BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश में COVID-19 से चौथी मौत, आगरा में 76 साल की महिला ने तोड़ा दम◾गृह मंत्रालय ने भी राज्यों को लिखा पत्र, कहा- जमाखोरों, कालाबाजारी करने वालों पर हो सख्त कार्रवाई◾कोविड-19 की जांच को लेकर SC ने कहा-प्राइवेट लैब में मुफ्त हो कोरोना टेस्ट ◾देश में लॉकडाउन से उत्पन्न हालात पर विचार विमर्श के लिए PM मोदी ने की राजनीतिक दलों के नेताओं से चर्चा ◾ब्राजील के राष्ट्रपति ने कोरोना को लेकर PM मोदी को लिखी चिट्ठी, भारत की मदद को बताया संजीवनी◾हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन के निर्यात को मंजूरी मिलने के बाद बदले ट्रंप के सुर, PM मोदी को बताया महान◾देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5194 हुई, अबतक 149 लोगों की मौत ◾कोरोना वायरस को लेकर CM केजरीवाल राज्यसभा और लोकसभा सांसदों के साथ करेंगे बैठक◾PM मोदी ने भारतीय-अमेरिकी पत्रकार ब्रह्मा कांचीबोटला के निधन पर जताया शोक, कोविड-19 से हुआ निधन◾Covid-19 : PM मोदी आज लोकसभा और राज्यसभा के फ्लोर लीडर्स के साथ करेंगे बातचीत ◾अमेरिका में कोरोना के प्रकोप के बीच डोनाल्ड ट्रम्प ने की WHO के वित्त पोषण पर रोक लगाने की घोषणा◾Coronavirus : चीन के वुहान में 76 दिन के बाद खत्म हुआ लॉकडाउन ◾लॉकडाउन: दिल्ली पुलिस ने शब-ए-बारात के मद्देनजर मौलवियों, धार्मिक नेताओं से संपर्क साधा ◾ISIS आतंकी समूह ने सीआरपीएफ पर हुए ग्रेनेड हमले की जिम्मेदारी ली ◾कांग्रेस आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति में शामिल, सोनिया कर रहीं जनता को गुमराह: भाजपा ◾नोएडा सेक्टर 8 में कोरोना संदिग्ध मिलने के चलते 28 परिवारों के 240 से ज्यादा लोग एहतियातन क्वारंटाइन किए गए ◾कोविड-19 : महाराष्ट्र में कोरोना से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 1 हजार के पार◾दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान को किया गया बंद, अस्पताल के कई कर्मचारी COVID-19 से संक्रमित◾हरियाणा में कोरोना के 23 नए मामलें आये सामने, राज्य में संक्रमितों कि संख्या बढ़कर 119 हुई ◾जम्मू-कश्मीर में COVID-19 से एक और व्यक्ति की मौत, अब तक125 लोग संक्रमित◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सोशल मीडिया पर वायरल हुई जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब की वीडियों ने शुरू की नई बहस

लुधियाना- अमृतसर  : श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिह की इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक वीडियो ने सिख पंथ के अंदर नहीं बहस छेड़ दी है। जानकारी के अनुसार सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब के सिंह साहिब, जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुई है, जिसमें सिंह साहिब ने कहा कि सिख मामलों के हल के लिए सिख कौम को एसजीपीसी पर निर्भर नहीं होना चाहिए।

इस वीडियो के कारण सिख कौम के अंदर आने वाले समय में कई विवाद पैदा हो सकते है। उधर अकाली दल दिल्ली के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना जो हमेशा ही अकाली दल बादल और एसजीपीसी के विरोध में रहते है उन्होंने इस वायरल हुई वीडियो की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा कि दशम ग्रंथ का विवाद सिख कौम के अंदर एक बड़ा विवाद है। इस लिए जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब को एक फैसला लेते हुए दशम ग्रंथ की विवाद के हल के लिए एक विद्वानों की कमेटी गठित करनी चाहिए। ताकि कौम के अंदर लंबे समय से लंबित पड़े इस विवाद को हल किया जा सके।

वीडियो में यह भी कहा गया है कि अगर संगत दशम ग्रंथ संबंधी आवाज बुलंद करे तभी इस विवाद का हल निकल सकता है। परंतु दशम ग्रंथ का प्रकाश एसजीपीसी के प्रबंधन वाले किसी भी गुरुद्वारा में नहीं होता। विशेष कर श्री अकाल तख्त साहिब पर कभी भी नहीं किया गया है। इस में सिंह साहिब ने यह भी कहा कि श्री अकाल तख्त साहिब से तीन पत्र एसजीपीसी को जारी किए जा चुके है कि एसजीपीसी विद्वानों की कमेटी गठित की जाए ताकि संगत में इस मुद्दे को लेकर पैदा विवाद का हल निकाला जाए। ताकि विद्वानों की रिपोर्ट को पांच साहिबान की बैठक में विचार करके सिख संगत को दिशा निर्देश जारी किए जाएं।

पंजाब के दो बाहरी तख्तों पर एक विशेष विचारधारा का हस्तक्षेप है अगर विद्वान कोई फैसला करते है जिस पर पांच सिंह साहिबान का आदेश जारी होता है तो पंजाब के बाहर के दोनों तख्तों पर भी यह फैसला लागू होगा। दशम ग्रंथ को लेकर सिख कौम तीन ग्रुपों में विभाजित है। एक ग्रुप दशम ग्रंथ को गुरु साहिब की रचना मनता है। और इस के गुरुद्वारा साहिबों में प्रकाश का पक्षधर है। जबकि दूसरा ग्रुप इस ग्रंथ को कवियों की रचना मानता है। जबकि तीसरा ग्रुप कहता है कि इस में कुछ रचनाएं गुरु साहिब की हो सकती है। कुछ रचनाएं अन्य लोगों की भी हो सकती है। इस संबंध में फैसला होना चाहिए। विद्वानों की कमेटी इस की जांच करे।

सरना ने सिंह साहिब की फैसले से सहमति प्रगट की है। उन्होंने कहा कि यह सही है कि एसजीपीसी एक प्रबंधकीय संस्था है। जबकि सिख कौम के फैसले श्री अकाल तख्त साहिब से होने चाहिए। सिंह साहिब खुद एक कमेटी गठित करें और इस विवाद से कौम को बाहर निकाला। जिस तरह सिंह साहिब व पूर्व जत्थेदार ज्ञानी जोगिंदर सिंह वेदांती ने नानक शाही कैलेंडर संबंधी एक कमेटी बना कर श्री अकाल तख्त साहिब से फैसला लिया था।

- सुनीलराय कामरेड