BREAKING NEWS

शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾महाराष्ट्र : राष्ट्रपति शासन के बाद उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेता अहमद पटेल से की मुलाकात ◾लगातार 5 दिन से बढ़ते पेट्रोल के दाम पर लगा ब्रेक, डीजल के दाम भी स्थिर ◾महाराष्ट्र : शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस का नहीं हुआ गठबंधन, अब ऑपरेशन लोटस की तैयारी में BJP◾दिल्ली-NCR में सांस लेना हुआ दूभर, गंभीर श्रेणी में पहुंची हवा◾राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾

पंजाब

सिद्धू एक्शन में आये, समर्थकों से मुलाकात के बाद कहा, नहीं छोड़ रहे हैं कांग्रेस

अमृतसर : पंजाब कैबिनेट में विभाग बदलने के बाद नाराजगी में मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले क्रिकेटर से राजनेता बने नवजोत सिंह सिद्धू ने मंगलवार को यहां अपने समर्थकों से मुलाकात की और कहा कि वह कांग्रेस के साथ बने हुए हैं। 

सिद्धू ने अपने आवास पर नगर निकाय के स्थानीय पार्षदों सहित अपने समर्थकों से मंगलवार और बुधवार को मुलाकात की। 

सिद्धू के आवास पर मिलने वाले पार्षदों में से एक मोनिका शर्मा ने बताया, ‘‘ बैठक में यह स्पष्ट हुआ कि उन्होंने (सिद्धू ने) पंजाब मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया है न कि पार्टी से । उन्होंने बैठक के दौरान सभी लोगों को पार्टी के लिए कड़ी मेहनत के लिए प्रोत्साहित किया।’’ 

स्थानीय नेता के अनुसार, कांग्रेस विधायक ने कहा कि भविष्य में भी उनका पार्टी छोड़ने का कोई इरादा नहीं है । 

बुधवार को भी पार्टी कार्यकर्ता सिद्धू के बंगले पर जमा हुए । 

उनके विश्वस्त सहयोगी और एक पार्षद के बेटे मिठू मदान ने कहा, ‘‘सिद्धू ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वह उनके निर्वाचन क्षेत्र में घर घर जायें और लोगों की समस्याओं को सुनें और उसके बाद वह स्वयं भी ऐसा करेंगे ।’’ 

मदान ने बताया कि सिद्धू ने कार्यर्ताओं से कहा कि वह अगले छह महीने तक अपने निर्वाचन क्षेत्र में मौजूद रहेंगे । 

एक अन्य पार्षद दमनदीप सिंह उप्पल ने बताया, ‘‘सिद्धू ने सोसाइटियों को विकास कार्य के लिए 20 लाख रुपये के चेक वितरित किये । उन्होंने सरकारी अधिकारियों को फोन कर निर्देश दिये कि उनके निर्वाचन क्षेत्र में काम काज समय सीमा के भीतर पूरा किया जाना चाहिए ।’’ 

सिद्धू पहले भाजपा में थे और प्रदेश में 2017 में हुए विधानसभा चुनाव से ठीक पहले वह कांग्रेस में शामिल हो गए थे। 

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ सिद्धू के रिश्ते सहज नहीं है। छह जून को मंत्रिमंडल में हुए बदलाव में उनका स्थानीय सरकार और पर्यटन मंत्रालय का विभाग बदल कर, उन्हें ऊर्जा मंत्री बनाया गया था लेकिन उन्होंने यह पदभार ग्रहण नहीं किया। 

मुख्यमंत्री ने शनिवार को मंत्रिमंडल से सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया था। वहीं मोनिका शर्मा ने बताया कि बैठक में सिद्धू ने कहा कि वह जमीनी हकीकत जानने के लिए रोजाना अपने क्षेत्र का दौरा करेंगे।