लुधियाना-अमृतसर : प्राइवेट विमान के जरिए देर रात गुरू की नगरी अमृतसर एयरपोर्ट पर पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेकने की इच्छा जाहिर की तो यकायक उनके रूट प्लान को बदल दिया गया और सादी वर्दीधारी पुलिस के जवान चंद ही मिनटों में दरबार साहिब के इर्दगिर्द फैल गए।

राहुल गांधी रात सवा 11 बजे के करीब दरबार साहिब में आम श्रद्धालु की भांति दाखिल हुए। इस दौरान उन्होंने सिर पर सफेद रंग का रूमाल और सफेद कुर्ता पाजामा पहना था। राहुल गांधी की गाड़ी दरबार साहिब में अकाल तख्त के रास्ते से आकर रूकी तो सुरक्षा में तैनात प्रहरियों ने मानवीय चैन के जरिए उन्हें परिक्रमा हाल में पहुंचाया।

PM मोदी 16 अप्रैल को भुवनेश्वर में करेंगे रोड शो

इस दौरान सचखंड साहिब के मुख्य द्वार बंद थे। सबसे पहले सीढिय़ों से उतरते ही गुरू घर की दर्शनीय डियोढी के बाहर अन्यों के साथ माथा टेका और फिर सिखों की सर्वोच्च संस्था तख्त श्री अकाल तख्त साहिब के नीचे जाकर सिर झुकाया और फिर चंद ही मिनटों में वह सीधे आम श्रद्धालु की तरह सिर झुकाएं बाहर निकल गए। दरबार साहिब में मोजूद श्रद्धालुओं ने उन्हें सेलफी हेतु आवाज दी तो वह थोड़ी देर दूर से ही मंद मंद मुस्कराएं और फिर कैप्टन अमरेंद्र सिंह के साथ एक ही गाड़ी में बैठकर चले गए।

इससे पहले 23 सितंबर 2008 की सुबह राहुल गाध्ंाी चुपचाप दरबार साहिब में कांग्रेसी नेता स्व. हरपाल सिंह भाटिया के साथ दरबार साहिब पहुंचे थे जबकि 2 साल पहले 10 जून को सचखंड दरबार साहिब में कड़ी धूप में करीब आधा घ्ंाटा लाइन में खड़े होकर माथा टेका था।

– सुनीलराय कामरेड