BREAKING NEWS

राकेश टिकैत ने हिंदू-मुस्लिम और जिन्ना को बताया सरकारी मेहमान, बोले-सरकार के प्रवचन में नहीं आना◾भगवा खेमे का अभेद्य किला बनी हुई है 'गोरखपुर सीट', अखिलेश ने शिवप्रताप को दिया खुला ऑफर, जानें रणनीति ◾अखिलेश के बयान पर भाजपा ने घेरा, पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानने का लगाया आरोप ◾अल्पसंख्यक समुदाय के साथ की आस में BJP, RSS की मुस्लिम शाखा ने चलाया अभियान, धर्म संसद पर कहा... ◾UP चुनाव: सियासी मझधार में सपा और सहयोगी दलों का गठबंधन, सीट बंटवारे को लेकर कशमकश की स्थिति ◾BJP गठबंधन वाले दलों को हड़पकर उन्हें खत्म कर देती है : नवाब मलिक◾योगी सरकार पर फिर बरसीं मायावती, कहा- भाजपा के शासन में धर्म संबंधी असुरक्षा लगातार बढ़ रही◾गणतंत्र दिवस: समारोह में एंट्री के लिए अहम निर्देशों का करना होगा पालन, जानें सुरक्षा तैयारियों की जानकारी ◾UP चुनाव : कैराना में अमित शाह ने तोड़े कोरोना नियम, EC के पास शिकायत लेकर पहुंची सपा ◾ओमीक्रॉन के आतंक के बीच हुई नए सब-वेरिएंट BA.2 की एंट्री, भारत में भी मौजूद, जानें कितना खतरनाक? ◾उद्धव के बयान पर बोली BJP-हिंदुत्व की नसीहत देने से पहले बाला साहब ठाकरे के विचारों पर करें मंथन◾उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस पर अमित शाह और जेपी नड्डा ने मांगा जनता का आशीर्वाद, ट्वीट कर दी बधाई◾UP चुनाव : अंतिम 3 चरणों के लिए उम्मीदवारों के नाम को लेकर दिल्ली में BJP का मंथन◾Today's Corona Update : गिरावट के बावजूद देश में 3 लाख से ज्यादा नए केस, 439 मरीजों की मौत◾कोरोना के आतंक के बीच ओमिक्रॉन वैरिएंट से किन लोगों को है मौत का खतरा, WHO ने दी विस्तृत जानकारी ◾World Corona Update: कोरोना के वैश्विक मामलों में इजाफे का सिलसिला जारी, 35.09 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित ◾यूक्रेन संकट के चलते अमेरिका और रूस में बढ़ी कड़वाहट, लोगों के लिए जारी की गई ट्रैवल एडवाइजरी ◾कड़कड़ाती ठंड का सितम अभी रहेगा जारी, दिल्ली में बारिश ने तोड़ा 122 साल का रिकॉर्ड, पहाड़ों पर भारी बर्फबारी◾नेताजी की प्रतिमा आने वाली पीढ़ियों को साहस, राष्ट्रभक्ति एवं बलिदान के लिए प्रेरित करेगी - अमित शाह ◾PM मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना - महान व्यक्तित्वों के योगदान को मिटाने का हुआ प्रयास , अब देश गलतियों को कर रहा है ठीक◾

अमरिंदर के साथ अफेयर पर बोली अरूसा आलम- लवर नहीं कैप्टन मेरे सोलमेट, ISI लिंक पर कही ये बात

पंजाब की सियासत में आजकल कई बड़े नाम और चेहरे सामने आ रहे हैं, आजकल राज्य में सबसे चर्चित सख्सियत बने हुए हैं पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह। दरअसल, पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम के कथित आईएसआई लिंक और कैप्टन अमरिंदर के साथ संबंधों की चर्चा जोरों पर है। बुधवार को इस मामले में अरूसा खुद सामने आयी और उन्होंने आईएसआई के साथ संबंधों और अमरिंदर सिंह के पंजाब के मुख्यमंत्री रहते उन्हें प्रभावित करने के सभी आरोपों को खारिज कर दिया।

अमरिंदर सिंह के साथ अफेयर पर बोली अरूसा आलम

अमरिंदर सिंह के साथ अफेयर के आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए, अरूसा आलम ने कहा कि वे प्रेमी नहीं बल्कि आत्मा साथी थे। “हम साथी रहे हैं। जब मैं उनसे पहली बार मिला थी, तब मैं 56 साल की थी और वह 66 के आसपास थे। इतनी उम्र में, आप प्रेमियों की तलाश में नहीं रहते हैं। हम दोस्त, साथी और आत्मा साथी हैं।” आलम ने आगे कहा, “हम जीवन के ऐसे मोड़ पर मिले जहां अफेयर और रोमांस मायने नहीं रखते। हम आत्मीय और अच्छे पारिवारिक मित्र रहे हैं। मैं उनकी मां, उनके परिवार और उनकी बहनों से मिली हूं।”

सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा अरूसा को लेकर कैप्टन से अमेरिका में हुई थी लड़ाई 

पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने एक ताजा मजाक में धर्म का हवाला देते हुए कहा कि सिख धर्म में "प्रेम संबंधों" की अनुमति नहीं है। “गुरबानी में भी किसी दूसरी महिला के साथ रहना गलत माना जाता है। अरोसा आलम के मुद्दे को लेकर कैप्टन और मैं अमेरिका में भी लड़े थे। पिछले हफ्ते, रंधावा ने कहा था कि आलम के कथित आईएसआई लिंक पर जांच की जाएगी। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल द्वारा किए गए कई ट्वीट्स का जवाब दिया था। उन्होंने उपमुख्यमंत्री पर "व्यक्तिगत हमलों का सहारा लेने" का आरोप लगाया।

ISI के साथ संबंधों पर जानिए क्या बोली अरूसा आलम

अरूसा आलम ने आरोप लगाया,''आईएसआई के साथ मेरे तार जोड़ने का विचार नवजोत सिंह सिद्धू के मुख्य रणनीतिकार (मोहम्मद) मुस्तफा का होगा। संभवत: उन्होंने सिद्धू को सलाह दी होगी कि मुख्यमंत्री बनने के प्रयास में बुरी तरह विफल होने के बाद वह आईएसआई वाली बात कहें। आईएसआई वाली बात भारत में खूब पसंद की जाती है।'' महिला पत्रकार ने आईएसआई के साथ उनके संबंधों की जांच करवाने के रंधावा के दावे को लेकर उनके अधिकार क्षेत्र पर भी सवाल उठाया। 

उन्होंने कहा, ''रंधावा को उनका अधिकार क्षेत्र नहीं पता है। लेकिन, अगर वह मेरी जांच करना चाहते हैं तो, उनका बहुत स्वागत है।'' रंधावा ने दावा किया कि अमरिन्दर सिंह वर्षों से आलम के मित्र हैं और वह वर्षों से भारत में रह रही थीं और केन्द्र ने समय-समय पर उनका वीजा बढ़ाया है।