BREAKING NEWS

आज का राशिफल (02 जून 2023)◾एस जयशंकर ने दक्षिण अफ्रीका के विदेश मंत्री से की मुलाकात◾जांच रिपोर्ट का बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं : ब्रज भूषण◾दिल्ली की सड़कों पर उतारी जा रही हैं छोटे आकार की इलेक्ट्रिक मोहल्ला बसें , रूट निर्धारण के लिए सर्वे शुरू◾दिल्ली HC ने SpiceJet को कलानिधि मारन को 380 करोड़ रुपये का भुगतान करने का दिया आदेश ◾उत्तराखंड : मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना के तहत प्रति माह 5,000 रुपये देने के फैसलों को मंजूरी ◾अप्रैल में भारत में 74 लाख से अधिक व्हाट्सएप खातों पर लगा प्रतिबंध◾KCR 2 जून से शुरू होने वाले 21 दिनों के समारोह के साथ राज्य गठन को चिह्नित करेंगे ,दस साल सुशासन का प्रमाण◾हरियाणा पुलिस ने लॉरेंस बिश्नोई-गोल्डी बराड़ गिरोह के 10 शार्पशूटरों को दबोचा ◾CM Shivraj Chouhan ने दिया आदेश, मध्य प्रदेश के दमोह में हिजाब मामले की होगी जांच ◾NCERT लोकतंत्र को चुनौतियां सहित कक्षा 10 की पाठ्यपुस्तकों से अन्य अध्याय हटाए, छात्रों की पढाई का बोझ होगा कम ◾राष्ट्रपति मुर्मू से नेपाल के पीएम पुष्प कमल दहल ने की मुलाकात◾ऑस्ट्रेलियाई उच्चायुक्त बैरी ओ'फारेल ने बेंगलुरु में कर्नाटक के CM सिद्धारमैया से मुलाकात की◾कांग्रेस पटना में विपक्षी दलों की बैठक में लेगी हिस्सा, 12 जून को तय किया गया तारीख◾बृजभूषण सिंह का बड़ा दावा, 'दोषी साबित हुआ तो फांसी लगा लूंगा'◾ रविशंकर प्रसाद राहुल गांधी के विदेश में दिए बयान पर किया कटाक्ष, कहा- "GDP के आंकड़ों ने आपके 'नफ़रत के बाज़ार' के दावों को झुठलाया"◾ बिहार में विपक्ष की बैठक, उद्धव ठाकरे, शरद पवार को भी 2024 लोकसभा चुनावों के खाके पर चर्चा के लिए आमंत्रित: संजय राउत◾Wrestler Protest: संसदीय पैनल ने पहलवानों के मुद्दे पर की बैठक, सरकार से तत्काल हस्तक्षेप की मांग की◾हिमाचल प्रदेश में एक दिन के लिए बच्चे चलाएंगे विधानसभा, राज्य सरकार ने 12 जून को किया "बाल सत्र" आयोजित◾"मेकेदातु बांध परियोजना" को लेकर एडप्पादी पलानीस्वामी ने कर्नाटक को विरोध प्रदर्शन करने की दी चेतावनी◾

‘ऐसा लगता है सोनिया गांधी नहीं, वसुंधरा राजे हैं गहलोत की नेता’...पायलट ने राजस्थान CM को फिर घेरा

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने मंगलवार को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर तीखा कटाक्ष करते हुए कहा कि धौलपुर में उनके भाषण से पता चलता है कि उनकी नेता "सोनिया गांधी नहीं बल्कि वसुंधरा राजे सिंधिया हैं". गहलोत ने दावा किया था कि वसुंधरा राजे उन भाजपा नेताओं में शामिल थीं, जिन्होंने 2020 में पायलट और कांग्रेस के कुछ विधायकों के विद्रोह के दौरान राज्य में नेतृत्व परिवर्तन की मांग करते हुए उनकी सरकार को बचाने में मदद की थी.

एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, पायलट ने यह भी कहा कि वह अब समझ गए हैं कि गहलोत ने राज्य में भाजपा सरकार के दौरान भ्रष्टाचार के आरोपों पर "कार्रवाई क्यों नहीं की". धौलपुर में अशोक गहलोत का भाषण सुनने के बाद ऐसा लगता है कि उनकी नेता सोनिया गांधी नहीं वसुंधरा राजे सिंधिया हैं... पहली बार किसी को अपनी ही पार्टी के सांसदों और विधायकों की आलोचना करते देख रहा हूं. पायलट ने कहा, कांग्रेस के नेता मेरी समझ से परे हैं. उन्होंने कहा, "अब मैं समझ गया हूं कि मुख्यमंत्री (अशोक गहलोत) ने भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की."

राजस्थान कांग्रेस में फिर मचा घमासान 

पायलट का हमला उस महत्वपूर्ण राज्य में गहलोत के साथ उनके टकराव को और बढ़ा देता है जहां इस साल के अंत तक चुनाव होने हैं. गहलोत पर हमला कर्नाटक चुनाव में मतदान से एक दिन पहले हुआ, जिसमें कांग्रेस एक महत्वपूर्ण लड़ाई लड़ रही है. राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट ने घोषणा की कि वह 11 मई से अजमेर से जयपुर तक पांच दिवसीय 'जन संघर्ष यात्रा' आयोजित करेंगे. उन्होंने कहा, "यह यात्रा भ्रष्टाचार के खिलाफ है. आगे का फैसला इस यात्रा के बाद लिया जाएगा." राज्य में भाजपा शासन के दौरान कथित भ्रष्टाचार के लिए गहलोत सरकार द्वारा कार्रवाई की मांग को लेकर पायलट ने पिछले महीने एक दिन का उपवास किया था, यहां तक कि पार्टी नेतृत्व ने उन्हें इसके खिलाफ चेतावनी दी थी।

हार के डर से झूठ बोल रहे गहलोत 

भाजपा नेता वसुंधरा राजे ने अशोक गहलोत के दावों का खंडन करते हुए कहा था कि ''मेरे खिलाफ गहलोत का बयान एक साजिश है. गहलोत ने जितना अपमान किया है, उतना कोई मेरा अपमान नहीं कर सकता. वह 2023 के विधानसभा चुनाव में हार के डर से झूठ बोल रहे हैं और इस तरह के झूठे आरोप लगा रहे है क्योंकि वह अपनी ही पार्टी में बगावत से बौखला गए है।''

सरकार गिराना हमारी परंपरा नहीं 

गहलोत ने वसुंधरा राजे और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दो अन्य नेताओं को 2020 के संकट के दौरान उनकी सरकार को बचाने में मदद करने का श्रेय दिया था, जब कांग्रेस के कुछ विधायकों ने विद्रोह कर दिया था. रविवार को धौलपुर में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गहलोत ने  कहा कि "राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, शोभा रानी और कैलाश मेघवाल को पता था कि उनकी पार्टी के लोग सरकार गिरा रहे हैं. वसुंधरा राजे सिंधिया और कैलाश मेघवाल ने कहा था कि पैसे के बल पर चुनी हुई सरकार को गिराना हमारी कभी परंपरा नहीं रही है." गहलोत ने कहा था कि उन्होंने सरकार गिराने वालों का समर्थन नहीं किया, जिससे हमारी सरकार बची.