BREAKING NEWS

श्रीहरिकोटा से लॉन्‍च हुआ चंद्रयान- 2 , ISRO ने फिर रचा इतिहास◾कर्नाटक संकट : विधानसभा में बोले शिवकुमार- BJP क्यों स्वीकार नहीं कर रही कि वह कुर्सी चाहती है◾कर्नाटक : सुप्रीम कोर्ट का फ्लोर टेस्ट पर तत्काल सुनवाई से इंकार ◾विवादित बयान पर राज्यपाल मलिक ने दी सफाई, बोले-मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था◾शंकर सिंह वाघेला ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में धर्म के आधार पर लोगों को बांट रही है◾ISRO फिर रचने जा रहा इतिहास, चंद्रयान-2 का काउंटडाउन शुरू, आज दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर लॉन्चिंग◾केरल में NDA सहयोगी का दावा, कई कांग्रेस सांसद, विधायक BJP के संपर्क में ◾अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण अगले साल हर हाल में हो जाएगा शुरू : वेदांती◾मैं नाली, शौचालय साफ करने के लिए नहीं बनी हूं सांसद : प्रज्ञा सिंह ठाकुर ◾'कालेधन' को लेकर भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन करें कार्यकर्ता : ममता ◾जम्मू-कश्मीर राज्यपाल का विवादित बयान- पुलिसवालों की नहीं, भ्रष्ट नेताओं की हत्या करें आतंकी◾तृणमूल नेताओं को धमकाने वाले सीबीआई अधिकारियों का नाम बताए ममता : भाजपा ◾हिमा की 400 मीटर में वापसी, जुलाई में जीता पांचवां स्वर्ण पदक , PM मोदी ने दी बधाई !◾Top 20 News 21 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾इजराइल प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू 9 सितंबर को करेंगे भारत की यात्रा, PM मोदी से मिलेंगे◾सिद्धू ने चंडीगढ़ में आवंटित सरकारी बंगला खाली किया ◾सोनभद्र की घटना के लिए कांग्रेस और सपा नेता जिम्मेदार : CM योगी ◾मोदी सरकार ने देश को बदला, अच्छे दिन लाई : जेपी नड्डा ◾पंचतत्व में विलीन हुई शीला दीक्षित, राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार◾मुंबई : ताज होटल के पास की इमारत में लगी आग, एक की मौत ◾

पंजाब

किसानों को गेहूं की रतुआ बीमारी से अवगत करवाया

कृषि विभाग ने मिशन ‘तंदरूस्त पंजाब’ के तहत शुक्रवार को जिला के रहीमपुर गांव में किसान जागरूकता शिविर के दौरान किसानों को गेहूं की रतुआ (रस्ट) बीमारी के लक्षणों के बारे में जागरूक किया। कृषि विकास अधिकारी डॉ. सुरजीत सिंह और उप परियोजना निदेशक कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन एजेंसी (आत्मा) डॉ। विपुल चब्रा सहित विशेषज्ञों ने किसानों को पीली रस्ट के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि पीला रतुआ एक ऐसी बीमारी है, जो फसल की पैदावार में कमी का कारण बनती है और रोग पत्तियों पर पीले रंग की खुरदरी रैखिक धारियों के रूप में दिखाई देता है।

 उन्होंने किसानों से अपने गेहूं के खेतों की नियमित निगरानी करने के लिए कहा और गेहूं के पत्तों पर पीलापन आने के लक्षणों के मामले में, उन्हें अपनी गेहूं की फसल को 200 मिलीलीटर प्रति एकड़ प्रोपिकोनाजोल से छिड़काव करना चाहिए। उन्होंने बताया कि वर्तमान मौसम की स्थिति सहित तापमान, उच्च आर्द्रता और तेज हवाएं रतुआ रोग के लिए अनुकूल हैं। विशेषज्ञों ने किसानों को खेतों पर कड़ निगरानी रखने और यदि बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं, तो बिना समय गवांये छिड़काव करने को कहा।