BREAKING NEWS

BJP ने कांग्रेस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों को उकसाने का आरोप लगाया ◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : योगेन्द्र यादव, टिकैत, पाटकर सहित 37 किसान नेताओं के खिलाफ नामजद प्राथमिकी ◾राजनाथ ने अमेरिका के नये रक्षा मंत्री ऑस्टिन से क्षेत्रीय, वैश्विक मुद्दों पर बात की ◾बंगाल विधानसभा का दो दिवसीय सत्र शुरू, कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाएगी तृणमूल ◾हिंसा में शामिल थे किसान नेता, शर्तों को नहीं मानकर किया विश्वासघात : पुलिस कमिश्नर◾केंद्र सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस,1 फरवरी से खुलेंगे सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल◾आप नेता राघव चड्डा ने हिंसा के मुद्दे पर बीजेपी को घेरा, लगाए कई गंभीर आरोप◾दिल्ली में हिंसा के लिए गृह मंत्री जिम्मेदार, कांग्रेस ने कहा- केवल 30 से 40 ट्रैक्टर लेकर उपद्रवी लाल किले में कैसे घुस पाए?◾हिंसा के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो संगठनों ने खुद को किया अलग◾26 जनवरी हिंसा: राकेश टिकैत, अन्य किसान नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज◾गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में कानून-व्यवस्था की समीक्षा की ◾संयुक्त किसान मोर्चा की सफाई - असामाजिक तत्वों ने शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को नष्ट करने की कोशिश की◾दिल्ली पुलिस ने ट्रैक्टर परेड में हिंसा के संबंध 200 लोगों को हिरासत में लिया, पूछताछ जारी ◾BCCI प्रमुख सौरव गांगुली को सीने में दर्द, अपोलो हॉस्पिटल में कराया गया एडमिट ◾नेपाल में कोविड टीकाकरण का पहला चरण शुरू, भारत ने तोहफे में दी है 10 लाख वैक्सीन डोज◾ किसान ट्रैक्टर परेड: गणतंत्र दिवस पर हिंसा की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल◾दो दिवसीय दौरे पर केरल पहुंचे राहुल, मलप्पुरम में गर्ल्स स्कूल के भवन का किया उद्घाटन ◾किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश हुई कामयाब : हन्नान मोल्लाह◾किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा में 300 पुलिसकर्मी हुए घायल, क्राइम ब्रांच करेगी जांच◾ट्रैक्टर परेड हिंसा : संयुक्त किसान मोर्चा ने बुलाई बैठक, सभी पहलुओं पर होगी चर्चा ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

CM गहलोत बोले-BJP में गुटबाजी चरम पर पहुंची, विधायकों को बचाने के लिए की जा रही है बाड़बंदी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि देश का दुर्भाज्ञ हैं कि ऐसे लोग सत्ता में बैठे हुए हैं जो लोकतंत्र को कमजोर करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार सत्ता में है और बाड़बंदी बीजेपी कर रही है। इससे साफ लगता है कि उनका षड़यंत्र सफल नहीं हो रहा। 

जैसलमेर में अपने समर्थक विधायकों से मिलने पहुंचे अशोक गहलोत ने कहा कि बीजेपी के कैलाश मेघवाल पहले ही कह चुके है कि चुनी हुई सरकार को गिराने का षडयंत्र गलत परंपरा है। बीजेपी के कई विधायक भी ऐसा मानते हैं। उन्होंने कहा कि अब बीजेपी अपने विधायकों की तीन-चार अलग स्थान पर समूहों में बाड़बंदी कर रही है। 

गहलोत ने कहा कि जब राज्य में कांग्रेस की सरकार है तो फिर बीजेपी को अपने विधायकों की बाड़बंदी करने की नौबत क्यो आई? इससे जाहिर है कि बीजेपी में गुटबाजी चरम पर पहुंच गई है और आपसी फूट के कारण विधायकों को टूटने से बचाने के लिए बाड़बंदी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि हम लोकतंत्र की रक्षा के लिए विधायकों को एकजुट कर रखे है। जीत हमारी होगी, क्योंकि जनता हमारे साथ है। यह देश का दुर्भाज्ञ है कि केंद्र में सत्ता में ऐसे लोग बैठे हैं जो संकट के समय में सरकार गिराने लगे हैं, जबकि इस समय लोगों का जीवन और रोजगार बचाने की जरूरत है। ऐसे लोग किस प्रकार शासन चला रहे हैं इसे समझा जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि मैने खुद प्रधानमंत्री से बात की। गृह मंत्री अमित शाह के क्या बात करें? उनका रवैया किसी से छुपा नहीं है। केंद्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान एवं पीयूष गोयल जिनका नाम वे पहले भी ले चुके हैं और ये सब मिलकर षडयंत्र रच रहे हैं। ये लोग लोकतंत्र को कमजोर कर रहे है। जिसे जनता ने 70 साल से सहेज कर रखा।

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि यह लड़ाई लोकतंत्र को बचाने के लिए है और यह 14 अगस्त के बाद भी जारी रहेगी। विजय हमारी होगी, विजय सत्य की होगी, विजय प्रदेशवासियों की होगी और विजय उन सभी विधायकों की होगी, चाहे वह पक्ष में हो या विपक्ष में। सभी विधायकों को पत्र लिखे जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैंने सभी विधायकों को पत्र लिखा है और उनसे कहा है कि वे अपनी अंतरात्मा की बात सुने। साथ ही अपने क्षेत्र की जनता की आवाज सुनकर फैसला लें।

वसुंधरा राजे की दिल्ली में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात के बारे में जब सीएम से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बीजेपी क्या करती है, इसके बारे में मुझे कुछ मतलब नहीं है, लेकिन देश में लोकतंत्र को कमजोर कर रही है। जिसको देश और प्रदेश की जनता कभी बर्दाश्त नहीं करेगी। 

अशोक गहलोत ने बागी विधायकों के बारे में कहा कि अधिकांश बागी वापस हमारे साथ आयेंगे, लेकिन यह चिंताजनक है कि उनकी सुरक्षा के लिए 200-200 पुलिसकर्मी तैनात किये जा रहे हैं। उनके परिवार वालों को उनसे मिलने नहीं दिया जा रहा है और सुरक्षा का कड़ा पहरा है। एसओजी और एसीबी भी गई थी कानूनी रूप से बातचीत करने, लेकिन उन्हें भी नहीं मिलने दिया गया। 

उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेताओं सहित कांग्रेस के बागी विधायकों के खिलाफ घर-घर में गुस्सा है। ऐसे में 19 विधायक खुद समझ गए होंगे और उनमें से अधिकांश लोग वापस हमारे साथ आ जायेंगे।