BREAKING NEWS

नेताजी की प्रतिमा आने वाली पीढ़ियों को साहस, राष्ट्रभक्ति एवं बलिदान के लिए प्रेरित करेगी - अमित शाह ◾PM मोदी ने कांग्रेस पर साधा निशाना - महान व्यक्तित्वों के योगदान को मिटाने का हुआ प्रयास , अब देश गलतियों को कर रहा है ठीक◾भारत ने नेताजी की 125वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी, राष्ट्र ने योगदान को किया याद ◾CM योगी ने अखिलेश पर साधा निशाना - सपा ने हज हाउस बनवाया, हमने कैलाश मानसरोवर भवन◾SA vs IND : दक्षिण अफ्रीका ने भारत को चार रन से हराकर सीरीज पर किया कब्जा◾असमः गणतंत्र दिवस पर उल्फा(आई) का बंद नहीं, सीएम सरमा ने किया स्वागत◾पश्चिम बंगाल : सांसद अर्जुन सिंह पर फेंके गए पत्थर, BJP-TMC समर्थकों में जमकर हुई हाथापाई ◾अखिलेश के राज में बिजली ही नहीं आती थी, आज वो फ्री बिजली देने की बात कर रहे हैंः सीएम योगी ◾नेताजी जयंती : PM मोदी ने किया सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण, सम्मान में कही ये बात ◾दिल्ली : बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 9 हजार से अधिक मामलें, इतने मरीजों की हुई मौत ◾पीएम की सुरक्षा चूक को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर ◾ 10 मार्च को अखिलेश यादव कहेंगे- ईवीएम बेवफा है: अनुराग ठाकुर◾SC एवं ST की बदौलत हम न सिर्फ चुनाव जीतेंगे बल्कि यूपी में सरकार भी बनायेंगेः चंद्रशेखर ◾ उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू हुए दूसरी बार कोरोना संक्रमित, खुद को किया आइसोलेट◾UP: एक और विधायक ने छोड़ा BJP का साथ, बताई यह वजह..., जानें अब तक किन नेताओं ने दिया इस्तीफा ◾नकवी ने मोदी और योगी को बताया 'एम-वाई' फैक्टर, कहा- 3B 'बलवाई, बाहुबली, बेईमानी’ का 'ब्रदरहुड' बेचैन ◾ भाजपा के सहयोगी अपना दल सोनेलाल ने किया मुस्लिम उम्मीदवार का एलान,आजम खान के बेटे के खिलाफ ठोकेंगे ताल◾दिल्ली : गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली में तैनात हुए 27 हजार से अधिक जवान, कमिश्नर ने दी जानकारी ◾हिंदुओं को जलसे की इजाजत दी तो..विवादित बोल पर बवाल, सिद्धू के सलाहकार मुस्तफा ने धर्म विशेष के खिलाफ उगला जहर ◾बेरोजगारी पर राहुल ने किया केंद्र का घेराव, कहा- सरकार कर रही पूंजीपतियों का विकास, सिर्फ ‘हमारे दो’... ◾

लिव-इन रिलेशनशिप में रहने के फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं : HC

पंजाब के बठिंडा में लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे एक जोड़े को सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश देते हुए पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने कहा है कि अगर वे बिना शादी के ही साथ रहना चाहते हैं तो यह उनकी मर्जी, इस फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं है। 17 साल की एक लड़की और 20 साल के लड़के की याचिका पर कोर्ट ने ये आदेश दिया। इस जोड़े ने अपनी जान की सुरक्षा और परिवार के सदस्यों से आजादी के लिए अनुरोध किया था।

कोर्ट ने कहा कि उत्तरी भारत में खासकर हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में ‘ऑनर किलिंग’ की घटनाएं होती रहती हैं और कहा कि ऐसे जोड़े की सुरक्षा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी राज्य की है। याचिकाकर्ताओं ने कहा कि लड़की के अभिभावक उसकी शादी कहीं और कराना चाहते थे क्योंकि उन्हें दोनों के संबंधों का पता चल गया था। लड़की अपने अभिभावक के घर से निकल गयी और अपने जीवनसाथी के साथ रहने लगी। विवाह योग्य उम्र नहीं होने के कारण उन्होंने शादी नहीं की। 

जोड़े ने बताया कि उन्होंने बठिंडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से सुरक्षा प्रदान करने का अनुरोध किया लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। इस संबंध में पंजाब के सहायक महाधिवक्ता ने कोर्ट को सूचित किया कि जोड़े की शादी नहीं हुई है और वे लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे हैं। आगे उन्होंने कहा कि हाल में कुछ पीठों ने ऐसे मामलों को खारिज कर दिया जहां ऐसे रिश्तों में रह रहे जोड़े ने सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध किया था। 

न्यायमूर्ति संत प्रकाश ने तीन जून के अपने आदेश में लिखा, ‘‘अगर किसी ने शादी के बिना ही साथ रहने का फैसला किया है तो ऐसे लोगों को सुरक्षा प्रदान करने से इनकार करना न्याय का मखौल होगा और ऐसे लोगों को उन लोगों से गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं, जिनसे उनकी सुरक्षा की जरूरत है।’’

न्यायाधीश ने कहा ऐसी स्थिति में अगर सुरक्षा से मना किया जाता है तो कोर्ट भी संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत नागरिकों को जीवन और आजादी के अधिकार और कानून के शासन को बनाए रखने में अपना कर्तव्य निभाने में नाकाम होंगी। न्यायमूर्ति प्रकाश ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ताओं ने बिना शादी के ही साथ रहने का फैसला किया और उनके फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं है।’’ 

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘अगर याचिकाकर्ताओं ने कोई अपराध नहीं किया तो इस कोर्ट को सुरक्षा मंजूर करने के उनके अनुरोध को अस्वीकार करने की कोई वजह नहीं है। इसलिए लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे जोड़े को सुरक्षा प्रदान करने से मना करने वाली पीठ के दृष्टिकोण के अनुरूप यह कोर्ट वहीं नजरिया अपनाने के पक्ष में नहीं है।’’

कोर्ट ने बठिंडा के एसएसपी को याचिकाकर्ताओं को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया। इससे पूर्व लिव-इन रिश्ते में रह रहे जोड़े को लेकर अलग-अलग पीठों ने अलग-अलग फैसले दिए थे। न्यायमूर्ति एच एस मदान की एकल पीठ ने सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध करने वाले पंजाब के एक जोड़े की याचिका को खारिज करते हुए 11 मई के अपने आदेश में कहा था कि लिव-इन रिलेशनशिप नैतिक और सामाजिक तौर पर स्वीकार्य नहीं है। वहीं, हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति सुधीर मित्तल ने 18 मई के अपने आदेश में हरियाणा के एक जोड़े को सुरक्षा प्रदान करते हुए कहा था कि ऐसे रिश्तों को सामाजिक स्वीकार्यता बढ़ रही है।