BREAKING NEWS

अगस्त में सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालने के लिए पूरी तरह तैयार है भारत, आतंकवाद पर तेज होगा प्रहार◾अफगानिस्तान में UN पर तालिबान के हमले की गुटेरेस ने की निंदा, कहा- अंतर्राष्ट्रीय कानून के तहत यह प्रतिबंधित हैं◾जम्मू-कश्मीर : आतंकियों के निशाने पर घाटी, राजौरी में डिफ्यूज किया गया IED◾कौन होगा JDU का नया अध्यक्ष? दिल्ली में आज की बैठक में नीतीश कुमार ले सकते हैं बड़ा फैसला◾टेरर फंडिंग और आतंक के मामले में प्रशासन सख्त, शोपियां में कई ठिकानों पर NIA ने मारा छापा◾पुलवामा एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर, सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में मारे गए दहशतगर्द◾देश में नहीं थम रहा कोरोना का आतंक, पिछले 24 घंटे में हुई 41,649 नए मामलों की पुष्टि ◾Tokyo Olympics: फाइनल में पहुंचने वाली दूसरी भारतीय बनीं कमलप्रीत, डिस्कस थ्रो में किया धमाकेदार प्रदर्शन ◾World Corona Update : विश्व में कोरोना मामलों की संख्या हुई 19.72 करोड़, करीब 42 लाख लोगों ने गंवाई जान ◾PM मोदी आईपीएस प्रशिक्षुओं से आज करेंगे संवाद◾दिल्ली विधानसभा ने डॉक्टरों को भारत रत्न देने की केंद्र से अपील करते हुए पारित किया प्रस्ताव◾राजस्थान में कांग्रेस की चुनाव घोषणापत्र समिति की दूसरी बैठक शनिवार को◾कर्नाटक के CM बोम्मई ने अमित शाह और अन्य कई केंद्रीय मंत्रियों से की मुलाकात, कैबिनेट विस्तार पर की चर्चा◾कोरोना संकट : झारखंड सरकार ने दी बड़ी राहत, 9वीं के ऊपर के स्कूल-कॉलेज खुलेंगे, इंटर स्टेट बसें भी चलेंगी◾ED मामले में दंडात्मक कार्रवाई से संरक्षण के लिए पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख की याचिका पर 3 अगस्त को सुनवाई◾मिजोरम-असम सीमा संघर्ष : 'भड़काऊ' टिप्पणियों के लिये असम पुलिस ने मिजोरम के सांसद को किया तलब ◾एलएसी गतिरोध को सुलझाने के लिए कल 12वें दौर की सैन्य स्तरीय वार्ता करेंगे भारत और चीन ◾प्रियंका का तंज - पीएम मोदी और सीएम योगी ने उप्र को कुपोषण में नंबर एक बना दिया◾पान मसाला मेकर ग्रुप के कानपुर सहित 31 ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा, 400 करोड़ रुपए के काले कारोबार का खुलासा◾राजस्थान के गंगानगर में किसानों ने भाजपा नेता से की हाथापाई, कपड़े फाड़े ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

लिव-इन रिलेशनशिप में रहने के फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं : HC

पंजाब के बठिंडा में लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे एक जोड़े को सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश देते हुए पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने कहा है कि अगर वे बिना शादी के ही साथ रहना चाहते हैं तो यह उनकी मर्जी, इस फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं है। 17 साल की एक लड़की और 20 साल के लड़के की याचिका पर कोर्ट ने ये आदेश दिया। इस जोड़े ने अपनी जान की सुरक्षा और परिवार के सदस्यों से आजादी के लिए अनुरोध किया था।

कोर्ट ने कहा कि उत्तरी भारत में खासकर हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों में ‘ऑनर किलिंग’ की घटनाएं होती रहती हैं और कहा कि ऐसे जोड़े की सुरक्षा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी राज्य की है। याचिकाकर्ताओं ने कहा कि लड़की के अभिभावक उसकी शादी कहीं और कराना चाहते थे क्योंकि उन्हें दोनों के संबंधों का पता चल गया था। लड़की अपने अभिभावक के घर से निकल गयी और अपने जीवनसाथी के साथ रहने लगी। विवाह योग्य उम्र नहीं होने के कारण उन्होंने शादी नहीं की। 

जोड़े ने बताया कि उन्होंने बठिंडा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से सुरक्षा प्रदान करने का अनुरोध किया लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। इस संबंध में पंजाब के सहायक महाधिवक्ता ने कोर्ट को सूचित किया कि जोड़े की शादी नहीं हुई है और वे लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे हैं। आगे उन्होंने कहा कि हाल में कुछ पीठों ने ऐसे मामलों को खारिज कर दिया जहां ऐसे रिश्तों में रह रहे जोड़े ने सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध किया था। 

न्यायमूर्ति संत प्रकाश ने तीन जून के अपने आदेश में लिखा, ‘‘अगर किसी ने शादी के बिना ही साथ रहने का फैसला किया है तो ऐसे लोगों को सुरक्षा प्रदान करने से इनकार करना न्याय का मखौल होगा और ऐसे लोगों को उन लोगों से गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं, जिनसे उनकी सुरक्षा की जरूरत है।’’

न्यायाधीश ने कहा ऐसी स्थिति में अगर सुरक्षा से मना किया जाता है तो कोर्ट भी संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत नागरिकों को जीवन और आजादी के अधिकार और कानून के शासन को बनाए रखने में अपना कर्तव्य निभाने में नाकाम होंगी। न्यायमूर्ति प्रकाश ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ताओं ने बिना शादी के ही साथ रहने का फैसला किया और उनके फैसले का मूल्यांकन करना कोर्ट का काम नहीं है।’’ 

न्यायाधीश ने कहा, ‘‘अगर याचिकाकर्ताओं ने कोई अपराध नहीं किया तो इस कोर्ट को सुरक्षा मंजूर करने के उनके अनुरोध को अस्वीकार करने की कोई वजह नहीं है। इसलिए लिव-इन रिलेशनशिप में रह रहे जोड़े को सुरक्षा प्रदान करने से मना करने वाली पीठ के दृष्टिकोण के अनुरूप यह कोर्ट वहीं नजरिया अपनाने के पक्ष में नहीं है।’’

कोर्ट ने बठिंडा के एसएसपी को याचिकाकर्ताओं को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया। इससे पूर्व लिव-इन रिश्ते में रह रहे जोड़े को लेकर अलग-अलग पीठों ने अलग-अलग फैसले दिए थे। न्यायमूर्ति एच एस मदान की एकल पीठ ने सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध करने वाले पंजाब के एक जोड़े की याचिका को खारिज करते हुए 11 मई के अपने आदेश में कहा था कि लिव-इन रिलेशनशिप नैतिक और सामाजिक तौर पर स्वीकार्य नहीं है। वहीं, हाई कोर्ट के न्यायमूर्ति सुधीर मित्तल ने 18 मई के अपने आदेश में हरियाणा के एक जोड़े को सुरक्षा प्रदान करते हुए कहा था कि ऐसे रिश्तों को सामाजिक स्वीकार्यता बढ़ रही है।