लुधियाना-अजनाला : पिछले दिनों राजासांसी के नजदीक गांव अदलीवाल के निरंकारी सत्संग भवन में हुए हैंड ग्रेनेड हमले के मामले में गिरफतार कथित दोषी आतंकी अवतार सिंह, निवासी चकमिशरीखां और विक्रमजीत सिंह, सुपुत्र सुखविंद्र सिंह धालीवाल को आज भारी सुरक्षा बंदोबस्त के तहत अदालत में पेश किया गया। अदालत ने दोनों का 6 दिनों के लिए पुलिस रिमांड पर पुन: भेज दिया है। दोनों को स्टेट स्पैशल सैल द्वारा अदालत में पेशी के लिए लाया गया था। 6 दिन के पुलिस रिमांड के बाद स्पष्ट है कि पुलिस द्वारा अभी तक जांच पड़ताल पूरी नहीं हो सकी और दोनों आरोपियों से अब और अधिक कड़ाई के साथ पूछताछ की जाएंगी।

जानकारी के मुताबिक पुलिस द्वारा निरंकारी भवन ग्रेनेड हमले को अंजाम देने वाले अवतार सिंह को 23 नवंबर के दिन 2 पिस्तौल, 4 मैगजीन और 25 जिंदा कारतूसों समेत गिरफतार करके 24 नवंबर को अदालत में पेश किया गया था और उसी दिन अदालत द्वारा अवतार सिंह को 1 दिसंबर तक पुलिस रिमांड पर भेजा था, जिस उपरांत इसी मामले की जांच कर रहे स्टेट आप्रेशन सैल द्वारा 1 दिसंबर के दिन अवतार को डयूटी मजिस्ट्रेट मैडम गीता रानी की अदालत में पेश करके 5 दिसंबर तक का पुलिस रिमांड हासिल किया था जबकि इसी मामले में शामिल दूसरे आतंकी विक्रमजीत सिंह को पुलिस ने 21 नवंबर को गिरफतार करके 22 नवंबर के दिन अदालत में पेश किया था और उसी दिन अदालत द्वारा विक्रमजीत सिंह को 27 नवंबर तक पहले पुलिस रिमांड पर भेजा था।

कश्मीर का मोस्ट वांटेड आतंकी जाकिर मूसा सिख भेष में आया नजर, अलर्ट जारी

पुलिस रिमांड खत्म होने के बाद 27 नवंबर को पुलिस द्वारा विक्रमजीत सिंह को पुन: अदालत में पेश करके 5 दिसंबर तक का रिमांड हासिल किया था और आज रिमांड खत्म होने उपरांत स्टेट स्पैशल आप्रेशन सैल द्वारा दोनों आतंकियों को भारी सुरक्षा प्रबंधों के अंतर्गत अजनाला अदालत में पुन: पेश किया गया। पुलिस जिला अमृतसर देहात के एसपीडी हरपाल सिंह ने बताया कि जडूशियल मजिस्ट्रेट द्वारा पुलिस की दलीलें सुनने के बाद दोनों आतंकियों को 6 दिन के लिए पुलिस रिमंाड पर भेज दिया है।

स्मरण रहे कि 18 नवंबर को राजासांसी के नजदीक दोनों आतंकियों ने ग्रेनेड हमला करके 4 लोगों को मौत की आगोश में सुला दिया था जबकि 25 से अधिक लोग जख्मी हुए थे। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पुलिस रिमांड के दौरान दोनों से विशेष पूछताछ की जा रही है। इनके भविष्य के इरादे क्या थे?

– सुनीलराय कामरेड