ट्री धमाके पर नवजोत सिंह सिद्धू की ओर से साधी चुप्पी पर पूछे गए सवाल का जवाब देते नवजोत कौर सिद्धू ने कहा कि अब उनका सरकार में कोई कोई मोह नहीं है। लिहाजा यदि वह सरकार के पास कोई मांग करते भी हैं तो वह नहीं मानी जाती, लिहाजा उन्होंने कुछ भी बोलने से गुरेज ही किया।

- सुनीलराय कामरेड