लुधियाना-मानसा : पंजाब में सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार और शिरेामणि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान को कौम के गददार लिखे जाने की खबर के बीच यह भी पता चला है कि मानसा में कुछ शरारती तत्वों द्वारा कार्यकारी जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह और एसजीपीसी अध्यक्ष भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल की तस्वीरों पर कालिख भी पोती गई है। यह घटना एसजीपीसी द्वारा करवाएं जाने वाले एक धार्मिक समारोह के दिन घटित हुई।

मानसा जिले के गांव कोटधरमू स्थित इतिहासिक गुरूद्वारा सूलीसर साहिब में धार्मिक समागम से संबंधित लगाए गए सार्वजनिक पोस्टरों पर शरारती तत्वों ने कालिख पोत दी थी। पोस्टरों पर श्री अकाल तख्त साहिब के सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह और एसजीपीसी अध्यक्ष भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल के अतिरिक्त अन्य सिख आगुओं की तस्वीरें थी।

पाकिस्तान के लिये जासूसी करने के आरोप में बिजली का मिस्त्री गिरफ्तार

मामले पर टिप्पणी करते हुए गर्मख्याली नेता सुखचैन सिंह ने कहा कि पोस्टरों पर धार्मिक और पंथक नेताओं के सुशोभित चेहरों पर कालिख पोती जाना इस बात का सबूत है कि लोगों में श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी के कारण रोष है। उन्होंने कहा कि श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार और एसजीपीसी प्रधान बादलों की जेबों से निकलते है और इसके लिए लोग उनके खिलाफ किसी ना किसी प्रकार से अपने गुस्से का इजहार कर रहे है।

उधर एसजीपीसी सदस्य मनजीत सिंह बप्पीआना और सरदूल गढ़ के विधायक दिलराज सिंह ने दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की। उन्होंने कहा कि पंथ के सर्वोच्च प्रतिनिधियों के खिलाफ ऐसी गंदी हरकत करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ लोग विदेशी इशारों पर यह नापाक हरकतों को अंजाम दे रहे है।

– सुनीलराय कामरेड