BREAKING NEWS

गोवा चुनाव : कांग्रेस के उम्मीदवारों की नयी सूची में भाजपा, आप के पूर्व नेताओं के नाम शामिल ◾PM मोदी के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा’ में भाग लेने की समय सीमा 27 जनवरी तक बढ़ाई गई ◾दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾

गुरू घर में लंगर छकने की मर्यादा बदलने का अधिकार किसी को नहीं - लोंगोवाल

लुधियाना-अमृतसर : श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी गुरबचन सिंह ने सिडनी के आस्ट्रल शहर की गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को फरमान जारी किया है कि वे कुर्सी पर लंगर छकने के जारी किए गए लिखित आदेश को तुरंत वापिस ले।

जबकि सिखों की सर्वोच्च संस्था शिरोमणि कमेटी के अध्यक्ष जत्थेदार भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल ने भी स्पष्ट किया है कि गुरू घरों में लंगर छकने की मर्यादा बदलने का अधिकार किसी को नहीं। उन्होंने सिडनी के गुरू घर की कमेटी की हरकत को नादरशाही फरमान बताते हुए गलत करार दिया। उन्होंने उक्त प्रबंधको के फैसले को पंथक रिवायतों और परंपराओं को बदलने की हरकत करार देते कहा कि इससे पंथ दुविधा में है। उन्होंने यह भी कहा कि गुरू घर में लंगर की मर्यादा को भूख मिटाने की तृप्ति के साथ-साथ इसके धार्मिक, अध्यात्मिक और सामाजिक सरोकार को भी समझना जरूरी है।

श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ने भी बताया कि आस्ट्रल गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से बाकायदा नोटिस बोर्ड पर नादरशाही फरमान लिखते हुए संगत को हिदायतें जारी की है कि लंगर सिर्फ हाल में लगी कुर्सियों पर बैठकर छका जाना चाहिए। अन्यथा अगर कोई भी इस आदेश को नहीं मानेंगा तो पुलिस को बुलाकर उसके विरूद्ध कार्यवाही की जाएंगी। उनके मुताबिक लंगर हाल में कोई भी शख्स पंगत में बैठकर या जमीन पर नहीं छक सकता। इस लिखित फरमान के उपरांत आस्ट्रल समेत आसपास के दर्जनों कस्बों की संगत में हाहाकार मची हुई है ओर स्थानीय लोगों ने इस फरमान के विरूद्ध सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब पर अपरोच की है।

स्मरण रहे कि इसी गुरूद्वारे में पहले से ही संगत के लिए कुर्सियां और मेजे लगी हुई है, जिसमें जूते पहने हुए ही लंगर ही छका जाता है। अप्रेल 2016 में इस गुरू घर के सचिव ने एक प्रेस नोट जारी किया था जिसमें उसने जमीन पर पंगत में लंगर छकने के नुकसान हो सकने की बातें की थी। हालांकि यह गुरूद्वारा पहले भी कई विवादों में रहा है।

सिख मिशन सेंटर सीडनी द्वारा चलाए जाते इस गुरू घर में बनाए संविधान के अंदर स्पष्ट है कि वह अपने मुताबिक गुरू घर के नियम और मर्यादा में परिवर्तन कर सकता है। इस मामले में संगत के अंदर काफी निराशा देखने को मिल रही है। इधर अकाल तख्त के जत्थेदार ने बाकायदा उक्त फरमान को सिख सिद्धांतों व परम्पराओं का घोर उल्लंघन है। उन्होंने इसे अनुचित परम्परा करार देते हुए कमेटी को नोटिस बोर्ड से यह संदेश तुरंत हटाने की हिदायत दी है।

उन्होंने कहा कि गुरु साहिबान ने पंगत में बैठकर जमीन पर लंगर छकने की परम्परा शुरू की थी न कि मेज-कुर्सी पर बैठकर। यहां तक कि राजा अकबर ने भी गुरु साहिबान द्वारा शुरु की गई परम्परा का पालन करते हुए पंगत के साथ बैठकर जमीन पर ही लंगर छका था।

उन्होंने कहा कि केवल विकलांग , नीचे बैठ पाने में असमर्थ वृद्ध को ही विशेष परिस्थिति में इस तरह की छूट दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि प्रबंधक कुर्सी पर बैठकर लंगर छकने की हिदायत देकर सिख सिद्धांतों, परम्परा व मर्यादा का घोर उल्लंघन कर रही है, इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

सुनीलराय कामरेड

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।