लुधियाना-जालंधर : जालंधर में काउंटर इंटेलीजेंसी ने लुधियाना के भाजपा कार्यकर्ता रिंकल हत्या मामले में बड़ी सफलता हासिल की। इंटेलीजेंसी टीम ने जालंधर से 3 गैंगस्टारों को हत्यारों समेत गिरफतार किया है और तीनों गेंगस्टारों की पहचान गुरमीत सिंह बुद्धू लोहारा, मनजीत सिंह मन्नी ओर भूपिंद्र सिंह भिंदा निवासी होशियारपुर के रूप में हुई है। एआईजी हरकंवल प्रीत सिंह खॅखकी टीम ने इन तीनों को खतरनाक हथियारों समेत गिरफतार करने का दावा किया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पंजाब पुलिस के काउंटर इंटेलीजैंस विंग ने मंगलवार को लुधियाना के बहुचर्चित भाजपा वर्कर रिकंल हत्याकांड में सुपारी लेकर हत्या करने वाले तीन आरोपियों को गिरफतार किया है। पुलिस ने इनके कब्जे से वारदात में इस्तेमाल की गई पोलो कार सहित अवैध हथियार, कारतूस व दो अन्य कारें बरामद की है। इस संबंधी जानकारी देते हुए काउंटर इंटेलीजैंस के एआईजी एचपीएस खख ने कहा कि एक गुप्त सूचना मिली कि सतनाम सिंह उर्फ सुखी धीरोवाल की अगुवाई तले शुरू हुए शेरू गैंग के भूपिंदर, गुरमीत, मनमीत, काूनी कौल व गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी लंबर जोकि सुपारी लेकर हत्या व डकैती जैसे अपराधों का अंजाम देते है, जोकि एक एजेंसी में लूट करने के मकसद से होशियारपुर से टांडा शहर से लांसर कार में सवार होकर भोगपुर कस्बे की ओर आ रहे है।

पंजाब : काला-कच्छा गिरोह का होशियारपुर और गढ़शंकर में आतंक, 3 खूनी वारदातों को दिया अंजाम

एआईजी के अनुसार समय पर यह सूचना एसएसपी जालंधर देहात नवजोत सिंह माहल के साथ सांझी करते हुए काउंटर इंटैलीजेंस की टीम व एसएचओ भोगपुर की एक संयुक्त टीम बनाकर गैंगस्टर्स को काबू करने के लिए कहा गया। इस सूचना के आधार पर दोषियों के खिलाफ थाना भोगपुर में मामला दर्ज कर लिया गया था। जिस पर तीनों गैंगस्टर्स को मौके पर गिरफतार किया गया । जबकि अन्य मौके से भागने में सफल हो गए। जिनकी गिरफतारी के लिए पुलिस द्वारा इनका पीछा किया जा रहा है। गिरफतार गैंगस्टरों के कब्जे से पिस्तौल 9 एमएम व 32 बोर के साथ 11 जिंदा कारतूस व एक लांसर कार मौके से बरामद की गई। तथा प्राथमिक पूछताछ के बाद एक पोलो कार जोकि लुधियाना वारदाता में इस्तेमाल की गई, को बरामद किया गया।

प्राथमिक पूछताछ का खुलासा करते हुए खख ने बताया कि मृतक की मौत के दो दिन बाद पुलिस के सामने आत्मसंर्पण करने वाले एक नगर पार्षद के बेटे जतिंदर पाल सिंह सन्नी ने इन गैंगस्टरों को सुपारी देकर बुलाया था। दो दिन पहले लुधियाना पुलिस ने इस कत्ल केस में शामिल अन्य व्यक्तियों को भी गिरफतार किया गया था लेकिन मुखय आरोपी अभी फरार थे जिन्हें आज गिरफतार कर लिया गया। एआईजी ने बताया कि आरोपी सन्नी ने निजी रंजिश के चलते यह वारदात करवाई। आरापी सन्नी के सुक्खी के साथ संबंध थे तथा सुखी ने सन्नी से सौदा तय होने के बाद अपने गैंगस्टरों भूपिंदर, गुरमीत, मनमीत, मोनू कौल, गुरप्रीत, विशाल, दीपू चैरी रंग की पोलो कार में लुधियाना भेजा और यह सभी वहंा जाकर सन्नी से मिले जिसने उनके लिए होटल में कमरे बुक करवाए थे। सन्नी व बुद्धू अपने साथियों सहित होटल में आकर रात रूके अगली सुबह उन्होंने यहां नाश्ता किया।

सन्नी, बुद्धू की पोलो कार में होटल से चला गया था तथा कुछ समय बाद रॉड व अन्य हथियारों के साथ वापस आ गया। सुबह करीब दस बजे सभी होटल छोडक़र रिंकल पर हमला करने चले गए। रास्ते में सन्नी के दो साथी मोटर साइकिल पर सवार होकर उनके साथ मिल गए तथा सीधा रिकंल के घर पर हमला करने पहुंच गए। सन्नी ने एक लोहे की राड से रिकंल के सिर पर जोरदार वार किया जिसके बाद वह बेहोश हो गया लेकिन सभी उस पर वार करते रहे। एआईजी खख ने बताया कि वारदात के बाद वह सभी मौके से फरार हो गए तथा फिल्लौर होते हुए एसबीएस नगर जिला नवांशहर में सुखी धीरोवालिया को मिले।

सुखी नवांशहर में एक केस में तारीख पेशी पर गया हुआ था। वहंा उन्होंने दोपहर का खाना खाया और जालंधर वापस आ गए। एक दिन बाद सुखबी ने गुरमीत को बुलाया व रिकंल की मौत के बारे में बताया जिसके बाद सभी अंडरग्राउंड हो गए। एक गिरफतार गैंगस्टर ने अपनी पहचान छिपाने के लिए अपने बाल कटवा लिये थे तथा वह सभी अपने ठिकाने लगातर बदलते रहे। उन्होंने बताया कि मामले की जांच जारी है तथा और भी खुलासे होने की संभावना है।