BREAKING NEWS

मीडिया का परिदृश्य पिछले कुछ सालों में बदल गया......., बोले केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ◾RCP Singh: भाजपा को बड़ा झटका! केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह BJP में नहीं हुए शामिल ◾आप आग से नहीं खेल सकते... नूपुर शर्मा को करें गिरफ्तार! CM ममता ने फिर उठाई कड़ी कार्रवाई की मांग ◾ खाली हाथ रह गया उद्धव गुट, अजीत पवार को चुना गया महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ◾ ज्ञानवापी केस : जिला अदालत में सुनवाई टली, 12 को पक्ष रखेंगे मुस्लिम अधिवक्ता ◾Punjab Board Result 2022: पंजाब में कल छात्र-छात्राओं का अहम दिन, जारी होगा 10वीं का रिजल्ट, इस लिंक पर करें चेक◾ यशवंत सिन्हा की मुर्मू से अपील उनकी ओछी मानसिकता को दर्शाती है - सीटी रवि ◾शरद के बाद कांग्रेस ने भी शिंदे सरकार को लेकर की भविष्यवाणी, कहा - लंबे समय तक नही़ टिकेगी सरकार ◾महाराष्ट्र में 'कानून का शासन' नहीं, शिवसेना बोली- BJP का स्पीकर चुनाव जीतना हैरानी की बात नहीं... ◾राम रहीम को लेकर याचिकाकर्ता पर भड़का हाईकोर्ट, कहा - ये फिल्म चल रही है क्या ◾गुजरात को भी बनाएंगे दिल्ली और पंजाब मॉडल, केजरीवाल बोले- 300 यूनिट तक देंगे मुफ्त बिजली, भाजपा पर भी साधा निशाना◾दिल्ली में विधायकों के वेतन में 66 प्रतिशत की होगी वृद्धि, विधानसभा में पारित हुआ विधेयक ◾शिंदे के सीएम बनने पर दिग्विजय ने सिंधिया पर ली सियासी चुटकी ◾कन्हैयालाल, उमेश कोल्हे... अगला नबंर किसका? नागपुर में भी नूपुर शर्मा के समर्थन में युवक को मिली धमकियां, सदमें में परिवार◾Rahul Gandhi Fake Video: BJP कार्यकर्ताओं पर होगी कड़ी कार्रवाई, कांग्रेस बोली- झूठ नहीं करेंगे बर्दाश्त! ◾महाराष्ट्र : व्हिप मान्यता को लेकर ठाकरे गुट ने सुप्रीमकोर्ट का किया रूख ◾Yogi Government 2.0: मुख्यमंत्री योगी ने सामने रखा रिपोर्ट कार्ड, बोले- ‘जो कहा सो किया’, आगे भी करते रहेंगे ◾'मैंने कहा था मैं वापस आऊंगा, लेकिन...', विधानसभा में बोले डिप्टी CM फडणवीस◾ असम : ईद पर इस्लामी संगठन ने मुसलमानों से बकरीद पर गाय की कुर्बानी नही देने का किया आग्रह ◾Sidhu Moose Wala: पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, गिरफ्तार हुआ सबसे नजदीक से गोली मारने वाला शूटर! ◾

खबरों के पथ-प्रहरियों का लुधियाना में हुआ सम्मान

लुधियाना, सुनीलराय कामरेड : खबरों की पंक्तियों को प्रस्तुत करने वाले पत्रकारों द्वारा अक्सर कहा जाता है कि भले ही सैकड़ों शब्दों के जोड़-तोड़ से खबर बनती है किंतु उसको सजने-संवारने के लिए दुल्हन की बंदी की तरह और प्रमाणिकता के तौर पर खबर की साक्ष्य बनती है, फोटो जर्नलिस्ट की मौके पर खिंची तस्वीर। पंजाब साहित्य अकादमी के पूर्व प्रधान और शिरोमणि अवार्ड से सममानित लेखक डॉ सुरजीत पातर के मुताबिक एक अच्छी फोटो अपने आप में हजारों शब्दों की कहानी बयां करने के लिए काफी होती है। उन्हीं तस्वीरों के चंद प्रयासों के मंथन से लुधियाना फोटो जर्नलिस्ट एसो. के सदस्यों ने पंजांबी भवन के प्रांगण में जब लुधियाना की अनुभवी दो फोटो शखिसयतों को सममानित किया तो आगे बढ़ती विरासत को देखकर उनका सीना चौड़ा हो उठा।

अपनी जिंदगी के बेहतरीन 24सौ घंटे फोटो जर्नलिस्ट के तौर पर विभिन्न अखबारों को समर्पित करने वाली इन शखिसयतों (धर्मवीर नेपाल और इंद्रजीत वर्मा) को पंजाबी भवन में पहली बार लगी इस प्रदर्शनी में पंजाब के कैबिनेट मंत्री तृप्त बाजवा ने साहित्य जगत की हस्तियों व लुधियाना की सियासत से जुड़े नेताओं और पत्रकारों के सामने सम्मानित किया तो उन शखिसयतों की आंखों में भावपूर्ण वह चमक दिखाई दी, जब एक सैनिक को सीमाओं पर सरहदों की रक्षा करते हुए सम्मान हासिल होता है।

\"\"

लुधियाना के दो जवां फोटो जर्नलिस्ट जिनका पिछले दिनों दो विभिन्न दुर्घटनाओं में अल्प आयु में ही निधन हो गया था को समर्पित पहली बार लगी इस एगजीबिशन को देखने के लिए जहां प्रशासनिक अधिकारी, विभिन्न पार्टियों से जुड़े सियासी लोग, औद्योगिक राजघरानों के अलावा आने वाली भारत की भावी पीढ़ी युवा शक्ति भी विभिन्न समूहों में पहुंची हुई थी। पंजाब के ग्रामीण विकास और पंचायत मंत्री तृप्त राजिंद्र सिंह बाजवा ने भी फोटो जर्नलिस्टों से आह्वान किया कि वह अपने कलम और कैमरों की मदद से ऐसी तस्वीर बनाएं जिससे प्रदेश की प्रगति, अतीत और सुनहरे भविष्य की रंग-बिरंगी तस्वीर सामने आएं।

\"\"

इस अवसर पर सम्मानित फोटो जर्नलिस्ट धर्मवीर नेपाल से कैमरे दी अंख नाल खींची तस्वीरों और वर्तमान डिजिटल फोटो का जिक्र किया तो उन्होंने अतीत के पन्नों को पलटते हुए कहा कि उनका जन्म भारत-पाकिस्तान बंटवारे से 10 साल पहले हो गया था और विभाजन के 10 साल बाद ही उन्होंने बाक्स कैमरे और सलाइड कैमरों समेत वन-20 रोल वाले कैमरों को थामा है और डवेलेप करने के लिए फोटो लैब जाना पड़ता था क्योंकि उस वक्त फोटो नेगेटिव के लिए डार्करूम में पेपर पर उकेरा जाता था और फिर फोटो को सुखाने के लिए घंटो इंतजार किया जाता था। उन्होंने यह भी बताया कि फोटो ग्राफर को फोटो कैम्किल इस्तेमाल करते हुए अकसर खतरनाक बीमारियों का निमंत्रण दिया जाता था लेकिन आज डिजीटल युग आने से फोटो खींचना बहुत आसान है।

उन्होंने अपने अनुभव के आधार पर आज की युवा पीढ़ी को प्रोत्साहित करने के इरादे से शाबाशी दी और कहा कि फोटो खींचते वक्त धैर्य से उस पल का इंतजार करन चाहिए जिससे फोटो जीवंत हो उठे। उन्होंने यह भी कहा कि आज हर मोबाइल कैमरों वाले शखस के हाथों में हुनर है और वह भी फोटो जर्नलिस्ट कहलाने को उतावला है। बहरहाल वल्र्ड फोटोग्राफरी दिवस के अवसर पर पहली बार लुधियाना में लगी फोटो जर्नलिस्टों की यह प्रदर्शनी सराहनीय है क्योंकि उन्होंने समूहिक रूप से इस प्रदर्शनी का समस्त खर्च एक दूसरे के सहयोग से वहन किया है और सरकार व प्रशासन को भी चाहिए कि ऐसे अंथक प्रयास करने वाले फोटो पथ प्रहरियों को भविष्य में सहयोग दें।