BREAKING NEWS

शुभेंदु अधिकारी से बैठक के बाद तृणमूल कांग्रेस ने 'सभी समस्याएं सुलझाने' का किया दावा◾एस जयशंकर ने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मेरिस पेन से की बातचीत ◾पंजाब : BJP नेता और पूर्व मंत्री सतपाल गोसाईं का निधन◾CM योगी आदित्‍यनाथ पहुंचे मुंबई, अभिनेता अक्षय कुमार ने की मुलाकात ◾शिवसेना में शामिल होने के बाद उर्मिला ने कंगना पर बोला हमला, हिंदुत्व पर भी दिया बयान ◾सरकार के साथ किसानों की बैठक बेनतीजा, 3 दिसम्बर को दोबारा होगी वार्ता, तब तक धरना जारी ◾दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी, 4,006 नये मामले आये सामने और 86 की मौत◾प्रधानमंत्री मोदी पर ममता बनर्जी ने साधा निशाना , कहा - पीएम-केयर्स का पैसा कहां गया ◾किसान आंदोलन : कनाडा के PM जस्टिन ट्रूडो की टिप्पणी पर भारत ने जताई कड़ी आपत्ति◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे भीम आर्मी चीफ, कहा- 'किसान की हक की लड़ाई में समर्थन देने आया हूं ◾किसान आंदोलन : PM आज ही तीनों ‘काले कानूनों’ को निलंबित कर, किसानों पर दर्ज मामले वापस लें - कांग्रेस◾उर्मिला मातोंडकर का नया सियासी दांव, कांग्रेस छोड़ CM ठाकरे की मौजूदगी में शिवसेना का थामा दामन ◾BSF का 56वां स्थापना दिवस : DG अस्थाना की पाक को चेतावनी-देश की रक्षा के लिए हमेशा खड़े हैं हमारे जवान ◾किसान नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों की वार्ता में ये होंगे अहम मुद्दे, तीनों कानूनों को लेकर उठा है सारा विवाद◾कृषि कानून के विरोध में किसानों का समर्थन देंगी शाहीन बाग की दबंग दादी, पहुंचेगी सिंघू बॉर्डर ◾किसानों के साथ केंद्र की बातचीत से पहले BJP की बैठक, नड्डा के आवास पर राजनाथ सिंह और शाह मौजूद ◾राहुल का केंद्र पर वार- सरकार अहंकार छोड़कर किसानों को दें उनका अधिकार◾शहला राशिद पर पिता ने लगाया देशविरोधी होने का आरोप, डीजीपी से की बेटी के फंड स्रोतों की जांच की मांग◾केंद्र के वार्ता प्रस्ताव पर किसान नेताओं ने उठाए सवाल, रक्षा मंत्री करेंगे बातचीत की अगुवाई◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

नवजोत सिंह सिद्धू की सीएम पद की उम्मीदवारी शिअद टकसाली का अपना फैसला - ढींडसा

लुधियाना : राज्यसभा सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखदेव सिंह ढींडसा ने आज लुधियाना में पत्रकारों से बातचीत करते कहा कि सिखों की सिरमौर संस्था शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी को बादलों के कब्जे से छुड़वाने के लिए पंजाब के अंदर लोक लहर पैदा की जाएंगी। 

उन्होंने कहा कि वह कांग्रेस, भाजपा या आरएसएस के इशारे पर नहीं चल रहे बल्कि वह शिरोमणि अकाली दल को मजबूत करने के लिए दिनरात यत्न करेंगे। इस अवसर पर मंजीत सिंह जीके, हरसुखइंद्र सिंह बब्बी बादल, परमजीत सिंह खालसा, मेजर सिंह खालसा और बलजीत सिंह बीता आदि उपस्थित थे। 

बागी अकाली नेता सुखदेव सिंह ढींडसा ने आरोप लगाया है कि शिरोमणि अकाली दल सिख सिद्धांतों को नुकसान पहुंचा रही है और उनका पहला उद्देश्य शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को बादलों के कब्जे से आजाद करवाना है, जिसके लिए वह अलग-अलग शहरों में सिख समाज को एकजुट कर रहे हैं। 

बैठक में डीएसजीएमसी के पूर्व प्रधान मनजीत सिंह जीके, पूर्व केंद्रीय मंत्री बलवंत सिंह रामूवालिया भी पहुंचे । लुधियाना में आयोजित बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे ढींडसा ने कहा कि 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उनका उद्देश्य एसजीपीसी के चुनाव की तैयारी करना है, ताकि की इस संस्था को बादलों के चंगुल से छुड़ाया जा सके। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा और अकाली दल में गठबंधन टूटने को लेकर उन्होंने कहा कि पंजाब को लेकर इसके असर का समय आने पर ही पता चलेगा। 

गत दिवस पंजाब सरकार द्वारा की गई तरफ ऑल पार्टी बैठक में लोक इंसाफ पार्टी के सिमरजीत सिंह बैंस को न बुलाए जाने की उन्होंने निंदा की। अकाली दल टकसाली की ओर से पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को मुखयमंत्री का उममीदवार बनाए जाने पर कहा कि यह उनका अपना फैसला है। हमसे कोई बात नहीं हुई। आने वाले दिनों में कई अन्य अकाली दल (बादल) के नेताओं द्वारा पार्टी का साथ छोडऩे की चर्चाओं पर उन्होंने कहा कि बहुत से नेता कतार में हैं, समय में पता चलेगा।

मनजीत सिंह जीके ने भी एसजीपीसी को बादलों के चंगुल से छुड़ाने पर जोर दिया। दिल्ली में अकाली दल और भाजपा के टूटे गठबंधन को लेकर उन्होंने कहा कि अकाली दल का जनाधार खत्म हो चुका है, जिसके चलते भाजपा ने इनसे किनारा कर लिया है और पार्टी के कई बड़े नेता भी चुनाव लडऩे से डर रहे हैं। जबकि सीएए पर ये दोहरा मापदंड अपना रहे हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू को सीएम उम्मीदवार बनाने को उन्होंने अकाली दल टकसाली का निजी विचार बताया। बलवंत सिंह रामूवालिया ने कहा कि समय आ गया है कि 1920 की तरह एक बार फिर से गुरुद्वारों को मसंदों से आजाद करवाया जाए, जिसके लिए वह एक बार फिर से पंजाब की धरती पर पहुंचे हैं और इस धरती के प्रति अपना कर चुका रहे हैं।

- सुनीलराय कामरेड