लुधियाना- फगवाड़ा : शूगर मिल मालिकों द्वारा गन्ने की बाकाया राशि ना मिलने के कारण किसानों में भारी रोष पाया जा रहा है और इसी के चलते किसान पंजाब के किसी ना किसी हिस्से में धरना प्रदर्शन कर रहे है। मंगलवार को गन्ना किसानों द्वारा सरकार खिलाफ फगवाड़ा में धरना दिया गया। इस धरने से राष्ट्रीय राजमार्ग का यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ। इस धरने में पहुंचे किसान पंजाब सरकार के खिलाफ अपना विरोध जाहिर करते हुए नारेबाजी करते नजर आएं।

गन्ने की फसल को लेकर आज भारतीय किसान यूनियन दोआबा के बैनर के अंतर्गत हजारों किसानों ने पहले संदर शूगर मिल के बाहर धरना प्रदर्शन किया और इसके पश्चात बाद दोपहर गांव मोहटा के नजदीक जीटी रोड़ पर सडक़ के दोनों तरफ धरना दे दिया। इस धरने के कारण यातायात व्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है।

बरनाला में गद्दा – फोम फैक्टरी को लगी भयानक आग, मलबे से निकले तीन शव

कई दिनों से धरने पर बैठे किसानों ने फगवाड़ा में राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध करने का प्रयास किया। बाद में पुलिस के समझाने पर किसान शांत हुए। इस दौरान किसानों के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। इस दौरान किसानों ने मिल मालिकों व सरकार के खिलाफ जमकर रोष प्रदर्शन किया।

किसानों ने कहा कि जब तक उन्हें उनकी बकाया राशि नहीं दी जाएगी उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। किसान नेताओं ने कहा कि उनकी गन्ने की बहुत बड़ी रकम शुगर मिलों की तरफ बकाया है। इसी के तहत स्थानीय निजी शुगर मिल की तरफ भी 3500 परिवारों का करीब 60 करोड़ रूपये से अधिक की अदायगी बकाया है।

उन्होंने कहा कि किसान वर्ग पहले ही कर्ज में डूबा हुआ है व अदायगी न होने के चलते गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है। अगर मिल मालिकों व सरकार ने किसानों की गन्ने की रकम की अदायगी समय पर न की तो किसानों द्वारा किए जा रहे आंदोलन की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की होगी।

– रीना अरोड़ा