BREAKING NEWS

World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23 करोड़ के करीब, साढ़े 46 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾उत्तराखंड : कल से शुरू होगी चारधाम यात्रा, CM पुष्कर सिंह धामी का ऐलान◾तेलंगाना कांग्रेस चीफ ने शशि थरूर को कहा था 'गधा', विवाद के बाद मांगनी पड़ी माफी ◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 34403 नए मामलों की पुष्टि, रिकवरी रेट 97.65 प्रतिशत ◾LAC विवाद : भारत की ड्रैगन को चेतावनी- रिश्तों को लेकर पूर्वाग्रहों से बाहर आये चीन◾कृषि कानूनों को एक साल पूरा : अकाली दल का 'ब्लैक फ्राइडे प्रोटेस्ट मार्च', धारा 144 लागू ◾SCO में ईरान और आर्मेनिया के विदेश मंत्री से मिले एस जयशंकर,अफगानिस्तान की स्थिति पर केंद्रित थी बातचीत ◾राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रमुख मंत्रियों, नेताओं समेत राहुल गांधी ने पीएम मोदी को दी जन्मदिन की बधाई◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दुशांबे में चीनी समकक्ष वांग से की मुलाकात◾आतंकी मॉड्यूल : ISI प्रशिक्षित आतंकवादी भारत में पुलों, रेलवे पटरियों को उड़ाने वाले थे - आधिकारिक सूत्र◾केशव प्रसाद मौर्य ने सपा पर साधा निशाना , कहा - रोजा-इफ्तार पार्टी करने वाले अब मंदिर-मंदिर घूम रहे हैं◾RSS पर विवादित बयान देने पर राहुल पर प्राथमिकी दर्ज करने पर विचार कर रहे हैं नरोत्तम मिश्रा◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुणे के दगडूशेठ हलवाई गणपति ट्रस्ट की सराहना की◾SC, ST, OBC , अल्पसंख्यक, महिलाओं के लिए योजनाओं को लेकर केंद्र ने GoM का किया गठन◾केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ शिरोमणि अकाली दल शुक्रवार को दिल्ली में करेगा प्रदर्शन ◾कोविड-19 टीकाकरण को लेकर गोवावासियों को संबोधित करेंगे PM मोदी◾भारत ने अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर चिंता व्यक्त की◾कोविड-19 की बूस्टर खुराक फिलहाल केंद्रीय विषय नहीं : केंद्र◾गुजरात : CM भूपेंद्र पटेल ने अपने पास रखे कई मंत्रालय, कनुभाई देसाई को वित्त विभाग की जिम्मेदारी सौंपी◾वित्त मंत्री सीतारमण बोली- कोरोना महामारी के समय जनधन-आधार-मोबाइल की तिगड़ी पासा पलटने वाली साबित हुई◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सिद्धू ने बिजली कटौती को लेकर अपनी ही सरकार का उड़ाया मजाक, दिल्ली मॉडल का पालन करने की दी नसीहत

पंजाब कांग्रेस में खींचतान खत्म नहीं हुई है और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू अभी भी आमने-सामने हैं। सिद्धू मुख्यमंत्री को निशाना बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। नया बिजली का मुद्दा है जिसको लेकर सिद्धू ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधा और इस आरोप के बाद मुख्यमंत्री ने जवाबी हमला कर कहा कि सिद्धू खुद डिफॉल्टर रहे हैं और उन्होंने अपने बिलों का भुगतान नहीं किया है।

सिद्धू ने बिजली कटौती को लेकर पंजाब में अपनी ही सरकार का मजाक उड़ाया और सरकार से उत्पादन कंपनियों को सब्सिडी देने के आप के दिल्ली मॉडल का पालन करने को कहा। प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल से मुलाकात करने वाले सिद्धू ने कहा, पंजाब में बिजली कटौती या मुख्यमंत्री के लिए कार्यालय समय या आम लोगों के एसी के उपयोग को विनियमित करने की कोई आवश्यकता नहीं है।

अगर हम सही दिशा में कार्य करते हैं। गांधी ने 30 जून को नई दिल्ली में अलग से मुलाकात की और उन्हें पंजाब की राजनीतिक स्थिति से अवगत कराया, जहां अगले साल की शुरूआत में चुनाव होंगे।

पंजाब कांग्रेस के असंतुष्ट नेता ने बुधवार को प्रियंका और राहुल से अलग-अलग मुलाकात की और ऐसी अटकलें हैं कि प्रियंका गांधी ने सिद्धू को पंजाब कांग्रेस प्रमुख बनाने का सुझाव दिया है, लेकिन मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और पार्टी के कुछ अन्य गुट इस फॉर्मूले को स्वीकार नहीं कर रहे हैं।

सिद्धू को संगठन में शीर्ष पर रखने के लिए प्रियंका गांधी द्वारा जाहिर तौर पर सुझाए गए फॉमूर्ले का राहुल गांधी ने समर्थन नहीं किया है और पूर्व कांग्रेस प्रमुख मुख्यमंत्री को सार्वजनिक रूप से निशाना बनाने के लिए सिद्धू से नाराज हैं। सूत्रों ने कहा कि पंजाब कांग्रेस के नेता सिद्धू को कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में स्वीकार कर सकते हैं, लेकिन एक पूर्ण राज्य इकाई के प्रमुख के रूप में नहीं, क्योंकि मुख्यमंत्री राज्य कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में एक गैर-सिख चेहरा रखने के इच्छुक हैं।

हालांकि कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने उम्मीद जताई कि अगले सप्ताह के आसपास इस मुद्दे को सुलझा लिया जाएगा। लेकिन अमरिंदर सिंह हार मानने वाले नहीं हैं क्योंकि उन्होंने गुरुवार को दोपहर के भोजन के लिए समर्थन करने वाले विधायकों को चंडीगढ़ में बुलाया और उनके समर्थन में रैली कर रहे हैं और सिद्धू के हर कदम को रोकने की कोशिश कर रहे हैं।

इस कदम ने कथित तौर पर पार्टी आलाकमान को परेशान कर दिया है, जो इसे शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखते हैं, खासकर जब कांग्रेस द्वारा पंजाब मुद्दे को देखने के लिए गठित पैनल ने कहा है कि मुख्यमंत्री को हटाने का कोई सवाल ही नहीं है। बुधवार को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ उनकी बैठकों के दौरान क्या हुआ, इसके बारे में सिद्धू चुप हैं, ना ही कांग्रेस ने दोनों पार्टियों को शांत करने के लिए कोई आधिकारिक बयान दिया है।

सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस ने मल्लिकार्जुन खड़गे के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया था, जिसने अपनी रिपोर्ट सोनिया गांधी को सौंप दी थी और यहां तक कि मुख्यमंत्री भी उनसे मिलने के लिए दो बार दिल्ली आए थे, लेकिन समिति द्वारा बुलाए जाने पर सिद्धू उनसे नहीं मिले और कॉल का जवाब भी नहीं दिया।

समिति ने अपनी रिपोर्ट में सुझाव दिया है कि चुनाव से पहले सिद्धू को एक महत्वपूर्ण भूमिका दी जाए, लेकिन मुख्यमंत्री सिद्धू को एक मंत्री के रूप में समायोजित करने के लिए तैयार नहीं हैं, जो सिद्धू को स्वीकार्य नहीं है जो चुनाव से पहले एक बड़ी भूमिका चाहते हैं।