BREAKING NEWS

विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की सुरक्षा पर केंद्र ने झाड़ा पल्ला, कहा- इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागरूकता मिशन की शुरुआत करेंगे ‘गोल्डन ब्वाय’ नीरज चोपड़ा ◾'ओमिक्रोन' के चलते सरकार ने पीछे खींचे अपने कदम, 15 दिसंबर से शुरू नहीं होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें◾सरकार ने राज्यसभा में बताया- देश में नक्सली हिंसा की घटनाओं में 70 फीसदी की आई कमी ◾किसानों की मौत के 'जीरो' रिकॉर्ड पर भड़की कांग्रेस, खड़गे बोले-यह किसानों का अपमान◾जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई बड़ी गिरावट, सरकार ने राज्यसभा में बताया पिछले एक साल में इतने जवान हुए शहीद ◾UP चुनाव : BJP ने खेला धार्मिक कार्ड, केशव मौर्य का नारा 'अयोध्या-काशी.... जारी, अब मथुरा की तैयारी' ◾अखिलेश का BJP पर कटाक्ष, बोले- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते ◾दिल्ली में 8 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने VAT में कटौती का किया ऐलान◾SKM का दावा '700 से ज्यादा किसानों ने गंवाई जान', तोमर बोले- सरकार के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं...◾4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾

तिहाड़ जेल में बंद आतंकी जगतार सिंह हवारा अधिकांश केसों में बरी, अदालत में फिर साबित नहीं हो पाए आरोप

लुधियाना : पंजाब के मुख्यमंत्री महरूम बेअंत सिंह क़त्ल केस में सजायाफता तिहाड़ जेल की सलाखों में बंद भाई जगतार सिंह हवारा आज फिर 31वें मुकदमें के दौरान बरी हो गए। इस केस  में भी पुलिस जगतार सिंह हवारा के  खिलाफ सबूत पेश नहीं कर पाई। इससे पहले हवारा 30 विभिन्न केसों में बरी हो चुके है। हालांकि उनके विरूद्ध 37 केस  विभिन्न अदालतों में चल रहे थे, जिनमें से मुख्य केस पंजाब के मुख्यमंत्री बेअंत सिंह क़त्ल केस है, जिसमें इन्हें उम्र भर की सजा घोषित हुई है। 

जगतार सिंह हवारा के वकील जसपाल सिंह मझपुर ने बताया कि हवारा अन्य 6 केसों  में घोषित 5 केसों की  सजा की अवधि पूरी कर चुके है जबकि बेअंत सिंह मर्डर केस  में वह सजा काट रहे है। और अब वे जगतार सिंह हवारा से संबंधित सभी केसों के फैसले इकट्ठे करके जेल आर्थारिटी के पास पहुंचकर हवारा के लिए मानव अधिकारों  को  लेकर पेरोल के  लिए अपील करेंगे। मझपुर ने यह भी बताया कि अब आखिरी केस में अंडर ट्रायल के चलते पे रोल के लिए अपील नहीं कर सकते थे, अब आखिरी फैसला भी आ चूका है और कोई भी केस अंडर ट्रायल नहीं बचा।

पे-रोल का रास्ता आसान हो चूका है। इससे पूर्व, जगतार सिंह हवारा को आरडीएक्स व एके 56 बरामदी के मामले में भी कोर्ट  ने बरी कर दिया था। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अरुण वीर विशिष्ट की कोर्ट ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से यह फैसला सुनाया था। फैसला गत माह 22 नवंबर को सुनाया गया था। पुलिस इस मामले में भी जगतार सिंह हवारा के खिलाफ कोई भी सुबूत पेश नहीं कर पाई। दिसंबर 1995 में पुलिस ने कथित तौर पर कुन्दनपुरी  इलाके में आरडीएक्स और एके 56 बरामद की थी। पुलिस ने इसके लिए जगतार सिंह हवारा को दोषी ठहराया था। कोर्ट में यह मामला 24 साल चला। कोतवाली पुलिस थाना जगतार सिंह हवारा के खिलाफ मामला 1995 में दर्ज किया गया था।

आज लुधियाना में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अतुल कसना की अदालत ने वर्ष 1995 में घंटाघर चौक के  पास हुए बम ब्लास्ट मामले में जगतार सिंह हवारा को बरी कर  दिया है। सरकारी  पक्ष ने 23 गवाह पेश करवाए , लेकिन किसी ने भी हवारा की  वारदात के  समय शिनाख्त नहीं की। जब यह बम ब्लास्ट हुआ था, तब पंजाब में आतंकवाद का दौर था। मामले में जगतार सिंह हवारा को  आरोपित बनाया गया। 

एडवोकेट जसपाल सिंह का कहना था कि आरडीएक्स और एके 56 बरामदी के मामले में पुलिस जगतार सिंह के खिलाफ कोई भी ठोस सुबूत पेश नहीं कर पाई। इस फैसले के बाद जगतार सिंह हवारा को जेल से रिहा नहीं किया जाएगा, क्योंकि उसके खिलाफ कोर्ट में कई अन्य मामले भी चल रहे हैं। इससे पहले जुलाई 2016 में रूपनगर की अदालत ने भी बहुचर्चित बाबा भनियारांवाले के डेरे के बाहर बम धमाका  करने  के मामले में जगतार सिंह हवारा को बरी कर  दिया था। इस मामले में हवारा के खिलाफ दस जनवरी 2005 में जिला रूपनगर के नूरपुरबेदी में बहुचर्चित बाबा प्यारा सिंह भनियारांवाले के डेरे के गेट पर बम ब्लास्ट करने  के आरोप में केस दर्ज हुआ था।

-सुनीलराय कामरेड