लुधियाना : महाराष्ट्र के श्री गणेश उत्सव को लेकर अब पंजाब में भी अन्य राज्यों की तरह श्रद्धालुओं द्वारा शहर के विभिन्न मंदिरों में गणपति जी की मूर्तियां स्थापित की जा रही है।

गणेश भक्तों के समूह छोटी-छोटी टोलियों में बंटकर महानगरों लुधियाना, जालंधर और बठिण्डा समेत पटियाला के कई स्थानों पर पंडाल सजाकर विध्न हर्ता के नाम पर 10 दिन के उत्सव मनाए जा रहे है।

क्या आप जानते है गणपति को मोदक का भोग लगाने का रहस्य ?

कई शहर में से शोभायात्रा निकाल करके बैंड बाजों से रंग बिरंगे गुलाल खेल करके गणपति जी स्थापित किए गए। इस अवसर पर श्रद्धालुओं द्वारा मूर्ति स्थापना करके गणपति बप्पा की पूजा अर्चना करके मनोकामना मांगी गई।

जिस तरह हिंदुओ का पवित्र त्योहार श्री कृष्ण जन्माष्टमी कृष्ण जी के जन्म की खुशी में मनाई जाती है, उसी तरह गणपति उत्सव गणपति जी के जन्मदिन की खुशी में मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि गणपति उत्सव को डेढ़, तीन, पांच, सात, नौ व ग्यारह दिन तक घर में रखकर उसके बाद विसर्जित कर दी जाती है। उन्होंने कहा कि इस उत्सव में कलश पूजा, नौ पूजा, ज्योति जलाकर गणपति महाराज से घर में सुख शांति की कामना मांगी जाती है।