BREAKING NEWS

लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾कोरोना संकट : दिल्ली सरकार ने राजस्व की कमी के कारण केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपए की मदद ◾मन की बात में PM मोदी ने योग के महत्व का किया जिक्र, बोले- भारत की इस धरोहर को आशा से देख रहा है विश्व◾'मन की बात' में PM मोदी ने देशवासियों की सेवाशक्ति को कोरोना जंग में बताया सबसे बड़ी ताकत◾तमिलनाडु सरकार ने 30 जून तक बढ़ाया लॉकडाउन, सार्वजनिक परिवहन की आंशिक बहाली की दी अनुमति ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 82 हजार के पार, महामारी से 5164 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

CM अशोक गहलोत बोले-एक्स्ट्रा कांस्टीट्यूशनल अथॉरिटी के रूप में काम कर रहा है RSS

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए कहा कि वह देश में ‘एक्स्ट्रा कांस्टीट्यूशनल अथॉरिटी’ (संविधानेत्तर प्राधिकार) के रूप में काम कर रहा है और उसकी मर्जी के बिना न कोई मंत्री बन सकता है, न मुख्यमंत्री न ही प्रधानमंत्री। उन्होंने कहा कि आरएसएस को खुद को राजनीतिक पार्टी में बदलकर खुलकर चुनावी मैदान में उतरना चाहिए। 

गहलोत विधानसभा में भारतीय संविधान को अंगीकृत करने के 70 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष में भारत के संविधान तथा मूल कर्तव्यों पर हुई चर्चा में भाग ले रहे थे। सामने बैठ प्रतिपक्ष बीजेपी के सदस्यों की ओर इशारा करते हुए गहलोत ने विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्तियों का जिक्र किया और कहा, ‘‘आरएसएस का दबदबा बढ़ रहा है सब क्षेत्रों में और भविष्य में आप अपनी 'मोदी है तो मुमकिन है' की योजना पर आप कामयाब हो जाओ ये आपकी चाल है।’’ 

संविधान को केंद्र बिंदु बनाकर भविष्य की ओर देखना होगा : सचिन पायलट

उन्होंने कहा, ‘‘आपातकाल के दौरान संजय गांधी पर आरोप लगता था कि ये देश में ‘एक्स्ट्रा कांस्टीट्यूशनल अथॉरिटी’ के रूप में काम कर रहे हैं। वे तो करते थे या नहीं, सब जानते हैं पर आज आरएसएस ‘एक्स्ट्रा कांस्टीट्यूशनल अथॉरिटी’ के रूप में काम कर रहा है देश में। बिना उससे पूछे न कोई मंत्री, न मुख्यमंत्री, न प्रधानमंत्री बन सकता है। बिना उनकी मर्जी के कोई नहीं बन सकता।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘आरएसएस के प्रचारक रहे मोदी मुख्यमंत्री बन गए। बाद में प्रधानमंत्री बन गए, इसका मतलब आरएसएस का ही राज है। वल्लभभाई पटेल ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया तो बाद में आपने माफी मांगी कि हम अब कभी राजनीति में भाग नहीं लेंगे केवल सांस्कृतिक क्षेत्र में काम करेंगे।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री कम से कम देश से एक माफी मांगे कि उस वक्त हम महात्मा गांधी व पटेल को समझ नहीं पाए थे, इसलिए उस वक्त हम इनका नाम लेते नहीं थे इनको मानते नहीं थे। अब हम इनको दिल से मानते हैं, दिमाग से मानते हैं। खाली दिमाग से नहीं मानते हैं।’’ 

इसके साथ ही गहलोत ने आरएसएस को राजनीतिक संगठन के रूप में काम करने की सलाह देते हुए कहा, ‘‘आरएसएस को मेरी एक सलाह है कि अब इनको अपने आपको राजनीतिक दल में बदल लेना चाहिए। किसी वक्त आपने राजनीतिक नहीं करने का लिखकर दिया होगा, वह अलग बात थी। अब आप देश पर राज कर रहे हो आपको लिखकर देना चाहिए कि आरएसएस खुद सरकार में बदल जाए। नाम चाहे बीजेपी का रहे।’’ 

गहलोत ने कहा, ‘‘आरएसएस के विचारक गोविंदाचार्य ने किसी समय कहा था कि तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी मुखौटा हैं, हमारे पीछे कोई और है। मैं चाहूंगा कि कृपया करके आप आरएसएस को राजनीतिक दल में बदल दो। खुलकर मैदान में आओ फिर देखो क्या होता है। आपका मुकाबला करेंगे हम।’’