BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

सिंह साहिब अजनाला ने रंजीत सिंह ढंढरिया वाले को एक बार फिर दी चुनौती, कहा- ‘टीवी पर डिबेट नहीं बल्कि श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की हुजूरी में करेंगे पंथक मुद्दों पर विचार’

लुधियाना : पिछले लंबे अर्से से सिख धर्म प्रचारक भाई रंजीत सिंह ढंढरिया वाले से पंथक मुद्दों पर विचार-विमर्श करने को लेकर छिड़े विवाद के दौरान सोशल मीडिया पर एक दूसरे के खिलाफ वीडियो जारी करने के बाद आज गुरूमति विद्यालय दमदमी टकसाल जत्था भिंडरा-मेहता अजनाला के मुख्य प्रबंधक और 2015 में सरबत खालसा द्वारा नियुक्त किए गए सिंह साहिब जत्थेदार भाई अमरीक सिंह अजनाला ने आज खुलकर मीडिया के सामने एक बार फिर ढंढरिया वाले को खुली चुनौती दी है। 

श्री हुजूर साहिब से यात्रा करके वापिस पहुंचे भाई अमरीक सिंह अजनाला ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि वह भाई रंजीत सिंह ढंढरियावाले से श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की हुजूरी में जहां भाई रंजीत सिंह चाहते हैं पंथक मुद्दों पर विचार चर्चा करने के लिए तैयार हैं। भाई अजनाला ने यह भी कहा कि रंजीत ङ्क्षसह ढंढरिया वाला विचार चर्चा करने से भाग रहे हैं। वह टीवी पर डिबेट करने के लिए कह रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि प्राचीन सिख इतिहास की परंपराओं के मुताबिक पंथक मुद्दों पर विचार-विमर्श और किसी भी प्रकार की तकरार मिटाने के लिए हमेशा श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की उपस्थिति में सगत के भारी एकत्रित हो कर चर्चा की जाती है ना कि टीवी चैनलों पर या फिर बंद कमरों में विचार-विमर्श होता है। उन्होंने ढंढरिया वाले को वह बात करने के लिए तैयरा है, बातचीत की जगह भी आप तय करें, समय भी और तारीख भी लेकिन जो भी बात होंगी श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की हुजूरी के सामने होंगी। उन्होंने यह भी कहा कि हमें किसी भी स्थान पर कोई खतरा नहीं। 

ज्ञात हो कि पिछले कुछ समय से अलग-अलग सिख जत्थेबंदियों द्वारा सिख धर्म प्रचारक रंजीत सिंह ढंढरिया वाले पर सिख इतिहास को लेकर तोड़-मरोड़ कर गलत ढंग से पेश करने के आरोप लगे थे। इसी दौरान दमदमी टकसाल और भाई अमरीक सिंह अजनाला द्वारा खुले तौर पर ढंढरिया वाले के सजाएं गए धार्मिक दीवानों का विरोध किया जा रहा था। 

इसी विवाद को निपटाने के लिए श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा भाई ढंढरिया वाले से बातचीत करने के लिए सिख विद्धानों की 5 सदस्य कमेटी बनाई गई, जिसके सामने पेश होने से ढंढरिया वाले ने स्पष्ट इंकार किया था। ढंढरिया वाले का कहना था कि जत्थेदार द्वारा पक्षपात किया जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि लुधियाना में छबील के नाम पर उनके एक सिख साथी की हत्या कर दी गई, जबकि जत्थेदार द्वारा इसकी सार्वजनिक निंदा तक नहीं की गई। आखिर ढंढरिया वाले ने भारी पुलिस बंदोबस्त के तहत सजने वाले धार्मिक दीवान को यह कहकर त्याग दिया कि वे सजने वाले दीवान के दौरान किसी भी प्रकार का खून-खराबा नहीं चाहते या इस विवाद में किसी की गिरफ्तारी हो। 

-सुनीलराय कामरेड