BREAKING NEWS

Maharashtra Politics: मुख्यमंत्री शिंदे के साथ शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई के लिए रवाना◾ बडा़ खुलासा : कन्हैया का सर कलम करने वाले मौहम्मद रियाज ने की थी बीजेपी दफ्तर की रेकी, गौस ने पाक में ली आतंकी ट्रेनिंग ◾ IPS Transfer list: यूपी में 21 IPS अधिकारियों का हुआ ट्रांसफर, इन जिलों के SP बदले गए, देखें पूरी सूची◾आंख निकालने, सिर काटने की धमकी देने वाले जहरीले मौलाना को गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही मिली जमानत ◾वकीलों ने की कन्हैया के कसाईयों की धुनाई, जबरदस्त पिटाई, वीडीयो सोशल मीडीया पर वायरल ◾भाजपा की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक शुरु, प्रधानमंत्री मोदी भी मौजूद◾ कन्हैयालाल के परिवार को एक करोड़ की आर्थिक सहायता देंगे भाजपा नेता कपिल मिश्रा◾ बिहार में नीतीश कुमार NDA के चेहरा थे, हैं और रहेंगे, JDU नेता उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान ◾ Nupur Sharma: सस्पेंड BJP नेता नूपुर के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, 10 FIR हैं दर्ज◾ presidential election : चुनाव दो विचारधाराओं की लड़ाई बन गया है: यशवंत सिन्हा◾KCR की बीजेपी को खुली चुनौती- मेरी सरकार गिराकर दिखाओ मैं केंद्र सरकार गिरा दूंगा ◾मोहम्मद जुबैर को लगा बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिज, हिरासत में भेजा गया ◾कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी BJP का सदस्य नहीं, बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा ने सभी दावों का किया खंडन◾शिंदे को शिवसेना से निकालने पर भड़के बागी, कहा - हमारी भी एक सीमा ◾ Amravati Murder Case: अमरावती में हुई उदयपुर जैसी घटना, 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या◾ Udaipur Murder Case: कांग्रेस का बड़ा दावा, कन्हैया हत्याकांड में आरोपी रियाज के BJP नेताओं से संबंध◾पाकिस्तानी सैन्य जनरलों को प्रोपर्टी डीलर बोलने वाले पत्रकार पर हमला ◾सीएम रह चुके फडणवीस कैसे डिप्टी सीएम बनने के लिए हो गए राजी ! भाजपा ने कैसे मनाया ◾महाराष्ट्र : विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए MVA ने राजन साल्वी को बनाया उम्मीदवार, कल होगा चुनाव◾वायनाड में बोले राहुल- मनरेगा की गहराई को नहीं समझ पाए प्रधानमंत्री मोदी◾

पंजाब कांग्रेस के दिग्गज नेता सुनील जाखड़ ने छोड़ा 'हाथ' का साथ, आलाकमान को लेकर कही ये बड़ी बात

सबसे पुरानी और बड़ी सियासी पार्टी कांग्रेस इन दिनों अपने आगामी भविष्य को लेकर तीन दिवसीय चिंतन शिविर का आयोजन कर रही है। ऐसे में पार्टी को पंजाब में एक बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस के कद्दावर नेता सुनील जाखड़ ने कांग्रेस छोड़ने का ऐलान कर दिया है।  

चिंतन शिविर के बीच पार्टी को बड़ा झटका 

राजस्थान के उदयपुर में जारी चिंतन शिविर के बीच कांग्रेस के लिए यह बड़ा झटका है। कांग्रेस का साथ छोड़ते हुए उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस पार्टी खटिया पर नजर आ रही है, गुड लक एंड गुड बाय टू कांग्रेस पार्टी। बता दें कि सुनील जाखड़ ने शनिवार को अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से लाइव होकर कांग्रेस छोड़ने का ऐलान किया। इसके अलावा पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष ने कांग्रेस में जातिगत समीकरण को ध्यान में रखकर की जा रही राजनीति पर सवाल उठाए और आलकमान पर निशाना साधा।  


सुनील जाखड़ ने इस वजह से छोड़ी पार्टी? 

सुनील जाखड़ ने कहा कि पंजाब में जो कांग्रेस के इंचार्ज थे, उन्हें नोटिस न देकर हमें दिया। अगर मेरी वजह से पंजाब में सरकार नहीं बनी तो हमें निकला क्यों नहीं गया। उन्होंने पार्टी हाईकमान पर निशाना साधते हुए कहा कि नोटिस देकर मेरा क्या बिगाड़ लेंगे। चापलूसों के साथ रहना आपको मुबारक हो, लेकिन फैसले तो लीजिए। सही हो या गलत हो ये तो समय ही बताएगा। सुनील जाखड़ ने ये ऐलान ऐसे वक्त किया है, जब उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर हो रहा है। यहां पर पार्टी के दिग्गज नेता जुटे हैं और आगे की रणनीति तय कर रहे है। 13 मई को शुरू हुआ ये शिविर तीन दिन चलेगा, जिसका आज दूसरा दिन है।  

ज्ञानवापी मस्जिद : कल भी होगी सर्वे की कार्रवाई, बिसेन ने कहा-वहां कल्पना से बहुत कुछ ज्यादा

नाराजगी से निकल कर आया ये बड़ा फैसला? 

ज्ञात हो कि सुनील जाखड़ पार्टी विरोधी गतिविधियों के खिलाफ अपने खिलाफ हुई कार्रवाई को लेकर पार्टी से नाराज चल रहे थे। 68 वर्षीय नेता ने कहा कि दिल्ली में बैठे कांग्रेस नेताओं ने पंजाब में पार्टी को बर्बाद कर दिया। उन्होंने कहा कि राज्य में कांग्रेस को एक गरीब बसपा के रूप में पेश करने का भी प्रयास किया गया था। उन्होंने भावनात्मक आक्रोश में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कहा कि आप अपनी विचारधारा से मत हटिए।  

राहुल गांधी की प्रशंसा की  

इसके साथ सुनील जाखड़ ने राहुल गांधी की प्रशंसा करते हुए उन्हें एक अच्छा इंसान बताया और कहा कि वह पार्टी की जिम्मेदारी पने हाथों में ले ले, तो बेहतर होगा। सुनील जाखड़ ने राहुल गांधी को चापलूसों से खुद को दूर करने का आग्रह किया। वहीं, उन्होंने गुड लक और अलविदा कांग्रेस कहते हुए अपनी बातें समाप्त की। 

गौरतलब है कि जाखड़ पिछले काफी समय से पार्टी विरोधी लाइन पर चल रहे थे, जिन्हें उनके "पार्टी विरोधी" बयानों के लिए कारण बताओ नोटिस दिया गया था, उन्होंने कारण बताओ नोटिस का जवाब नहीं दिया। इससे पहले कि अनुशासन विरोधी समिति ने उन्हें सर्वदलीय पदों से हटाने का फैसला किया।