BREAKING NEWS

प्रदूषण को लेकर SC की AAP सरकार को फटकार, जब बड़े घर पर हैं तो बच्चों के लिए क्यों खोले स्कूल? ◾Petrol-Diesel Price : दिल्ली में आज से नई कीमत लागू, जानिए आपके शहर में पेट्रोल-डीजल के दाम◾विश्व में ओमीक्रॉन के बढ़ते प्रकोप के बीच SII ने कोविशील्ड की बूस्टर डोज के लिए DCGI से मांगी मंजूरी ◾UPTET पेपर लीक: वरुण गांधी ने किया योगी सरकार पर कटाक्ष, पूछा- कब तक सब्र करे भारत का युवा... ◾ममता के 'UPA क्या है' वाले बयान पर बोले खड़गे-हमें मिलकर BJP से लड़ना है, आपस में न लड़े विपक्ष ◾राजधानी दिल्ली में हुई प्रदूषण की वापसी, बहुत खराब श्रेणी में दर्ज हुआ AQI, हल्की बारिश की संभावना ◾Today's Corona Update : 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट के बीच भारत में बढ़ी चिंता, एक दिन में 477 लोगों की हुई मौत◾लोकसभा में विपक्ष बनाए शांति तो कई अहम विधेयक पेश करेगी सरकार, ओमीक्रॉन वेरिएंट पर भी हो सकती है चर्चा ◾ भारत आने वाले है रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, 7.5 लाख AK-203 असॉल्ट राइफल डील हो सकती है फाइनल ◾मुरादाबाद : प्रियंका गांधी आज ससुराल में करेंगी ‘प्रतिज्ञा रैली’, पार्टी कार्यकर्ताओं में भरेंगी जोश◾पंजाब कांग्रेस में घमासान जारी, राहुल तक पहुंची जाखड़ Vs सिद्धू की लड़ाई, CM चन्नी ने भी की मुलाकात ◾केंद्र सरकार ने 15 दिसंबर से शुरू होने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगाई रोक, बाद में किया जाएगा विचार ◾विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की सुरक्षा पर केंद्र ने झाड़ा पल्ला, कहा- इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागरूकता मिशन की शुरुआत करेंगे ‘गोल्डन ब्वाय’ नीरज चोपड़ा ◾

सोशल मीडिया पर वायरल हुई जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब की वीडियों ने शुरू की नई बहस

लुधियाना- अमृतसर  : श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिह की इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक वीडियो ने सिख पंथ के अंदर नहीं बहस छेड़ दी है। जानकारी के अनुसार सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब के सिंह साहिब, जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई है, जिसमें सिंह साहिब ने कहा कि सिख मामलों के हल के लिए सिख कौम को एसजीपीसी पर निर्भर नहीं होना चाहिए।

इस वीडियो के कारण सिख कौम के अंदर आने वाले समय में कई विवाद पैदा हो सकते है। उधर अकाली दल दिल्ली के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना जो हमेशा ही अकाली दल बादल और एसजीपीसी के विरोध में रहते है उन्होंने इस वायरल हुई वीडियो की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा कि दशम ग्रंथ का विवाद सिख कौम के अंदर एक बड़ा विवाद है। इस लिए जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब को एक फैसला लेते हुए दशम ग्रंथ की विवाद के हल के लिए एक विद्वानों की कमेटी गठित करनी चाहिए। ताकि कौम के अंदर लंबे समय से लंबित पड़े इस विवाद को हल किया जा सके।

वीडियो में यह भी कहा गया है कि अगर संगत दशम ग्रंथ संबंधी आवाज बुलंद करे तभी इस विवाद का हल निकल सकता है। परंतु दशम ग्रंथ का प्रकाश एसजीपीसी के प्रबंधन वाले किसी भी गुरुद्वारा में नहीं होता। विशेष कर श्री अकाल तख्त साहिब पर कभी भी नहीं किया गया है। इस में सिंह साहिब ने यह भी कहा कि श्री अकाल तख्त साहिब से तीन पत्र एसजीपीसी को जारी किए जा चुके है कि एसजीपीसी विद्वानों की कमेटी गठित की जाए ताकि संगत में इस मुद्दे को लेकर पैदा विवाद का हल निकाला जाए। ताकि विद्वानों की रिपोर्ट को पांच साहिबान की बैठक में विचार करके सिख संगत को दिशा निर्देश जारी किए जाएं।

पंजाब के दो बाहरी तख्तों पर एक विशेष विचारधारा का हस्तक्षेप है अगर विद्वान कोई फैसला करते है जिस पर पांच सिंह साहिबान का आदेश जारी होता है तो पंजाब के बाहर के दोनों तख्तों पर भी यह फैसला लागू होगा। दशम ग्रंथ को लेकर सिख कौम तीन ग्रुपों में विभाजित है। एक ग्रुप दशम ग्रंथ को गुरु साहिब की रचना मनता है। और इस के गुरुद्वारा साहिबों में प्रकाश का पक्षधर है। जबकि दूसरा ग्रुप इस ग्रंथ को कवियों की रचना मानता है। जबकि तीसरा ग्रुप कहता है कि इस में कुछ रचनाएं गुरु साहिब की हो सकती है। कुछ रचनाएं अन्य लोगों की भी हो सकती है। इस संबंध में फैसला होना चाहिए। विद्वानों की कमेटी इस की जांच करे।

सरना ने सिंह साहिब की फैसले से सहमति प्रगट की है। उन्होंने कहा कि यह सही है कि एसजीपीसी एक प्रबंधकीय संस्था है। जबकि सिख कौम के फैसले श्री अकाल तख्त साहिब से होने चाहिए। सिंह साहिब खुद एक कमेटी गठित करें और इस विवाद से कौम को बाहर निकाला। जिस तरह सिंह साहिब व पूर्व जत्थेदार ज्ञानी जोगिंदर सिंह वेदांती ने नानक शाही कैलेंडर संबंधी एक कमेटी बना कर श्री अकाल तख्त साहिब से फैसला लिया था।

- सुनीलराय कामरेड