BREAKING NEWS

अफ्रीका में सामने आये कोरोना वायरस के नये स्वरूप को लेकर दुनियाभर में आशंकाएं◾तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन का एक साल पूरा होने पर दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान हुए एकत्र◾अचानक से राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ी, दिल्ली के AIIMS में भर्ती◾संविधान के लिए समर्पित सरकार, विकास में भेद नहीं करती और ये हमने करके दिखाया: PM मोदी ◾संसद सत्र के पहले दिन कांग्रेस ने बुलाई विपक्षी नेताओं की बैठक, सरकार को घेरने की होगी तैयारी ◾ प्रयागराज हत्याकांडः कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पीड़ित परिवार से की मुलाकात ◾केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का बड़ा इलान, देश में 15 दिसंबर से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें फिर से होगीं शुरू◾छह दिसंबर को भारत आयेंगे रूसी राष्ट्रपति पुतिन, पीएम मोदी के साथ करेंगे शिखर बैठक◾दिल्ली सरकार का सिख समुदाय को तोहफा, CM तीर्थयात्रा योजना में करतारपुर साहिब को किया शामिल ◾मध्य प्रदेश: मुरैना के नजदीक उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस ट्रेन में लगी भयानक आग, चार कोच धू-धू कर जले◾दक्षिण अफ्रीका से निकले कोरोना के नए वैरियंट से दहशत में आयी दुनिया, कड़ी पाबंदियां लगनी शुरू ◾अखिलेश ने योगी की चुटकी ली, कहा-बाबा को लैपटॉप चलाना नहीं आता इसलिए टैबलेट दे रहे हैं ◾26/11 आतंकी हमले की बरसी पर बोले राहुल - शहीदों के बलिदान को जानो, साहस को पहचानो◾महाराष्ट्र में मार्च तक बनेगी BJP की सरकार! केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के दावे से मचा बवाल ◾संविधान दिवस: कांग्रेस का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा- आयोजन में नहीं किया शामिल, दर्शक बनना स्वीकार नहीं ◾पूर्व ACP का दावा - परमबीर सिंह के पास था आतंकी कसाब का फोन, पेश करने के बजाय किया नष्ट◾संविधान दिवस पर विपक्ष ने किया सेंट्रल हॉल कार्यक्रम का बहिष्कार, जानिए राजनितिक दलों ने क्या बताई वजह ◾जबरन वसूली मामला : जांच के सिलसिले में ठाणे पुलिस के समक्ष पेश हुए परमबीर सिंह ◾PM मोदी ने परिवारवाद पर कसा तंज, कहा- लोकतांत्रिक चरित्र खो चुकी पार्टियां नहीं कर सकती लोकतंत्र की रक्षा ◾बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र और राज्य सरकारों पर साधा निशाना, कहा कोई नहीं कर रहा है संविधान का पालन ◾

पंजाब: डिप्टी CM रंधावा का अमरिंदर पर हमला, बोले- कैप्टन अवसरवादी है, जनता को धोखा दिया

पंजाब में काफी सियासी उथल-पुथल के बाद अब चन्नी सरकार ठीक तरीके से काम कर रही है। लेकिन उधर, सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह इन दिनों काफी चर्चा का विषय बने हुए है। पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए बुधवार को उन्हें “अवसरवादी” करार दिया। अमरिंदर सिंह ने एक दिन पहले ही घोषणा की थी कि वह अपना राजनीतिक दल बनाएंगे। 

रंधावा ने अमरिंदर पर लगाया आरोप 

रंधावा ने सिंह पर पिछले साढ़े चार साल से पंजाब को धोखा देने का भी आरोप लगाया। अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को कहा था कि वह जल्द ही अपनी राजनीतिक पार्टी की घोषणा करेंगे और उम्मीद है कि अगर किसानों के मुद्दे का समाधान उनके हित में किया जाता है तो भाजपा के साथ सीटों पर तालमेल हो जाएगा। दो बार के मुख्यमंत्री ने कहा कि वह तब तक आराम नहीं करेंगे जब तक कि वह “अपने लोगों और अपने राज्य” का भविष्य सुरक्षित नहीं कर लेते। 

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा, “कैप्टन अमरिंदर सिंह एक अवसरवादी नेता हैं जो केवल अपने, अपने परिवार और अपने दोस्तों के बारे में सोचते हैं।” पिछले महीने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ सिंह की मुलाकात का जिक्र करते हुए रंधावा ने कहा कि उन्होंने किसानों के चल रहे आंदोलन को सुलझाने का प्रयास नहीं किया। 

पंजाब में बीएसएफ के अधिकार बढ़ने के लिए अमरिंदर जिम्मेदार 

उन्होंने पंजाब में बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र को बढ़ाने के लिए अमरिंदर सिंह को भी जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने पूछा, “वह (अमरिंदर सिंह) कहते हैं कि पंजाब एक सीमावर्ती राज्य है। मैं कैप्टन साहब को याद दिलाना चाहता हूं कि अगर यह एक सीमावर्ती राज्य था तो टिफिन बम और ड्रोन (सीमा पार से) क्यों आ रहे थे। हथियारों और मादक द्रव्यों की तस्करी क्यों नहीं रोकी जा सकी।” 

अमरिंदर ने कभी राज्य के कल्याण के बारे में नहीं सोचा- रंधावा  

रंधावा ने पूर्व मुख्यमंत्री पर पंजाब को धोखा देने और उन लोगों से हाथ मिला लेने का आरोप लगाया जिन्होंने कभी राज्य के कल्याण के बारे में नहीं सोचा। उन्होंने कहा, “पंजाब पाकिस्तान या चीन से नहीं डरता। पंजाब आज अगर किसी खतरे का सामना कर रहा है तो वह अमरिंदर सिंह हैं।” 

विदेश से भारत आने वाले यात्रियों के लिए नई गाइडलाइंस जारी, निगेटिव RT-PCR दिखाना होगा जरुरी

रंधावा ने कहा कि जब अमरिंदर सिंह को मनचाही शक्तियां नहीं मिलीं तो वह कांग्रेस से नाराज हो गए। अमरिंदर सिंह ने पिछले महीने कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के साथ टकराव और राज्य इकाई में अंदरूनी कलह के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी ने उनकी जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाया है।