BREAKING NEWS

असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾देश में अब तक कोविड रोधी टीके की 159.54 करोड़ से ज्यादा दी गई खुराक , स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾जल्द ही बाजार में भी मिल सकेंगी Covishield और Covaxin , सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक का किया अपहरण , MP तापिर गाओ ने मोदी सरकार से लगाई मदद की गुहार◾ विदेश मंत्री एस जयशंकर ने फिनलैंड के विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान समेत कई मुद्दों पर की चर्चा◾PM मोदी और मारीशस के पीएम पी जगन्नाथ 20 जनवरी को परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾

पंजाब: CM चन्नी दिल्ली से लौटने के बाद चुनावी मंथन में जुटे, हरीश चौधरी के साथ की लंबी बैठक

पंजाब कांग्रेस में भारी उथल-पुथल के बाद राजनीतिक पृष्ठभूमि से काफी कुछ बदल गया है। अगले साल विधानसभा के चुनाव होने है, जिसमें अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है। ऐसे में सूबे के मुख्यमंत्री चरनजीत सिहं चन्नी चुनावी मोड ऑन करते हुए रणनीति बनाने में जुट गए है।

बीते दिन दिल्ली से लौटने के बाद आज उन्होंने प्रदेश प्रभारी हरीश चौधरी से करीब एक घंटा मुलाकात की। प्राप्त जानकारी के अनुसार कांग्रेस आलाकमान ने अब चुनावी रोडमैप बनाने की जिम्मेदारी चन्नी को सौंपी है, क्योंकि आलाकमान ने मौजूदा हालात में उन पर पूरा भरोसा जताते हुये अगले साल के शुरू में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी करने के निर्देश दिये हैं।

इस कार्य में उनके मंत्री और पार्टी संगठन के नेता भी उनका साथ देंगे। फिलहाल चुनाव का कम समय होने के कारण इस पर रणनीति तैयार करने का काम शुरू कर दिया है और आज चौधरी के साथ उनकी बैठक हुई।

चुनावी मोड में चन्नी,  सहयोगियों का मांगा सहयोग 

प्रदेश में चुनाव की कमान भी चन्नी को सौंपे जाने के संकेत मिलते ही चन्नी की चिंता बढ़ गयी है और उन्होंने अपने सहयोगियों का सहयोग मांगा है। चन्नी हर विधानसभा क्षेत्र को लेकर रणनीति तय करने का फैसला किया है, जिसमें वे हर हलके के विधायक से मिलकर वहां की स्थिति पर चर्चा करेंगे ताकि चुनाव में जीत के लिये पूरी जान फूंकी जा सके।

पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर ने बढ़ाई चन्नी की टेंशन 

चन्नी ने आलाकमान को पूरा भरोसा दिया है कि वे सभी विधायकों और मंत्रियों के अलावा पार्टी संगठन को साथ लेकर पार्टी की नैया पार लगाने के लिये काम करेंगे। आलाकमान ने इसी सप्ताह दो बार चन्नी को दिल्ली तलब कर मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा की, क्योंकि पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नयी पार्टी बनाने की घोषणा और गैर कांग्रेसी दलों और अकाली दल से अलग हुये दलों के साथ चुनावी तालमेल करने की बात कह चुके हैं। उन्होंने भाजपा के साथ भी चुनावी तालमेल की बात कहकर कांग्रेस की चिंता बढ़ दी।

कैप्टन होंगे कामयाब? मिलेगा किसान आंदोलन का हल!

अब ऐसा माना जा रहा है कि यदि कैप्टन सिंह किसानों के मसले का हल निकालने में कामयाब हो जाते हैं और कृषि कानूनों को लेकर आंदोलन खत्म हो जाता है तो हालात उनके पक्ष में जा सकते हैं। इस समय भाजपा के नेता कैप्टन सिंह के खिलाफ कुछ भी नहीं बोल रहे हैं और हाल में भाजपा के पंजाब प्रभारी गजेन्द, शेखावत सहित कुछ नेताओं ने किसान आंदोलन का हल निकलने की बात कही थी।

जम्मू-कश्मीर में आतंक का वायरस फैलाने के लिए ISI का नया प्लान! भारतीय सुरक्षा बलों को मुस्तैद रहने का निर्देश

चन्नी को प्रदेश में चुनाव की कमान संभालने का संकेत देकर यह बात स्पष्ट कर दी है कि उसे कांग्रेस प्रधान नवजोत सिद्धू पर भरोसा नहीं रह गया है। जबकि श्री चन्नी राहुल गांधी के विश्वासपात्र माने जाते हैं। वर्ष 2015 -16 में जब आलाकमान ने उन्हें कांग्रेस विधायक दल का नेता चुना था तो चन्नी अपनी भूमिका पर खरे उतरे थे।

सीएम पद की जिम्मेदारी भी अच्छी निभायेगा

कैप्टन सिंह भी इस बात को कह चुके हैं कि इस मुंडे ने मेरे साथ मिलकर काम किया और अपने विभाग की जिम्मेदारी को बखूबी निभाया। अच्छा मंत्री है और सीएम पद की जिम्मेदारी भी अच्छी निभायेगा। आलाकमान अब पंजाब को गंवाना नहीं चाहता और इसीलिये ये एक्सरसाइज शुरू कर दी है। अब पंजाब को लेकर उसकी पैनी नजर है और बराबर हर पल की जानकारी लेनी शुरू कर दी है।

उसके बाद कांग्रेस किसानों को चुनाव के मौके पर नाराज नहीं करना चाहती। दिल्ली से आते ही श्री चन्नी ने कपास उत्पादकों की फसल गुलाबी सुंडी से खराब हो गयी जिसके मुआवजे की आज घोषणा कर दी और किसान संगठनों से एक -एक करके बात शुरू कर दी है। आज मुख्यमंत्री ने किसान नेता राजेवाल से बात की और उनसे किसानी के मुद्दे के हल को लेकर चर्चा की।