BREAKING NEWS

UN का दावा- लड़कियों को स्कूलों में पढ़ाई की इजाजत पर जल्द घोषणा करेगा तालिबान◾जशपुर हादसा : मृतक गौरव अग्रवाल के परिजनों को 50 लाख का मुआवजा देगी छत्तीसगढ़ सरकार◾ कांग्रेस के 'जी 23' नेताओं से बोलीं सोनिया- फुल टाइम अध्यक्ष की तरह करती हूं काम, मीडिया का सहारा न लें ◾चीन की चेतावनी- भूटान बॉर्डर एमओयू पर अपना रुख न जताए भारत◾NCB पर CM उद्धव का तंज, चुटकी भर गांजा बरामद कर, मशहूर हस्तियों को पकड़ने में रखते हैं रुचि◾सोनिया की अध्यक्षता में CWC की हुई बैठक, कांग्रेस ने कहा- मोदी जी को नहीं दिखती जनता की तड़प◾जनता के साथ बेईमानी कर सत्ता में आई शिवसेना : देवेंद्र फडणवीस ◾CM ठाकरे का तीखा हमला- 'नशे की लत' की तरह हो गयी है BJP की सत्ता की भूख, ‘हिंदुत्व’ को इनसे खतरा◾सिंघु बॉर्डर हत्याकांड : निहंग सरबजीत की आज होगी कोर्ट में पेशी, किसान मोर्चा ने की जांच की मांग◾ भारत में कोरोना संक्रमण के 15 हजार से अधिक मामलों की पुष्टि, 166 मरीजों की हुई मौत ◾Petrol-Diesel : 35 पैसे की बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में 105 रुपए प्रतिलीटर हुआ पेट्रोल, डीजल के दाम में भी इजाफा◾छत्तीसगढ़ : रायपुर के रेलवे स्टेशन पर खड़ी ट्रेन में विस्फोट, CRPF के 6 जवान घायल◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में घिरा लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर उमर मुश्ताक◾ विश्व में कोविड संक्रमण के केस 24 करोड़ से अधिक, अब तक 6.58 अरब लोगों का हुआ टीकाकरण ◾कांग्रेस कार्य समिति की आज होगी बैठक, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा ◾देखें Video : छत्तीसगढ़ में तेज रफ्तार कार ने भीड़ को रौंदा, एक की मौत, 17 घायल◾चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾

पंजाब की कैप्टन सरकार में आवाम का भरोसा और बढा : कांग्रेस

जालंधर : हरियाणा में हुई हिंसा के लिए भाजपा सरकार को जिम्मेदार बताते हुए प्रदेश कांग्रेस ने आज यहां कहा है कि प्रदेश में हिंसा को रोकने के लिए जिस तरह से कांग्रेस सरकार त्वरित कदम उठाया और कोई बडी घटना नहीं होने दी, उससे आवाम का भरोसा कांग्रेस पर और मजबूत हुआ है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष सतनाम सिंह कैंथ ने भाषा से बातचीत में कहा, डेरा प्रमुख को बलात्कार का दोषी ठहराये जाने पर पंचकूला में हुई हिंसा के बाद पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार ने जिस प्रकार त्वरित कार्वाई की और कोई भी बडी वारदात नहीं होने दी जो काबिले तारीफ है।

कैंथ ने कहा, हरियाणा के पंचकूला में बडे पैमाने पर हुई हिंसा के बीच पंजाब में शुरू होते ही जिस प्रकार इसे नियंत्रित कर लिया गया और राज्य में कोई बडी घटना नहीं हुई, इससे कैप्टन और कांग्रेस दोनों पर आवाम का भरोसा बढा है। उन्होंने कहा, डेरा समर्थकों ने पंजाब में भी कई स्थानों पर सरकारी संपथियों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की लेकिन कैप्टन अमरिंदर के कुशल नेतृत्व क्षमता के कारण पुलिस और अन्य सुरक्षा बलों ने उन पर न केवल जल्दी काबू पा लिया बल्कि मौके से उन्हें खदेड़ भी दिया। हिंसा से निपटने के लिए कुछ स्थानों पर कर्फ्यू भी लगाया गया है और स्थिति नियंत्रण में है।

कैंथ ने आरोप लगाया कि मनोहर लाल खट्टर की अगुवाई वाली हरियाणा की भाजपा सरकार सभी मोर्चे पर पूरी तरह असफल साबित हुई है, क्योंकि रामपाल और जाट आंदोलन के बाद यह तीसरा मौका है जब हरियाणा हिंसा के दौर से गुजरा है। वहा की सरकार चाहती तो वह इस हिंसा को रोक सकती थी लेकिन राजनीतिक लाभ की चाहत ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया। कांग्रेस नेता ने कहा कि सियासी फायदे के लिए हरियाणा की भाजपा सरकार ने डेरा समर्थकों के समक्ष घुटने टेक दिये। खट्टर सरकार अगर उन लोगों पहले ही रोक लेती तो शायद इतने बडे पैमाने पर जान और माल की हानि नहीं हुई होती।

उन्होंने कहा कि डेरा समर्थकों को पंचकुला पहुंचने देना ही खट्टर की सबसे बडी गलती थी, जिसे रोका जा सकता था। सुरक्षा के पुख्ता उपाय जैसे पंजाब में किये गए वह हरियाणा में भी होना चाहिए था। अगर ऐसा होता तो किसी प्रकार की हानि नहीं होती और अब खट्टर, भाजपा तथा केंद, की सरकार को यह बताना चाहिए कि इस हिंसा और मौत के लिए कौन जिम्मेदार है। इससे पहले कल पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि हरियाणा में हुई हिंसा में मारे गए लोगों में से सात पंजाब के रहने वाले थे। दूसरी ओर पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता ने सुखपाल सिंह खैरा ने भी हिंसा के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि पंजाब सरकार ने राज्य में स्थिति को बेहतर तरीके से संभाल लिया और पुलिस बलों की सुझबूझ से राज्य में कोई बड़ी वारदात नहीं हुई।