लुधियाना  : लुधियाना नगर निगम चुनाव में अल्पसंख्यकों को कांग्रेस पार्टी की टिकट देने की मांग करते हुए बीते दिनी पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवीं ने मुसलमानों की भावनाओं से कांग्रेस हाईकमान को अवगत करवा दिया था। शाही इमाम ने मांग की थी कि सभी विधानसभा क्षेत्रों में से 2-2 टिकटें दी जाए। शाही इमाम के इस ऐलान के बाद 6 फरवरी शाम 4 बजे के लगभग वार्ड नंबर-11 से कांग्रेस पार्टी की दावेदार श्रीमती आशा गर्ग अपने तीन साथियों के साथ जामा मस्जिद लुधियाना पहुंची और उन्होनें शाही इमाम जी से भेंट करते हुए उन्हें एक ज्ञापन सौंपा।

जिसके साथ मोहल्ले के ज्यादातर मुस्लिमों के नाम व दस्तखत के पन्ने भी जोड़े गए है। इस पत्र में यह लिखा गया कि वार्ड नंबर-11 से श्रीमती आशा गर्ग को कांग्रेस की टिकट दी जाए। जामा मस्जिद कार्यलय द्वारा इस पत्र की विश्वसनीयता जांचने की गर्ज से पत्र में शामिल लोगों से सम्पर्क किया गया तो यह जानकर हैरानी हुई कि अकसर लोगों को झूठ बोल कर दस्तखत करवाए गए कि मोहल्ले में सडक़ बनवाई जानी है। कुछ लोगों को यह कहा गया कि वोटर लिस्ट में आपका नाम ठीक किया जा रहा है और कुछ एक के जाली साइन भी किए गए।

आज यहां प्रैस वार्ता को संबोधित करते हुए नायब शाही इमाम मौलाना उसमान रहमानी लुधियानवीं ने कहा कि वार्ड नंबर-11 से कांग्रेस की टिकट की दावेदार श्रीमती आशा गर्ग की ओर से प्रदेश के मुसलमानों के मुखिया को गुमराह करने की कोशिश निंदनीय है। उन्होनें कहा कि हमने कांग्रेस पार्टी से लुधियाना में वार्ड-11 और 9 से अप्लाई करने वाले वर्करों के लिए टिकट मांगी यह हमारा हक है। लेकिन यह बड़ी शर्म की बात है कि पार्टी में शामिल कुछ लोग अल्पसंख्यकों के साथ ओछी हरकतें करके इस समुदाय को कांग्रेस से अलग करना चाहते है। नायब शाही इमाम मौलाना उसमान ने कहा कि हम प्रदेश अध्यक्ष श्री सुनील जाखड़ और लुधियाना कांग्रेस के प्रधान गुरप्रीत गोगी से मांग करते हैं कि आशा गर्ग को फौरी तौर पर पार्टी से निष्कासित किया जाए।

नायब शाही इमाम ने कहा कि हमने लोकसभा व विधानसभा में पार्टी को सत्ता में लाने के लिए इंकलाबी कदम इस लिए नहीं उठाए कि समय आने पर हमारे साथ ही छल-कपट किया जाए। उन्होनें बताया कि जिन लोगों के जाली हस्ताक्षर करके श्रीमती आशा गर्ग ने शाही इमाम साहिब को ज्ञापन सौंपा है वह सभी लोग आज यहां जामा मस्जिद में अपना-अपना हलफिया ब्यान लेकर पहुंचे है, जिसमें उन्होनें यह लिखा है कि उनके हस्ताक्षर झूठ बोलकर करवाए गए हैं। एक प्रश्न का उत्तर देते हुए नायब शाही इमाम मौलाना उसमान के बताया कि पार्टी के कुछ लीडरों की तरफ से अल्पसंख्यकों को अगर नजरअंदाज किया गया तो अपना हक लेने के लिए 1 लाख से अधिक मुसलमान सांसद रवनीत सिंह बिट्टू के घर तक मार्च करेगें। उन्होनें कहा कि हमें उम्मीद है कि पार्टी हाईकमान कांग्रेस नेत्री आशा गर्ग के खिलाफ पार्टी हाईकमान व शाही इमाम पंजाब को गुमराह करने की कोशिश के मद्देनजर सख्त फैसला लेगी।

– सुनीलराय कामरेड

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।