BREAKING NEWS

निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾Today's Corona Update : एक दिन में 8 हजार से ज्यादा नए मामले, 1 लाख से कम हुए एक्टिव केस◾जम्मू-कश्मीर : पुलवामा मुठभेड़ में जैश-ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर◾Winter Session: लोकसभा में आज 'ओमिक्रॉन' पर हो सकती है चर्चा, सदन में कई बिल पेश होने की संभावना ◾महंगाई : महीने की शुरुआत में कॉमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, रेस्टोरेंट का खाना हो सकता है मंहगा◾UPTET 2021 पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार◾कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾

राजस्थान: कांग्रेस में जारी कलह में लगेगा विराम? 15 नए मंत्री, 11 कैबिनेट मंत्री और 4 राज्य मंत्री आज लेंगे शपथ

 कांग्रेस में लगातार जारी अंदरूनी कलह के बीच आज कैबिनेट का पुनर्गठन हो रहा है, शनिवार को कैबिनेट के सभी मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया था। अशोक गहलोत के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में फेरबदल के तहत 15 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी। इसमें 11 कैबिनेट और 4 राज्य मंत्री होंगे। 2018 में कार्यभार संभालने के बाद पहली बार और तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के नेतृत्व में विद्रोह के लगभग 16 महीने बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल होगा। 

नए मंत्रिमंडल से संतुष्ट है उपमुख्यमंत्री पायलट 

कांग्रेस आलाकमान द्वारा अंतिम रूप दिए गए नए मंत्रिमंडल में 5 मंत्री होंगे जिन्हें पायलट के समर्थक के रूप में देखा जा रहा है।पायलट के वफादार रमेश मीणा और विश्वेंद्र सिंह मंत्रालय में लौटेंगे, जबकि बृजेंद्र सिंह ओला, हेमाराम चौधरी और मुरारीलाल मीणा प्रवेश करेंगे। मुरारीलाल मीणा को राज्य मंत्री के रूप में शामिल किया जाएगा जबकि अन्य 3 कैबिनेट मंत्री होंगे। 

मंत्रिमंडल विस्तार से की अनुसूचित जाति और जनजाति को साधने की कोशिश 

2 साल बाद होने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर कुछ पायलट वफादारों को शांति फॉर्मूले के हिस्से के रूप में शामिल करने का फैसला लिया गया है। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समुदायों को भी संदेश देने का प्रयास किया जा रहा है। तीनों राज्य मंत्री जिन्हें पदोन्नत किया जा रहा है वे अनुसूचित जाति समुदायों से हैं: टी भजनलाल जाथव, ममता भूपेश और टीकाराम जूली।

अनुसूचित जनजाति समुदाय के होंगे 3 मंत्री 

पूर्व सांसद गोविंद राम मेघवाल और रमेश मीणा कैबिनेट मंत्री और मुरारीलाल मीणा। गहलोत सरकार को 13 निर्दलीय का समर्थन मिलने के बावजूद, कांग्रेस नेतृत्व ने किसी को भी शामिल नहीं करने का फैसला किया है। बसपा के एक विधायक, जो कांग्रेस में शामिल हुए थे, राजेंद्रसिंह गुढ़ा को राज्य मंत्री के रूप में परिषद में जगह मिलेगी।

संख्यात्मक स्थिति के साथ-साथ गुटीय समीकरण भी होंगे शामिल

जिन विधायकों को मंत्रिमंडल में पद नहीं मिल रहा है, उन्हें भी कहीं शामिल किया जाएगा। 22 विधायकों को दूसरा पद दिया जाएगा, इनमें से 7 को मुख्यमंत्री का सलाहकार और 15 को संसदीय सचिव बनाया जाएगा। बता दें कि पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने बदली हुई संख्यात्मक स्थिति के साथ-साथ गुटीय समीकरणों को भी शामिल किया। भाजपा से एक सीट छीनकर और हाल के उपचुनावों में एक सीट को बरकरार रखते हुए, कांग्रेस ने 200 सदस्यीय विधानसभा में अपने दम पर बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।