BREAKING NEWS

कोविड-19 : देश में संक्रमण के मामले 18 लाख के पार, स्वस्थ होने वालों की संख्या 11.86 लाख हुई◾पीएम मोदी, राजनाथ, नड्डा ने रक्षा बंधन पर दी देशवासियों को शुभकामनाएं ◾दिल्लीः उपराज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री केजरीवाल ने रक्षाबंधन की बधाई दी ◾सुशांत राजपूत मामले की जांच के लिए मुंबई पहुंचे IPS विनय तिवारी को बीएमसी ने किया क्वारनटीन◾कर्नाटक के मुख्यमंत्री येदियुरप्पा भी कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में कराए गए भर्ती◾विदेशों से आने वाले यात्रियों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने नए गाइडलाइन्स जारी किए ◾बिहार में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, 53.67 लाख लोग बेहाल और जनजीवन बुरी तरह प्रभावित◾आईपीएल के लिए सरकार ने दी हरी झंडी, फाइनल 10 नवंबर को, चीनी प्रायोजक बरकरार ◾महाराष्ट्र में कोरोना का विस्फोट जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 4.41 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 9,509 नए केस◾ममता बनर्जी समेत अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के जल्द स्वस्थ होने की कामना की◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने प्रेम और भाईचारे के त्योहार रक्षाबंधन के अवसर पर देशवासियों को दी शुभकामनाएं◾तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित कोरोना पॉजिटिव पाए गए◾8 महीने बाद भी लटका है CAA , गृह मंत्रालय ने नियम बनाने के लिए तीन और महीने का समय मांगा◾बीते 24 घंटों में रिकॉर्ड 51,000 कोरोना मरीज हुए स्वस्थ, रिकवरी रेट बढ़कर हुआ 65.44 प्रतिशत◾कोरोना वायरस की चपेट में आए गृहमंत्री अमित शाह, ट्वीट कर दी जानकारी ◾राम मंदिर भूमि पूजन में शामिल होंगे महंत नरेंद्र गिरी, सुन्नी वक्फ बोर्ड को भी न्योता◾सुशांत सुसाइड केस : जांच में तेजी लाने के लिए पटना के सिटी SP विनय तिवारी को भेजा गया मुंबई ◾सुशांत सिंह राजपूत केस : केंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने CBI जांच की मांग को बताया जायज◾गैरकानूनी तरीके से नेताओं को हिरासत में लेने पर देश के लोकतंत्र को पहुंचता है नुकसान : राहुल गांधी◾UP की कैबिनेट मंत्री कमल वरुण का कोरोना संक्रमण से निधन, CM योगी ने जताया शोक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

महिलाओं के माथे पर जेब कतरी गुदवाने के मामले में 3 पुलिस अधिकारी पहुंचे जेल

लुधियाना-अमृतसर : 90 के दशक में चोरी के आरोपों का दंश झेल रही चार महिलाएं जो आपस में एक-दूसरे की नजदीकी रिश्तेदार है। आज वे और उनके परिवार के सदस्य बहुत खुश है। उनके मुताबिक उनपर लगे कलंक को लगाने वाले जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों को सीबीआई की विशेष अदालत ने जेल की सखीचो के पीछे पहुंचा दिया किंतु उन्हें दर्द भी है कि उनका बीता वक्त वापिस नहीं मिल सकता हालांकि वह तहदिल कानून का सम्मान करते नही थकती किंतु खाकी वर्दीधारियों को देखकर वह आज भी सहम जाती है। आज से 24 साल पहले पंजाब पुलिस द्वारा चोरी के एक मामले में अमृतसर स्थित श्री दरबार साहिब में माथा टेकने गई उक्त चारों महिलाओं को तत्कालीन जिम्मेदार अधिकारियों ने दबोचकर उनके माथे पर मशीन से जेबकतरी गुदवाने के बहुचर्चित मामले में आज पूर्व पुलिस अधिकारी सुखदेव सिंह छीना समेत अन्य खाकी वर्दीधारियों को सीबीआई की विशेष अदालत से कोई राहत नहीं मिली, जिसके परिणाम स्वरूप पुलिस अधिकारियों को जेल जाना पड़ा। छीना को अमृतसर जेल में शिफट कर दिया गया है।

पूर्व एसएसपी सुखदेव सिंह छीना समेत तत्कालीन सब इंस्पेक्टर नरेंद्र सिंह मल्ली और एएसआई कंवलजीत सिंह ने पिछले दिनों पटियाला की सीबीआई अदालत के जज बलजिंद्र सिंह ने 8 अक्तूबर 2016 को आरोपियों के खिलाफ 3-3 साल की कैद के साथ-साथ 5-5 हजार रूपए के जुर्माने की जो सजा सुनाई गई थी, इसके बाद मोहाली में सीबीआई की स्पैशल कोर्ट में अपील दायर हुई थी। उसे सीबीआई की विशेष उच्च अदालत के जज हरप्रीत सिंह की अदालत ने बरकरार रखते हुए अपना फैसला सुना दिया। जज हरदीप सिंह ने पंजाब पुलिस के उन अधिकारियों की निचली अदालत के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी और आखिर जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों को जेल जाना ही पड़ा।

उल्लेखनीय है कि 1993 में घटित इस घटना ने अखबारों की काफी सुर्खियां बटोरी थी। इस उपरांत इस मामले को मानव अधिकार कमीशन द्वारा भी दखलअंदाजी के कारण काफी चर्चा में रही थी। इस मामले में पीडि़त महिला गुरदेव कौर, परमेश्वरी देवी, महिंद्र कौर और जसविंद्र कौर थी, जिन्होंने बताया कि 8 दिसंबर 1993 को वे श्री हरिमंदिर साहिब के दर्शनों के लिए आई थी, जब वह सच्चखंड दरबार साहिब में माथा टेकने उपरांत घर जाने के लिए बस स्टैंड के नजदीक पहुंंची तो वहां पर मौजूद पंजाब पुलिस ने उन्हें काबू कर लिया। जिम्मेदार पुलिस अधिकारियों ने उनपर चोरी के आरोप लगाते हुए माथे पर जेब कतरी उकेर दिया था। पुलिस द्वारा उन्हें जब अदालत में पेश किया गया तो उनके माथे पर लगे कलंक को छुपाने के लिए दुपटटे से ढक दिया गया जबकि मीडिया द्वारा यह मामला उभारे जाने के कारण चर्चा में आ गया। नैशनल हयूमन राइटस कमीशन ने कड़ा संज्ञान लिया और हाईकोर्ट में रिट दायर की गई। हाईकोर्ट ने पीडि़त महिलाओं को मुआवजा दिलवाया और प्लास्टिक सर्जरी के जरिए जेबकतरी शब्द हटवा दिया।

किंतु संबंधित महिलाएं आज भी मुस्लिम बहुल क्षेत्र मालेरकोटला के आसपास नजदीकी गांव में अपने परिवार के साथ रह रही है। उनमें से एक गुरदेव कौर के मुताबिक उन दिनों आतंकवाद होने के कारण खाकी वर्दी का काफी डर था, इसलिए वह और उनका परिवार चाहकर भी कुछ नहीं कर पाया। परंतु आज उन्हें वाहे गुरू के दरबार से आस बंदी है कि भले ही इंसाफ देर से मिला लेकिन दरूस्त मिला, आज भी वे महिलाएं अपने संगे-संबंधियों और जान-पहचान वालों में उस दंश की पीड़ा को झेल रही है।

- सुनीलराय कामरेड