BREAKING NEWS

कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾राहुल गांधी ने साधा PM पर निशाना, बोले- LAC पर चीन द्वारा निर्मित पुल का उद्घाटन कहीं मोदी न कर दें ◾बाटला हाउस में मरे लोग आतंकी नहीं, तौकीर रजा ने किया कांग्रेस का समर्थन, राहुल-प्रियंका को बताया सेक्युलर ◾दिल्ली : त्रिलोकपुरी में संदिग्ध बैग से मिला लैपटॉप और चार्जर, कुछ देर के लिए मची अफरातफरी◾अखिलेश ने अपर्णा को BJP में शामिल होने पर दी बधाई, बोले- नेता जी ने की रोकने की बहुत कोशिश, लेकिन... ◾दिल्ली: संक्रमण दर में आई कमी, जैन बोले- पाबंदियां कम करने से पहले होगा कोरोना की स्थिति का आकलन ◾भारत में यूएई जैसे हमले की योजना बना रहा ISI, चीन से ड्रोन खरीद रहा पाकिस्तान◾

सिखों में आक्रोश : अगर न्याय ना मिला तो छोड़ देंगे सिख धर्म

लुधियाना-अमृतसर : भले ही पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से हिंदू धर्म के सदस्यों के सिख धर्म अपनाए जाने की खबरें मिलती रहती है किंतु इस बार सरहद के इस पार सवा दर्जन से ज्यादा सिख धर्म से जुड़े लोगों द्वारा सच्चखंड दरबार साहिब में माथा टेकने उपरांत श्री अकाल तख्त साहिब पर जाकर क्षमायाचना सहित धर्म परिवर्तन किए जाने की सूचना प्राप्त हुई है। जानकारी के मुताबिक शिरोमणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी (एजसीपीसी) से संबंधित लोकल कमेटी के 15 मुलाजिमों ने फैसला किया है कि वह सिख धर्म को छोडकर किसी अन्य धर्म को अपनाने से पहले 27 नवंबर को श्री अकाल तखत साहिब पर अंतिम बार अरदास करके अपने सभी ककार (कंघा, केश, कृपाण, कच्छेरा और कड़ा) अकाल तखत साहिब के सुपुर्द कर देंगे।

एसजीपीसी की ओर से गुरूद्वारा साहिब की नौकरी से निकाले गए यह 15 कर्मी एसजीपीसी के अध्यक्ष प्रो किरपाल सिंह बडूंगर को पत्र भेजने के बाद श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार के पास भी पहुंच गए है। जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह को ज्ञापन सौंपने हुए इन कर्मचारियों ने चेतावनी दी है अगर उनकों एसजीपीसी ने नौकरी पर बहाल न किया तो वह अपने सारे ककार 26 नवंबर को श्री अकाल तख्त साहिब पर पहुंच कर त्याग देंगे। 27 नवंबर को वह सभी किसी अन्य धर्म को अपना लेंगे।

एसजीपीसी के प्रधान प्रो. किरपाल सिंह बंडूगर को लिखे पत्र के जरिये मुलाजिमों ने लिखे पत्र में प्रो. किरपाल सिंह बंडूगर का ध्यान इस ओर दिलाते हुए लिखा है कि उन्हें लोकल कमेटी ने भर्ती किया है।व लोक कमेटी से गुरूद्वारा छीनने के लिए कई प्रकार के हथकंडें अपनाए गए तो गुरूद्वारे को सैक्शन 85 के तहत एसजीपीसी के अधीन नहीं लाया गया बल्कि पं्रबंध करने के लिए ही गुरूद्वारा छेहरटा साहिब से जोडा गया है।

गुरूद्वारा छेहरटा साहिब के मैनेजर जगतार सिंह पर भी आरोप लगाए गए है कि वह कर्मियों को पक्का करने के बदले पचास हजार रूपये प्रति व्यक्ति रिश्वत मांग रहे है ताकि निकाल गए कर्मियों को एसजीपीसी में भर्ती किया जा सके। उल्लेखनीय है कि आम तौर पर जब भी शिरोमणि कमेटी किसी भी गुरूद्वारे को अपनी अधीन करती है तो उसके सभी मुलाजिमों को भी साथ लेना पडता है। एसजीपीसी केवल उस गुरूद्वारे का प्रबंध अपने हाथ लेती है, जहां की आय भी बीस लाख से उपर हो। इन कर्मियों के अनुसार वह एसजपीसी के मुखय सचिव रूप सिंह से मिलने गए थे लेकिन उनकी अनुपस्थिति में सचिव हरभजन सिंह मानवां को मिले तो उन्हें दफतर से बाहर निकलवा दिया गयाव कहा कि जाओ जाकर हल्के के मैंबर सुरजीत सिंह से राफता कायम करेंं।

इन कर्मियों ने एसजपीसी प्रधान बंडूबर को लिखकर दिया है कि वह 26 नवंबर तक का समय देते है कि उन्हें इंसाफ दिया जाए। अन्यथा 27 नवंबर को वह उपरोक्त फैसले को अमल में ला देंगे। इस संबंधी हलके के एसजीपीसी मैंबर सुरजीत सिंह ने कहा कि यह एक प्रबंधकीय मामला है तथा उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। इस संंबंधी गुरूद्वारा साहिब छेहरटा के मैनेजर जगतार सिंह व एसजपीसी के मुखय सचिव रूप सिंह से भी संपर्क करने का प्रयास किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

- सुनीलराय कामरेड