BREAKING NEWS

बजट 1 फरवरी को हो सकता है पेश : सूत्र ◾BJP की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से की राहुल गांधी की शिकायत ◾दिल्ली में अभी चुनाव हुए तो भाजपा को मिलेंगी 42 सीटें◾अवसाद में निर्भया कांड के दोषी, खाना-पीना कम किया : तिहाड़ जेल के सूत्र◾योगी ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से 11 रुपये, पत्थर मांगे ◾सर्जिकल स्ट्राइक की इजाजत देने से पहले पर्रिकर ने कहीं थीं दो बातें : दुआ◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी को लेकर भाजपा . कांग्रेस के बीच आरोप प्रत्यारोप का दौर ◾महिलाओं की सुरक्षा को लेकर केजरीवाल बोले - हरसंभव कार्य कर रहा हूँ◾उत्तराखंड में भूकंप के हल्के झटके महसूस किये गये◾केवल भाजपा दे सकती है स्थिर और विकास उन्मुख सरकार : मनोज तिवारी◾अर्थव्यवस्था को गति देने के जब भी जरूरत होगी, कदम उठाये जाएंगे : वित्त मंत्री◾अमित शाह, निर्मला सीतारमण अगले सप्ताह भारत आर्थिक सम्मेलन में अपने विचार रखेंगे◾भाजपा की महिला सांसदों ने चुनाव आयोग से राहूल गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की ◾CAB-NRC कभी नहीं लागू करूंगी : ममता◾‘रेप इन इंडिया’ टिप्पणी पर राहुल का माफी से इनकार, मोदी का वीडियो ट्वीट कर किया पलटवार◾पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी में की गोलीबारी, दो जवान घायल◾मालदीव की अवामी-मजलिस के स्पीकर मोहम्मद नशीद ने PM मोदी से की मुलाकात◾यूएई से आए विमान में बम रखे होने की कॉल, दिल्ली पुलिस ने मांगी फोन करने वाले की जानकारी ◾पूर्वोत्तर में हिंसक प्रदर्शन के कारण जापान के प्रधानमंत्री का भारत दौरा रद्द ◾TOP 20 NEWS 13 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

पंजाब

गूगल ने पंजाब सरकार की शिकायत पर अलगाववाद को बढ़ावा देने वाली एप हटाई

 2020 sikh referendum

गूगल ने पंजाब सरकार की शिकायत के बाद अपने प्ले स्टोर से भारत विरोधी मोबाइल एप ‘2020 सिख रेफरेंडम’ हटा दी है। 

पंजाब सरकार के एक प्रवक्ता ने मंगलवार को यहां बताया कि यह एप अब भारत में मोबाइल फोन उपभोक्ताओं के लिए गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध नहीं है। 

विदेश स्थित एक समूह और भारत द्वारा प्रतिबंधित ‘‘सिख्स फॉर जस्टिस’’ अपने ‘‘2020 सिख रेफरेंडम’ अभियान के जरिए पंजाब के अलगाव की कवायद में लगा है। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस अभियान में पाकिस्तान की खुफिया सेवा के शामिल होने का आरोप लगाया। 

इस महीने की शुरुआत में उन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों से गूगल से संपर्क करने और साथ ही केंद्र सरकार की एजेंसियों के साथ समन्वय करने के लिए कहा था ताकि नयी एप को हटाया जा सकें। 

गूगल को आठ नवंबर को सूचना प्रौद्योगिकी कानून की धारा 79(3)बी के तहत एक नोटिस भेजकर ‘आइसटेक’ द्वारा बनाई एप को हटाने की मांग की गई। 

एप में मोबाइल उपभोक्ताओं को अलगाववाद के लिए समर्थन दिखाने के वास्ते पंजीकरण कराने के लिए कहा जाता है। सरकार ने एक बयान में कहा कि वेबसाइट ‘‘येस2खालिस्तान’’ भी इसी उद्देश्य के लिए शुरू की गई । 

राज्य सरकार ने कहा कि गूगल इंडिया इस बात से आश्वस्त हुआ कि उसके प्लेटफॉर्म का ‘‘गैरकानूनी और राष्ट्र विरोधी गतिविधियों’’ को अंजाम देने के लिए प्रतिबंधित संगठनों द्वारा दुरुपयोग किया गया।