BREAKING NEWS

वसीम रिजवी बोले- बगदादी और ओवैसी में कोई अंतर नहीं◾अयोध्या पर AIMPLB की बैठक आज, इकबाल अंसारी करेंगे बहिष्कार◾झारखंड विधानसभा चुनाव: कांग्रेस ने रांची में भाजपा से मुकाबला करने के लिए झामुमो को किया आगे◾महा गतिरोध : सोनिया-पवार की मुलाकात अब सोमवार को होगी ◾शीतकालीन सत्र के बेहतर परिणामों वाला होने की उम्मीद : मोदी◾मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन नहीं लेनी चाहिये - मुस्लिम पक्षकार◾GST रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया को सरल बनाने को लेकर वित्त मंत्री ने की बैठकें ◾भारत ने अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾विपक्ष में बैठेंगे शिवसेना के सांसद ◾आसियान रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने बैंकाक पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ◾किसानों की आवाज को कुचलना चाहती है भाजपा सरकार : अखिलेश◾उत्तरी कश्मीर में पांच संदिग्ध आतंकवादी गिरफ्तार ◾‘शिवसेना राजग की बैठक में भाग नहीं लेगी’ ◾TOP 20 NEWS 16 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामलीला मैदान में मोदी सरकार की ‘जनविरोधी नीतियों’ के खिलाफ विपक्ष करेगी बड़ी रैली ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : भाजपा ने तीन उम्मीदवारों की चौथी सूची की जारी◾सबरीमला मंदिर के कपाट खुले, पुलिस ने 10 महिलाओं को वापस भेजा◾राफेल पर CM अरविंद केजरीवाल का प्रकाश जावड़ेकर को जवाब, ट्वीट कर कही ये बात ◾दिल्ली: राफेल डील में SC से क्लीन चिट के बाद AAP कार्यालय के पास भाजपा का प्रदर्शन◾नवाब मलिक ने फड़णवीस पर साधा निशाना, कहा- हार चुके सेनापति को अपनी हार स्वीकार करनी चाहिए◾

पंजाब

हरपाल चीमा ने नवजोत सिंह सिद्धू को ‘आप’ में आने का दिया न्योता, सिद्धू को जी आया नूं.. कहते हुए कहा कि आप में शामिल होने पर मिलेगा पूरा मान-सम्मान

लुधियाना : पंजाब की कांग्रेसी सियासत में उथल-पुथल के पूर्व अनुमानों से आधारित आम आदमी पार्टी ने सूबे में सियासी जमीन पक्की करने के इरादे से कांग्रेस की कैप्टन सरकार से नाराज चल रहे केबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को आम आदमी पार्टी में आने का न्यौता दिया है। 

आप आगु और पंजाब विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता हरपाल चीमा ने पंजाब सरकार के नए बने पॉवर मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को लुधियाना में एक संवाददाता सम्मेलन के जरिए जी आया नूं कहते हुए कहा कि ‘आप’ के दरवाजे सभी ईमानदार आगुओं के लिए खुले है। इस अवसर पर विधानसभा में विरोधी पक्ष की उपनेता बीबी सर्वजीत कौर मानकु और डॉक्टर तेजपाल सिंह गिल भी मोजूद थे। 

लोकसभा चुनाव के बाद से ही कांग्रेस में हाशिए पर चल नवजोत सिंह सिद्धू का मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ सीधे तौर पर अनबन चल रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जब से उनके विभाग में फेरबदल किया है, तब से सिद्धू चुप्पी साधे हुए हैं। यही नहीं अब उनके राजनीतिक भविष्य पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। लोक इंसाफ पार्टी के प्रमुख सिमरजीत सिंह बैंस और पीडीए के प्रमुख सुखपाल सिंह खैहरा सिद्धू को अपनी पार्टी में आने का न्योता दे चुके हैं। जबकि नवजोत सिंह सिद्धू प्रियंका गांधी और राहुल गांधी समेत सोनिया गांधी का साथ नहीं छोडऩा चाहते लेकिन सियासी करवटों के बीच उनका भविष्य कैसा होगा, यह तो वक्त ही बताएंगा। 

बहरहाल अब आम आदमी पार्टी भी सिद्धू पर डोरे डालने लगी है। शनिवार को लुधियाना पहुंचे आम आदमी पार्टी के विधायक व विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने नवजोत सिंह सिद्धू को पार्टी में शामिल होने का न्योता दे दिया। उन्होंने कहा कि सिद्धू को पार्टी में पूरा मान सम्मान दिया जाएगा। हरपाल चीमा ने कहा कि ईमानदार लोगों के लिए आम आदमी पार्टी के दवारजे हमेशा खुले हैं। हरपाल सिंह चीमा लोकसभा चुनाव में हुई हार पर मंथन करने लुधियाना पहुंचे थे।

आम आदमी पार्टी लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद फिर से संगठन को मजबूत करने पर जोर देगी। संगठन को मजबूत करने के लिए शनिवार को पार्टी के प्रमुख नेताओं ने लुधियाना सर्किट हाउस में बैठक की। बैठक में पहले तो लोकसभा चुनाव में मिली हार के कारणों पर चर्चा की गई। जिसमें यह बात सामने आई कि लुधियाना में पार्टी संगठनात्मक तौर पर कमजोर हो चुकी है। क्योंकि चुनाव के दिन खासकर शहरी क्षेत्रों में तो पार्टी के बूथ भी नहीं लग पाए थे। वहीं दूसरी तरफ ऐन मौके पर जिला प्रधान व यूथ विंग के प्रधान ने पार्टी को अलविदा कह दिया था। जिसके कारण संगठनात्मक ढांचा पूरी तरह से चरमरा गया।

इस बैठक में फैसला लिया गया कि अब विधानसभा चुनाव पर फोकस किया जाए। इसके लिए सबसे पहले संगठन को मजबूत किया जाए। उसके बाद ही आगे की तैयारी की जाए। हरपाल सिंह चीमा ने बताया कि पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक की गई। जिसमें अलग अलग बिंदुओं पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि जल्दी ही लुधियाना शहरी के जिला प्रधान की नियुक्ति की जाएगी और उसके बाद कार्यकर्ता विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट जाएंगे। उन्होंने बताया कि पार्टी का फोकस विधानसभा चुनाव 2022 पर है।

- रीना अरोड़ा