BREAKING NEWS

पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 45 हजार के पार, अब तक 4167 लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾दिल्ली : तुगलकाबाद गांव की झुग्गियों में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची दमकल की 30 गाड़ियां ◾PNB धोखाधड़ी मामला: इंटरपोल ने नीरव मोदी के भाई के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस फिर से किया सार्वजनिक ◾कोरोना संकट के बीच, देश में दो महीने बाद फिर से शुरू हुई घरेलू उड़ानें, पहले ही दिन 630 उड़ानें कैंसिल◾देशभर में लॉकडाउन के दौरान सादगी से मनाई गयी ईद, लोगों ने घरों में ही अदा की नमाज ◾उत्तर भारत के कई हिस्सों में 28 मई के बाद लू से मिल सकती है राहत, 29-30 मई को आंधी-बारिश की संभावना ◾महाराष्ट्र पुलिस पर वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 18 की मौत, संक्रमितों की संख्या 1800 के पार ◾दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर किया गया सील, सिर्फ पास वालों को ही मिलेगी प्रवेश की अनुमति◾दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 276 लोगों की मौत, संक्रमित मामले 14 हजार के पार◾3000 की बजाए 15000 एग्जाम सेंटर में एग्जाम देंगे 10वीं और 12वीं के छात्र : रमेश पोखरियाल ◾राज ठाकरे का CM योगी पर पलटवार, कहा- राज्य सरकार की अनुमति के बगैर प्रवासियों को नहीं देंगे महाराष्ट्र में प्रवेश◾राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने हॉकी लीजेंड पद्मश्री बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾CM केजरीवाल बोले- दिल्ली में लॉकडाउन में ढील के बाद बढ़े कोरोना के मामले, लेकिन चिंता की बात नहीं ◾अखबार के पहले पन्ने पर छापे गए 1,000 कोरोना मृतकों के नाम, खबर वायरल होते ही मचा हड़कंप ◾महाराष्ट्र : ठाकरे सरकार के एक और वरिष्ठ मंत्री का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव◾10 दिनों बाद एयर इंडिया की फ्लाइट में नहीं होगी मिडिल सीट की बुकिंग : सुप्रीम कोर्ट◾2 महीने बाद देश में दोबारा शुरू हुई घरेलू उड़ानें, कई फ्लाइट कैंसल होने से परेशान हुए यात्री◾हॉकी लीजेंड और पद्मश्री से सम्मानित बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पंजाब के कई इलाकों की ऊंची बिल्डिंगों की छतों से दिखे हिमाचल की पहाड़ियों के नजारे

लुधियाना-जालंधर : कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के बीच आज पंजाब के कई इलाकों से सुखद खबरें प्राप्त हुई है, इन्हीं खबरों के बीच जालंधर, लुधियाना में बनी ऊंची इमारतों से शिमला और पठानकोट की पहाड़ियों पर बिखरी बर्फ से ढकी चोटियां दिखाई दी। कोरोना वायरस को लेकर जहां देशभर में लॉकडाउन है और जिंदगी की तेज रफ्तार थमी हुई है, वही दूसरी तरफ फैक्ट्रीयों और लाखों वाहनों के थमे पहियों के चलते वातावरण साफ और शुदध दिखाई देता है। आज जालंधर की ऊंची बिल्डिंगों की छतों से हिमाचल प्रदेश की पहाडिय़ां अचानक दिखाई दी। लोग मनोरंजन के चलते इन तस्वीरों को शेयर कर रहे है। 

जबकि प्रदूषण की कमी के चलते आसमान धीरे-धीरे साफ होकर नीले रंग का दिखाई देता है। जिस कारण 200 से 300 किमी दूर शिवालिक और हिमाचल पर्वत से लदे आसानी से दिखाई दे रहे है। इसी साफ वातावरण में पंछियों की चहचहाहट और अलग-अलग जातियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। मानव चाहे इस महामारी के चलते अपने घरों में कैद रहने को मजबूर है लेकिन दूसरी तरफ पंछियों की अलगअलग प्रजातियां इस साफ वातावरण का आंनद ले रही है।

स्मरण रहे कि पिछले कई दिन से चल रहे कर्फ्यू के कारण जहां लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है, वहीं प्रकृति और पर्यावरण को बहुत फायदा पहुंचा। वायु प्रदूषण न फैलने से शहर का वातावरण बिल्कुल साफ हो गया है। ऐसे में शहर के बाहरी इलाकों से हिमाचल प्रदेश के धौलाधार पहाड़ दिखने लगे हैं।

शुक्रवार सुबह गदईपुर के बाहरी हिस्से से ये सभी पहाड़ साफ दिखे। क्षेत्र के लोग घरों की छत पर चढक़र इन्हें देखने जुटने लगे। विशेषज्ञों के मुताबिक 30 वर्ष बाद हवा इतनी साफ हुई है कि 200 किमी. दूर ये पहाड़ जालंधर के लोगों को दिखाई दिए हैं।   दोआबा कॉलेज में भूगोलशास्त्र के विभाग प्रमुख प्रो. दलजीत सिंह ने बताया कि जालंधर से देखते वक्त जो पहाड़ दिख रहे हैं वे धौलाधार शृंखला के हैं। डलहौजी के ऊपर वाले बर्फीले पर्वत। बचपन में यह नजारा देखा हो तो पता नहीं लेकिन सुना बेशक है।

शहर के बाकी हिस्से में भी लोग छतों पर आकर इस नजारे को देख रहे हैं। कोई दूरबीन लेकर नजारे को निहार रहा था तो कोई इसे अपने कैमरे में कैद करने में जुटा था। बच्चे हों या बड़े हर किसी का उत्साह देखते ही बन रहा है। शहरवासी प्रकृति की खूबसूरती निहार कर हैरान है। प्रदूषण के कारण लोगों को कभी पता नहीं चला कि शहर से हिमाचल के पहाड़ देखे जा सकते हैं।

इस नजारे की चर्चा ट्विटर तक जा पहुंची है। भारतीय वन सेवा के अधिकारी सुशांत नंदा ने अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट करते हुए लिखा कि प्रकृति कैसी है और हमने इसके साथ क्या कर दिया है। उन्होंने लिखा कि जालंधर में धौलाधार पहाड़ 30 वर्ष बाद नजर आए हैं।

- रीना अरोड़ा