BREAKING NEWS

भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾ कांग्रेस ने PM मोदी से किया सवाल, पूछा- क्या गलवान घाटी पर भारत का दावा कमजोर किया जा रहा?◾उज्जैन पुलिस की पीठ थपथपाते हुए बोले CM शिवराज-जल्दी UP पुलिस को सौंपा जाएगा विकास दुबे◾चित्रकूट की खदानों में बच्चियों के यौन शोषण पर बोले राहुल-क्या यही सपनों का भारत है◾देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमितों के 24,879 नए मामले और 487 लोगों ने गंवाई जान ◾कानपुर में 8 पुलिसर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे उज्जैन में गिरफ्तार◾ दुनिया में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरने वालों आंकड़ा 5 लाख 48 हजार के पार ◾कानपुर : हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के सहयोगी प्रभात और बउआ को पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान मार गिराया ◾PM मोदी वाराणसी की संस्थाओं के प्रतिनिधियों से आज 11 बजे वीडियो कांफ्रेंस पर संवाद करेंगे◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

इतिहासिक नगर कीर्तन सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब से श्री करतारपुर साहिब के अगले पड़ाव के लिए जयकारों की गूंज से हुआ रवाना

लुधियाना : जगत गुरू श्री गुरू नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित गुरूद्वारा श्री ननकाना साहिब पाकिस्तान से सजाया गया इतिहासिक और अंतरराष्टीय नगर कीर्तन आज पंथक जाहो-जलाल के साथ नगाड़ों की गूंज में सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब से विश्राम के बाद आज अगले पड़ाव के लिए रवाना हो गया। नगर कीर्तन का आज रात का विश्राम पहले पातशाह से संबंधित गुरूद्धारा श्री दरबार साहिब डेरा बाबा नानक (गुरदासपुर) में होगा।

स्मरण रहे कि पिछले दिनों 1947 के बंटवारे के बाद 72 सालों के दौरान यह पहला इतिहासिक इतफाक था, जब पड़ोसी मुलक पाकिस्तान से शुरू होकर कोई नगर कीर्तन अटारी-वाघा सरहद की लकीरें फांदकर भारत पहुंचा था। इसी रास्ते भारत से दाखिल होने के बाद जयकारों की गूंज में यह नगर कीर्तन महज 22 कि.मी. का सफर 14 घंटों सेअधिक वक्त के दौरान रास्ता तय करके आज सुबह-सवेरे सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब में पहुंचा था। 

इस अवसर पर श्री अकाल तख्त साहिब के कार्यकारी जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह, शिरोमणि कमेटी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल और डॉ रूप सिंह के अलावा कई सियासी, धार्मिक शख्सियतों के अतिरिक्त बड़ी संख्या में सिख संगत श्रद्धालु के तोर पर उपस्थित थी। इस दौरान तमाम रास्ते में रैड कारपेट बिछाकर फूलों की वर्षा की गई।

   

प्राप्त जानकारी के मुताबिक आज सुबह-सवेरे 5 बजे के करीब यह कीर्तन श्री अमृतसर पहुंचा। यहाँ रवानगी से पहले श्री अकाल तख्त साहिब पर अरदास की गई और सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब के मुख्य ग्रंथी सिंह साहिब ज्ञानी जगतार सिंह ने श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी का पावन स्वरूप पालकी साहिब में सुशोभित किया। 

इस दौरान 5 प्यारे साहिबान और निशानची सिंहों ने सिंह साहिबान को गुरू बख्शीश सिरोपे दिए। आरंभिता के वक्त श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, शिरोमणि कमेटी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल और पूर्व जत्थेदार अकाल तख्त साहिब ज्ञानी गुरबचन सिंह, आंतरिक कमेटी सदस्य भाई मनजीत सिंह, भाई राम सिंह, भाई राजिंद्र सिंह महेता, स. भगवंत सिंह सियालका और हैड ग्रंथी भाई मलकीत सिंह और ज्ञानी गुरमुख सिंह समेत कमेटी मुख्य सचिव डॉ रूप सिंह, मेनेजर स. जसविंद्र सिंह आदि समेत कई प्रबंधक समितियों के प्रतिनिधि मोजूद थे।

श्री दरबार साहिब के बाहर बने प्लाजा से नगर कीर्तन अगले गंतव्य की ओर रवाना होते समय भारी संख्या में संगत स्नान करके नए वस्त्र धारण करके पारिवारिक सदस्यों समेत पहुंची हुई थी, जिन्होंने फूलों की पंखुडिय़ों की बरसात करके श्री गुरू ग्रन्थ साहिब के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकटाई। इस दौरान गतका साहिब और सिख शस्त्र कलां के जौहर भी दिखाई दिए। बैंड बाजों की धुन ने माहौल को खूबसूरत बना रखा था। 

- सुनीलराय कामरेड