BREAKING NEWS

महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾पाकिस्तान: ग्वादर में जिन्ना की प्रतिमा को बम से उड़ाया, बलोच ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾भारत बंद के दौरान सिंघू बॉर्डर पर किसान की हुई मौत, पुलिस ने हार्ट अटैक को बताई वजह ◾टिकैत ने सरकार पर लगाया धोखाधड़ी का आरोप, कहा- किसानों की बात सुनने के लिए मजबूर करेगा भारत बंद◾PM मोदी ने की आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत, कहा- गरीबों की दिक्कतें होंगी दूर◾नरेंद्र गिरि मौत केस को लेकर एक्शन में CBI, बाघंबरी मठ में सुसाइड सीन को किया रिक्रिएट◾भारत बंद के बीच मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने की केंद्र से मांग- कृषि कानून करें निरस्त ◾ममता ने BJP को बताया नाचने वाले ड्रैगन की जुमला पार्टी, शुभेंदु अधिकारी ने किया तीखा पलटवार ◾भारत बंद : दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा भारी ट्रैफिक जाम, गाड़ियों की लंबी कतारों से DND का भी बुरा हाल◾'भारत बंद' को मिला विपक्ष का समर्थन, कहा- काले कानून वापस लें केंद्र, किसानों का अहिंसक सत्याग्रह है अखंड ◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23.18 करोड़ के करीब, 47.4 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾किसानों के भारत बंद के मद्देनजर दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ी,पुलिस अलर्ट पर ◾भारत बंद : कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किसानों ने किया जाम◾दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾

शिअद प्रमुख ने पंजाब के मुकेरियां में अवैध रेत खनन का आरोप लगाया

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने शनिवार को आरोप लगाया कि पंजाब में होशियारपुर जिले के मुकेरियां में अवैध रेत खनन किया जा रहा है।

हालांकि, बादल के आरोपों पर राज्य के मंत्री सुखबिंदर सिंह सरकारिया ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इन आरोपों को खोई हुई राजनीतिक जमीन हासिल करने का हताशा भरा प्रयास करार दिया।

बादल ने मुकेरियां का औचक दौरा किया और वहां पत्रकारों से बात करते हुए आरोप लगाया कि अवैध रेत खनन के पीछे कुछ अधिकारियों और कांग्रेस नेताओं के बीच सांठगांठ है।

बादल ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और खनन मंत्री सुखबिंदर सिंह सरकारिया से उन नियमों का खुलासा करने के लिए कहा, जो 200 फुट तक रेत की खुदाई की अनुमति देते हैं।

उन्होंने कहा कि उनके निर्वाचन क्षेत्र के कई गांवों के पास की भूमि माफिया ने पुलिस और अधिकारियों की मिलीभगत से बर्बाद किया है।

पूर्व उपमुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि रेत माफिया वाहनों की आवाजाही को प्रतिबंधित करने के लिए गहरे गड्ढे खोद रहे हैं।

सुखबीर ने कहा, 'इस तरह की चालबाजी शिअद को उनका पर्दाफाश करने से नहीं रोक सकती।'

उन्होंने कहा कि भले ही यहां 10 से अधिक गांवों को माफियाओं ने तबाह कर दिया हो, लेकिन सरकार को इसकी कोई चिंता नहीं है।

उन्होंने आरोप लगाया, “आज भी स्थानीय पुलिस ने अवैध खनिकों को यात्रा के बारे में पहले से सूचित करके उनकी मदद की ताकि वे भाग सकें। माफिया इतने बेशर्म हैं कि उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए खाई खोद दी कि हम उस जगह तक न पहुंचें, जहां अवैध खनन किया जा रहा है। उन्होंने 'कच्ची' सड़क को खोदकर क्षेत्र से हमारे बाहर निकलने को रोकने की भी कोशिश की।”

बादल ने यह भी आरोप लगाया कि खनन माफिया द्वारा ट्रक चालकों से प्रति ट्रक 10,000 रुपये का 'गुंडा टैक्स' लिया जा रहा है।

बादल ने एक ट्वीट में कहा, “खनन माफिया की स्तब्ध करने वाली स्थिति। ब्यास के बाद मुकेरियां गया और पहली बार देखा कि कैसे माफिया ने 200 फुट तक रेत निकाली है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और मंत्री सरकारिया को पंजाबियों को बताना चाहिए कि कौन सा कानून 200 फुट तक रेत निकालने की अनुमति देता है? आधिकारिक तौर पर यह सीमा केवल 10 फुट है।”

उन्होंने कहा, “दो दिन पहले जब हमने ब्यास में अवैध खनन का पर्दाफाश किया, तो खनन सचिव ने इसे सही ठहराया। मैं इंतजार कर रहा हूं कि सरकार मुकेरियां में अवैध गतिविधि को कैसे जायज ठहराएगी। हम मुकदमों से नहीं डरते। कांग्रेस सरकार मेरे खिलाफ 10 मामले दर्ज कर सकती है लेकिन मैं पंजाबियों के हितों की रक्षा करना जारी रखूंगा।

बाद में, यहां जारी एक बयान में, खनन मंत्री सुखबिंदर सरकारिया ने बादल पर खोई हुई राजनीतिक जमीन हासिल करने के लिए हताश प्रयास करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि होशियारपुर जिले में बादल ने जिन स्थलों का दौरा किया, उनकी नीलामी पूर्व शिअद-भाजपा सरकार में की गई थी।

मंत्री ने दावा किया कि कुछ लोगों द्वारा अवैध खनन जारी रखने के कई प्रयास किए गए लेकिन विभाग ने भारी जुर्माना लगाने के अलावा उनके खिलाफ तेजी से कार्रवाई की।

उन्होंने कहा कि पूरा पंजाब जानता है कि बालू माफिया शब्द की उत्पत्ति अकाली सरकार में हुई थी और अकालियों ने पंजाब को 'लूटा' था।

सरकारिया ने कहा कि बादल सिर्फ 'राजनीतिक उद्देश्यों' के लिए 'निरर्थक' दौरे कर रहे हैं क्योंकि उन्हें पता था कि खनन गतिविधियों में कांग्रेस सरकार द्वारा सुनिश्चित की गई 'पारदर्शिता' आगामी विधानसभा चुनावों में एक मुद्दा बन जाएगी।

उन्होंने कहा कि बादल उन स्थलों पर जाकर पंजाब के लोगों को 'गुमराह' करने की कोशिश कर रहे हैं, जो अकाली शासन के दौरान आवंटित किए गए थे और खनन विभाग ने पहले ही ऐसे स्थलों पर कार्रवाई शुरू कर दी थी।

गौरतलब है कि 30 जून को शिअद प्रमुख ने अमृतसर में ब्यास नदी तट का दौरा किया था और तब भी इसी तरह के आरोप लगाए थे।

हालांकि तब, राज्य के खनन विभाग ने बादल के आरोपों को खारिज कर दिया था।