BREAKING NEWS

UP: हाथरस पीड़ित का परिवार नहीं लड़ेगा विधानसभा चुनाव, कहा- पहले हमें इंसाफ दिलाओ◾UP चुनाव में JDU को नहीं मिला BJP का साथ, केसी त्यागी ने किया पार्टी के अकेले मैदान में उतरने का ऐलान ◾UP विधानसभा चुनाव: नेताओं को रिझाने के लिए कांग्रेस कर रही तरह-तरह के जतन ◾अखिलेश के चुनाव लड़ने पर BJP का तंज, नक़वी बोले-जुगाड़ से चल रही है विपक्ष का चौधरी बनने की जंग◾विश्व में कहीं खत्म नहीं हुआ कोरोना का आतंक, WHO ने ओमीक्रॉन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें क्या कहा? ◾World Corona: कोविड के वैश्विक मामलों में वृद्धि का दौर जारी, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 33.35 करोड़ के पार◾BJP ने मुलायम परिवार में लगाई बड़ी सेंध, भगवा दल में शामिल हुईं अपर्णा यादव ◾उत्तराखंड और गोवा चुनाव: BJP की CEC बैठक में उम्मीदवारों के नामों पर लगेगी मुहर, सीटों पर होगी चर्चा ◾कोविड 19 के गहराते संकट से जल्द मिलेगी राहत! कोरोना की तीसरी लहर को लेकर SBI के शोध में बड़ा दावा◾UP Assembly Election : सपा प्रमुख अखिलेश यादव लड़ेंगे विधानसभा चुनाव◾today's corona case: बीते 24 घंटों में कोविड के मामलों में हुई वृद्धि, सामने आए 2 लाख 82 हजार से ज्यादा नए मरीज◾UP : कोरोना गाइडलाइंस उल्लंघन मामले में सपा को राहत, चुनाव आयोग ने हिदायत देकर छोड़ा◾कोरोना ने डाला गणतंत्र दिवस समारोह पर असर, जानिए कौन होगा इस बार मुख्य अतिथि? ◾उत्तर भारत में अभी ठंड से ठिठुरन का सिलसिला रहेगा जारी, तो दिल्ली-UP समेत इन राज्यों में बारिश की संभावना◾उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में SP के लिए प्रचार करेंगी ममता बनर्जी◾भाजपा का दामन थाम सकती हैं मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव - सूत्र◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : राजनाथ ने ममता को बंगाल की झांकी न होने की बताई ये वजह !◾पंजाब : कांग्रेस के 4 नेताओं ने मंत्री को पार्टी से निकालने की मांग की, सोनिया गांधी को लिखा पत्र ◾विधानसभा चुनावों में डिजिटल माध्यम से रैलियां करेगी BJP◾केरल : कोविड के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पाबंदियों पर बृहस्पतिवार को फैसला लेगी राज्य सरकार ◾

सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष से दिया इस्तीफा लिया वापस, CM चन्नी के सामने रखी ये शर्त

नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से दिया गया अपना इस्तीफा वापिस ले लिया है। सिद्धू ने आज यहां चंडीगढ़ प्रैस क्लब में एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करने के दौरान यह जानकारी दी। उन्होंने इस्तीफा वापिस लेते हुए यह भी शर्त जोड़ दी कि जिस दिन राज्य का नया महाधिवक्ता नियुक्त होगा उसी दिन प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय जाकर अपना कामकाज संभाल लेंगे।

सामने रखी यह शर्त 

उल्लेखनीय है कि सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद  चरणजीत सिंह चन्नी के नये मुख्यमंत्री के रूप में पदभार सम्भालने और अमर प्रीत सिंह देओल को राज्य का महाधिवक्ता और  इकबाल प्रीत सिंह सहोता को राज्य का पुलिस महानिदेशक(डीजीपी) नियुक्त किये जाने के विरोध में सिद्धू ने गत 28 सितम्बर को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से अपना इस्तीफा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिया था।

तो यह थी सिद्दू को आपत्ति 

सिद्धू की आपत्ति थी कि देओल गुरू ग्रंथ साहिब की बेअदबी को लेकर बरगाड़ में विरोध प्रदर्शनों के दौरान हुई फायरिंग मामले में कथित आरोपी और तत्कालीन डीजीपी सुमेद सिंह सैनी की अदालत में पैरवी कर रहे थे और उन्होंने ही  सैनी को जमानत दिलाई थी।

चन्नी सरकार पर सवाल उठाए थे

सिद्धू हाल ही में फिर से चन्नी सरकार पर सवाल उठाए थे लेकिन अगले ही दिन उन्होंने चन्नी के साथ देहरादून पहुंच कर पार्टी के प्रदेश मामलों के पूर्व प्रभारी हरीश रावत से मुलाकात की थी। दोनों नेताओं ने बाद में केदारनाथ धाम पहुंच कर पूजा अर्चना भी थी।

हाईकमान का दबाव

अब अचानक बदले घटनाक्रम में सिद्धू ने प्रदेशाध्यक्ष पद से इस्तीफा वापिस लेने की घोषणा कर दी है जिसके पीछे एक कारण हाईकमान का दबाव भी बताया जा रहा है। इस तरह की सम्भावनाएं प्रबल हो रहीं थी कि सिद्धू अगर इस्तीफा वापस नहीं लेते है राज्य में निकट भविष्य में विधानसभा चुनावों को देखते हुए हाईकमान उनका विकल्प भी तलाश रहा था। इसी की भनक लगते ही सिद्धू ने अपना इस्तीफा तत्काल वापिस लेने की घोषणा कर दी है।

CM बघेल पर जमकर चले चाबुक, गोवर्धन पूजा अनुष्ठान के तहत मुख्यमंत्री ने सहा ‘सोटे’ का प्रहार