BREAKING NEWS

हाई कमान से मुलाकात के बाद बोले पायलट: पद की कोई लालसा नहीं, समस्या का जल्द समाधान जल्द हो◾वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, सफलतापूर्वक हुई मस्तिष्क की सर्जरी हुई ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 9,181 नये मामले सामने आये ,293 और लोगों की मौत◾केरल : बारिश थमने से कुछ राहत, इडुक्की में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 49 हुई◾पायलट मामले के समाधान के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने तीन सदस्यीय समिति गठित की ◾दिल्ली में बीते 24 घंटे में कोरोना के 707 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 1.46 लाख के पार◾संजय राउत के बयान को लेकर मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे सुशांत सिंह राजपूत के परिजन ◾लीग चेयरमैन बृजेश पटेल ने दी जानकारी - यूएई में आईपीएल के लिये सरकार से मंजूरी मिली◾शाह फैसल ने जेकेपीएम के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया, प्रशासनिक सेवा में लौटने की अटकलें जारी◾सुशांत सिंह राजपूत केस में SC पहुंची रिया चक्रवर्ती, कहा - मीडिया साबित करना चाहता है 'मैं दोषी हूं'◾विधानसभा सत्र से पहले पायलट ने राहुल और प्रियंका से की मुलाकात, घर वापसी की अटकलें तेज◾कोविड-19 : देश में रिकवरी दर 69 फीसदी के पार, मृत्यु दर घटकर दो प्रतिशत के करीब ◾पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी ◾इस स्वतंत्रता दिवस पर वाजपेयी का रिकॉर्ड तोड़ेंगे PM मोदी, 7वीं बार लाल किले से फहराएंगे तिरंगा◾आप्टिकल फाइबर परियोजना के उद्घाटन पर बोले पीएम मोदी- यह प्रोजेक्ट अंडमान-निकोबार को दुनिया से जोड़ेगा ◾मणिपुर में आज बीरेन सिंह सरकार का बहुमत परीक्षण, कांग्रेस-BJP ने विधायकों को जारी किया व्हिप◾कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में एक हजार से अधिक लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 22 लाख के पार ◾देश में संसाधनों की लूट को रोकने के लिए EIA 2020 का मसौदा वापस ले सरकार : राहुल गांधी◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 97 लाख के पार, 7 लाख 29 हजार की मौत ◾जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के हमले में घायल भाजपा नेता ने इलाज के दौरान तोड़ा दम◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी मुद्दे को लेकर राष्ट्रपति , मुख्य चुनाव आयोग और राज्यों के चुनाव अधिकारियों को भेजेगी पत्र

लुधियाना-अमृतसर : हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी ने भारत के राष्ट्रपति और देश के मुख्य चुनाव आयोग से मांग की है कि लोक सभा में हिस्सा लेने वाली राजनीतिक पार्टियों की ओर से जो अपने चुनावी घोषणा पत्र जनता को सुविधाएं देने के लिए जारी किए जाते है उनको कानूनी दस्तावेज के रूप में स्वीकार किया जाए। ताकि वायदे करने के बाद राजनीतिक दल अपने किए हुए चनावी वायदों से भाग न सकें। इस को लेकर हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी की ओर से देश के राष्ट्रपति, मुख्य चुनाव आयोग और राज्यों के चुनाव अधिकारियों को पत्र भेजे जा रहे है। हिन्दू महासभा राष्ट्रवादी के अध्यक्ष गगन भाटिया और महामंत्री राजविंदर राजा ने कहा कि प्रत्येक राजनीतिक दल चुनावों के दौरान बहुत बड़े बड़े चुनावी वायदे लोगों से वोट लेने के लिए करते है।

परंतु चुनाव जीत कर सत्ता में आने के बाद जनता के साथ किए हुए वायदों को पूरा नहीं किया जाता। लोक पांच वर्षों तक सत्ताधारी पार्टी की ओर से किए गए वायदों को याद पार्टी के नेताओं , विधायकों और सांसदों को याद करवाते रहते है। पांच वर्षों तक सत्ता का सुख भोगने के बावजूद भी सत्ताधारी पार्टियों की ओर से वायदे न पूरे करके देश की जनता भी भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया जाता है।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने टाइम पत्रिका के बहाने मोदी पर निशाना साधा

हिन्दू महासभा नेता ने कहा कि देश में कानून है कि अगर कोई व्यक्ति किसी समुदाय के लोगों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ करता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का प्रावधान है। परंतु देश के सब से बड़े लोकतांत्रिक पर्व लोक सभा चुनावों के दौरान हर छोटी बड़ी पार्टी लोगों की भावनाओं को कैश करने के लिए मन लुभावने वायदें करती हुए अपने अपने चुनावाी घोषणा पत्र जारी करती है। इन्ही चुनावी घोषणा पत्रों को जन सभाओं में और घर घर जा कर प्रचारित करते हुए वोट मांगी जाती है। लोग राजनीतिक दलों की नेताओं की ओर से चुनावी घोषणा पत्रों में किए गए वायदों को मुख्य रख व किए गए वायदों की भावानों में आ कर उनको वोट दे देते है। परंतु देश के लोगों की भावनाओं को उस वक्त गहरी ठेस पहुंचती है जब राजनीतिक दल चुनाव जीतने और सत्ता का सुख भोगने के बावजूद भी चुनावों के दौरान किए गए वायदों को पूरा नहीं करते।

अगर देश के राष्ट्रपति और मुख्य चुनाव आयोग राजनीतिक दलों के चुनावाी घोषणा पत्रों को कानूनी दस्तावेजों के रूप में लें तो कोई भी राजनीतिक दल लोगों को गुमराह करते हुए न तो झूठे वायदे करेगा और नही देश के कारोड़ों वोटरों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर सकेगा। क्योंकि अगर चुनावी घोषणा पत्रों को कानूनी दस्तावेज स्वीकार कर लिया जाता है तो इस राजनीतिक दल सत्ता हासिल करने के बाद अपने एलान किए हुए चुनावी घोषणा पत्रों के अनुसार काम करने के लिए पाबंद होंगे। उन्होंने कहा कि हिन्दू महासभा इस मुद्दे को अभियान के रूप में देश भर में चलाएगी और देश वासियों को जागृत करेगी

- सुनीलराय कामरेड