बादल परिवार पर अपने 10 साल साल के शासन के दौरान निजी हेलीकॉप्टरों से यात्रा में 121 करोड़ रूपये खर्च करने का आरोप लगा है। ये आरोप पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने लगाया है। साथ ही उन्होंने कहा की वह मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से इसकी जांच का आदेश देने का अनुरोध करेंगे। सिद्धू ने ये आरोप कांग्रेस विधायक संगत सिंह गिलजियान के बेटे दलजीत सिंह गिलजियान द्वारा एक आरटीआई अर्जी के जरिए हासिल की गई सूचना के आधार पर लगाए हैं।

सिद्धू ने कहा कि बादल परिवार ने साल 2007 से 2017 के बीच निजी हेलीकाप्टर यात्राओं पर 121 करोड़ रूपये खर्च किए। क्रिकेटर ने नेता बने सिद्धू ने दावा किया कि बादल परिवार ने करीब सात करोड़ रूपये सरकारी हेलीकॉप्टर पर खर्च किए। जबकि पिछले नौ महीनों में कांग्रेस सरकार ने सरकारी हेलीकॉप्टर पर सिर्फ 22 लाख रूपये खर्च किए हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं चार्टर्ड उड़ानों पर खर्च की गई भारी रकम के बारे में जान कर स्तब्ध हूं। यह धन ऐसे वक्त खर्च किया गया, जब राज्य की वित्तीय हालत खस्ताहाल थी।’

सिद्धू ने कहा कि वह मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल से इस विषय की जांच कराने का अनुरोध करेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री और मंत्री आधिकारिक यात्राएं निजी हेलीकाप्टर से नहीं कर सकते हैं, सिद्धू ने कहा कि वे विमान से यात्रा कर सकते हैं लेकिन वे भारी-रकम खर्च कर चार्टर्ड विमान से यात्रा करने के हकदार नहीं हैं। सरकार के पास जब हेलीकाप्टर है फिर क्यों आप चार्टर्ड विमान पर मोटी रकम खर्च करते हैं। सरकारी यात्रा के लिए सरकारी हेलीकॉप्टर का उपयोग किया जाना चाहिए।

सिद्धू के साथ मौजूद गिलजियान ने दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं उनके बेटे सुखबीर सिंह बादल द्वारा मार्च 2012 से दिसंबर 2013 के दौरान उपयोग किए गए वाहन पर 14 करोड़ रूपया खर्च किया गया।