BREAKING NEWS

अब संसद में नहीं गूंजेगी अरुण जेटली की आवाज, खलेगी कमी : राहुल गांधी◾दवाओं की कोई कमी नहीं, फोन पर पाबंदी से जिंदगियां बचीं : सत्यपाल मलिक◾निगमबोध घाट पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ अरुण जेटली का अंतिम संस्कार किया गया◾मन की बात: PM मोदी ने दो अक्टूबर से प्लास्टिक कचरे के खिलाफ जन आंदोलन का किया आह्वान ◾लोकतांत्रिक अधिकारों को समाप्त करने से अधिक राजनीतिक और राष्ट्र-विरोधी कुछ नहीं : प्रियंका गांधी◾जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए PM मोदी फ्रांस रवाना◾सोनिया गांधी ने कहा- सीट बंटवारे को जल्द अंतिम रूप दें महाराष्ट्र के नेता◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾

पंजाब

पंजाब : निहंगों के 2 दलों में अमृतसर स्थित महेता कस्बे में जमकर चली गोलियां, सात जख्मी

लुधियाना- अमृतसर : गुरू की नगरी अमृतसर स्थित कस्बा मेहता में उस समय तनाव का माहौल उत्पन्न हो गया, जब इलाके में निहंगों के 2 समूहों के अंदर जबरदस्त खूनी संघर्ष ने विकराल रूप धारण कर लिया। यह संघर्ष गायों को लेकर शुरू हुआ और दोनों पक्षों के सैकड़ों समर्थक एक-दूसरे के सामने आ डटे। इस दौरान ईंट-पत्थर के साथ-साथ कई राउंड गोलियां चली, जिसमें सात लोगों के गंभीर जख्मी होने की खबर है। यह संघर्ष दमदमी टकसाल और तरना दल के समर्थकों के बीच बताया जा रहा है।  

घटनास्थल पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। स्थिति तनावपूर्ण और कस्बे में अघोषित कर्फ्यू जैसे हालात बने हुए हैं। पुलिस के आला अधिकारियों ने घटनास्थल पर अतिरिक्त बल भेजने के आदेश भी जारी कर दिए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, दमदमी टकसाल के मुखी हरनाम सिंह के सदस्यों का तरना दल के मुखी गजन सिंह के सदस्यों से पुराना विवाद चल रहा है। तरना दल के कई सदस्य हजारों गाय लेकर बाबा बरथ सिंह की अगुवाई में गुरुद्वारा साहिब के पास पहुंच गए। बाद में ये गायें दमदमी टकसाल के सदस्यों के खेतों में पहुंच गई और फसल को बर्बाद कर दिया। जब इस की सूचना दमदमी टकसाल के सिंहों को लगी तो उन्होंने रोकने की कोशिश की। इसी बीच गायों के झुंडों को लाने वाले सेवादारों की सिंहों के साथ तकरार हो गया, जिसे देखते ही देखते खूनी झड़प का रूप धारण कर लिया।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक इस झड़प के दौरान कई गोलियों की गूंज भी सुनाई दी और दोनों समूहों ने सडक़ पर लावारिस पड़े ईंट-पत्थरों का उपयोग करके एक-दृूसरे की तरफ उछाला। खबर लिख जाने तक हालात तनावपूर्ण थे और  दोनों गुटों के सदस्य आमने-सामने हो गए।

इस खूनी संघर्ष में दोनों पक्षों के दर्जनभर लोग जख्मी हो गए। गोलियों के छर्रे लगने से अमृतपाल सिंह सहित सात लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को गुरु नानक देव अस्पताल में दाखिल करवाया है। घायल जगतार सिंह, मनप्रीत सिंह, पंथजीत सिंह, नंबरदार सिंह, सुखविंदर सिंह को निजी अस्पतालों में दाखिल करवाया गया है।

मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति पर नियंत्रण करने का प्रयास किया लेकिन देर रात रात तक दोनों पक्षों के बीच स्थिति तनावपूर्ण रही। दोनों पक्षों के करीब पांच सौ से ज्यादा हथियारबंद सदस्य घटनास्थल पर डटे रहे। उधर, मेहता, कंबो, मजीठा, कत्थूनंगल और अन्य थानों से भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। 

इस खूनी झड़प के बाद एसपी हरपाल सिंह ने बताया कि दोनों गुटों का गायों को लेकर विवाद हुआ है। फिलहाल गायों को खेतों और रास्ते से हटवा दिया गया है। स्थिति नियंत्रण में है और जांच जारी है।

- सुनीलराय कामरेड