लुधियाना-अमृतसर : शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल और डॉक्टर दलजीत सिंह चीमा समेत अन्य अकाली आगुओं ने दिलों को शुद्ध करने हेतु श्री दरबार साहिब के लंगर हाल में संगत के झूठे बर्तन साफ करने के साथ-साथ संगत के जोड़े साफ करने की सेवा निभाई। स्मरण रहे कि अकाली दल ने अपने शासन काल के 10 सालों के दौरान हुई भूलों को बख्शाने के लिए आज श्री अकाल तख्त साहिब परिसर में श्री अखंड पाठ साहिब आरंभ करवाया हुआ है।

श्री अखंड पाठ साहिब आरंभ करवाने के अवसर पर पार्टी के हजारों आगुओं ने अरदास करके सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगी। इस अवसर पर उपस्थित पंथक नेताओं में से किसी ने भी मीडिया से कोई भी बातचीत करने से इंकार कर दिया। परंतु स. प्रकाश सिंह बादल का आज जन्मदिन और अकाली आगुओं ने संगत के जोड़े साफ करके मनाया। अकाली आगु 3 समूहों में श्री अकाल तख्त साहिब पर क्षमा याचना हेतु गले में सिरौपा डालकर पहुंचने की बजाए अरदासिए की तरह कुछ समय श्री अकाल तख्त साहिब के सम्मुख बैठे दिखे। स. सुखबीर ङ्क्षसह बादल पहले ही अपनी जैड प्लस अंगरक्षकों और साथियों समेत श्री अकाल तख्त साहिब पर पहुंचे और बाबा गुरबख्श सिंह जी के गुरूद्वारे में अखंड पाठ की आरंभता करवाई।

देश की एकता, अखंडता कायम रखने में सैनिकों का विशेष योगदान : वीरेंद्र कुमार

श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी, बरगाडी व बहिबल कला कांड तथा टकसाली अकाली नेताओं द्वारा पार्टी से अलग होकर नया अकाली दल बनाने के एलान के बाद पंजाब की पंथक राजनीति में हाशिया की तरफ बढ रहे अकाली दल बादल ने आखिर अपनी गिरती साख बचाने के लिए एक बार फिर श्री अकाल तख्त साहिब का सहारा लिया है। मीरी और पीरी की पहचान श्री अकाल तख्त साहिब का सहारा लेकर अकाली दल ने सिख पंथ की भावनाओं को राजनीतिक रूप में कैश करने की कोशिश शुरू कर दी है। आने वाले पंचायती चुनावों में अपने आधार को एक बार फिर से गांवों के अंदर मजबूत बनाने के लिए अकाली नेतृत्व ने अपने दस वर्षों की सत्ता के कार्यकाल में हुई गलतियों की माफी मांगने के लिए श्री अकाल तख्त साहिब पर माथा टेक कर अरदास की और श्री अखंड पाठ साहिब का पाठ शुरू करवाया।

अकाली के संयोजन प्रकाश सिंह बादल, अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल , बिक्रम सिंह मजीठिया और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल समेत अकाली दल का सारा नेतृत्व व वर्करों से लेकर कोर कमेटी के सदस्य इस अरदास में शामिल हुए। अकाली दल नेताओं के साथ साथ शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष समेत , एसजीपीसी के सदस्यों और अधिकारियों ने भी क्षमा अरदास में हिस्सा लेने के बाद श्री हरिमंदिर साहिब के जोड़ा घर में जा कर संगत के जोड़े साफ किए । इस के बाद अकाली नेता अपने वर्करों के साथ श्री गुरू राम दास लंगर हाल के बाहर बर्तन साफ करने वाली जगह पहुंचे और संगत के लंगर के जूठे बर्तन साफ किए।

अकाली नेता तीन दिनों तक श्री हमिरंदिर साहिब में रहेंगे और अलग अलग तरह की सेवा करके अपनी अपनी गलतियों की माफी मांगने के साथ साथ भूलों को वाहेगुरु से बशवाएंगे। सुबह सुखबीर सिंह बादल, प्रकाश सिंह बादल, हरसिमरत कौर बादल , बिक्रम मजीठिया अकाली नेताओं के साथ श्री हरिमंदिर साहिब पहुंचे। श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेकने के बाद श्री अकाल तख्त साहिब पर माथा टेका और श्री अकाल तख्त साहिब के पास ही स्थित गुरुद्वारा बाबा गुरबक्श सिंह में पहुंच कर अकाली दल से पिछले समय के दौरान हुई गलतियों की क्षमा मांगने के लिए अरदास की ओर अखंड पाठ साहिब की शुरूआत करवाई।

भाई सुलतान सिंह ने अरदास की और अरदास के दौरान भाई सुलनात ने यह कोई बात नही की है कि अकाली दल ने अपने पिछले दस वर्षों के शासन के कार्यकाल के दौरान कौन कौन की गलतियां की है जिस के लिए वह क्षमा याचना करने की लिए अखंड पाठ साहिब का पाठ करवा रहे है। सिर्फ यही बोला गया कि समूचा अकाली दल अपनी पिछले दस वर्षो के दौरान हुई गलतियों की क्षमा मांगने की अरदास कर रहा है।

श्री हरिमंदिर साहिब में अखंड पाठ शुरू करवाने के बाद अकाली नेता जौड़ाघर में संगत के जूते साफ करने की सेवा निभाने चले गए। परंतु सुखबीर बादल , हरसिमरत कौर बादल, प्रकाश सिंह बादल समेत किसी भी अकाली नेता ने मीडिया के साथ कोई बात नहीं की । ना ही यह बताया कि अकाली दल अपनी किन किन गलतियों को स्वीकार करता है और किन किन गलतियों की माफी मांगने के लिए श्री अकाल त त साहिब पर पहुंचा है। सुखबीर बादल और प्रकाश सिंह बादल ने मीडिया को कहा कि वह मीडिया के साथ सोमवार को ही श्री अखंड पाठ साहिब के पाठ के भोग के बाद सारी बाते खुल कर करेंगे।

– सुनीलराय कामरेड