BREAKING NEWS

‘हर घर जल उत्सव’ : PM मोदी बोले-देश बनाने लिए वर्तमान और भविष्य की चुनौतियों का लगातार समाधान कर रही सरकार ◾नई एक्साइज पॉलिसी से केजरीवाल और AAP के लिए पैसा बनाते हैं सिसोदिया : मनोज तिवारी◾केंद्र सरकार पर केजरीवाल का आरोप, कहा- अच्छे काम करने वालों को रोका जा रहा ◾अमित शाह ने सभी राज्यों से राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों को प्राथमिकता देने का किया आग्रह◾जांच एजेंसियों के दुरुपयोग से भ्रष्टाचारियों को बचने में मदद मिलती है : पवन खेड़ा ◾पूर्व NCB अधिकारी समीर वानखेड़े को मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस ◾सिसोदिया के खिलाफ CBI रेड पर कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित का बड़ा बयान◾सिसोदिया के घर पर CBI का छापा, केजरीवाल ने कहा- मिल रहा अच्छे प्रदर्शन का इनाम ◾भ्रष्ट व्यक्ति खुद को कितना भी बेकसूर साबित कर ले, वह भ्रष्ट ही रहेगा : अनुराग ठाकुर◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटो में 15,754 नए मामले सामने आए, संक्रमण दर 3.47 प्रतिशत दर्ज◾Uttar Pradesh: श्रीकांत त्यागी को मिला बीकेयू का समर्थन, रिहाई की मांग की ◾मनीष सिसोदिया के घर पहुंची CBI, केजरीवाल बोले-इस बार भी कुछ सामने नहीं आएगा◾भारत के साथ शांतिपूर्ण संबंध और कश्मीर मुद्दे का समाधान चाहता है पाकिस्तान : शहबाज शरीफ◾देशभर में जन्माष्टमी की धूम, PM मोदी बोले-सुख, समृद्धि और सौभाग्य लेकर आए यह उत्सव◾गोवा में ‘हर घर जल उत्सव’ को डिजिटल माध्यम से संबोधित करेंगे PM मोदी◾आज का राशिफल (19 अगस्त 2022)◾राजू श्रीवास्तव की हालत स्थिर, डॉक्टर उनका बेहतर इलाज कर रहे हैं : शिखा श्रीवास्तव◾कोलकाता में ममता से मिले पूर्व भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी◾महाराष्ट्र : रायगढ़ तट से मिली संदिग्ध नाव, AK-47 समेत कई हथियार बरामद ◾रोहिंग्याओं पर राजनीति! भाजपा ने कहा- केजरीवाल रोहिंग्याओं को ‘रेवड़ी’ बांट रहे, राष्ट्रीय सुरक्षा के समझौते को तैयार◾

सांसद भगवंत मान ने कहा- हम किसानों की मांग का पूरा समर्थन करते हैं

आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई के अध्यक्ष एवं सांसद भगवंत मान ने कहा है कि पार्टी किसानों की मांग का पूरा समर्थन करती है और नये कृषि कानूनों को रद्द करवाना चाहती है। उन्होंने आज उच्चतम न्यायालय की ओर से कृषि कानून पर तत्काल रोक लगाने और समाधान के लिए समिति गठित करने के फैसले पर प्रतिक्रिया जताते हुये कहा कि हम तथा हमारी पार्टी किसानों के स्वाभिमान के साथ कोई समझौता नहीं चाहते हैं। महीनों से जारी गतिरोध को दूर करने का एकमात्र उपाय है कृषि कानूनों को रद्द करना। समिति बनाना इसका कोई स्थाई समाधान नहीं है। 

समिति की निष्पक्षता पर सवाल खड़ करते हुए मान ने कहा कि समिति में जो लोग शामिल किए गए हैं उनमें से ज्यादातर केन्द, सरकार के नुमाइंदे हैं। हमें शक है कि ये समिति किसानों की वास्तविक समस्याओं को समझकर उसका कोई स्थायी समाधान कर पाएगी। उन्होंने कहा कि किसानों की यह लड़ई कोई समिति बनाने के लिए नहीं है। किसी किसान संगठन ने कभी भी समाधान के लिए कोई समिति बनाने की मांग नहीं की है। उन्होंने कहा कि भीषण ठंड में लाखों किसान दिल्ली बॉर्डर पर पिछले डेढ़ महीने से कमेटी बनाने के लिए संघर्ष नहीं कर रहे हैं। उनकी सरकार से सिर्फ एक ही मांग है कि किसानों के भविष्य को खतरे में डालने वाले इन तीनों कृषि कानूनों को रद्द किया जाए। 

उनके अनुसार इन कानूनों को मोदी सरकार अपने साथी कॉर्पोरेट घराने को फायदे पहुंचाने के लिए लाई है। जिस कृषि कानून को किसान ही नकार रहे हैं और उसे अपने भविष्य के लिए खतरा मान रहे हैं उसे मोदी सरकार द्वारा जबर्दस्दी किसानों पर थोपने की कोशिश करना यह साबित करता है कि मोदी सरकार की नीयत में खोंट है और वह अपनी जेब भरने के लिए जानबूझ कर किसानों के भविष्य को संकट में डाल रही है।  मान ने कहा कि हमें उम्मीद थी कि किसानों के संकट की इस घड़ में अमरिंदर सरकार किसानों के लिए कुछ सकारात्मक कदम उठायेगी, लेकिन कैप्टन सिंह ने किसानों के दुख-दर्द समझने के बजाए अपने बेटे को ईडी से बचाने के लिए मोदी-शाह के साथ हाथ मिला लिया।