BREAKING NEWS

ओमीक्रोन का असर कम रहने का अंदाजा, वैज्ञानिक मार्गदर्शन पर होगा बूस्टर देने का फैसला◾सुरक्षा के प्रति किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है भारतीय नौसेना : एडमिरल कुमार◾एक बच्चे सहित तीन यात्री कोरोना संक्रमित , जांच के बाद ही ओमीक्रन स्वरूप की होगी पुष्टि : तमिलनाडु सरकार◾जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

CM गहलोत बोले- कृषि कानून वापिस लेना केन्द्र के अहंकार की हार, पायलट ने कहा- अन्नदाताओं के लंबे संघर्ष की जीत हुई

आज शुक्रवार का देश के उन किसानों के लिए खास बन गया है, जो लगभग पिछले एक साल से केंद्र की मोदी सरकार के तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे थे। ऐसे में विपक्षी दल भी अपनी लगातार प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे है। इसी कड़ी में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा को लोकतंत्र की जीत व केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार के अहंकार की हार बताया है। साथ ही गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार ने यह फैसला उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव को देखते किया है।

गहलोत ने कहा- मैं किसान आंदोलन में शहादत देने वाले सभी किसानों को नमन करता हूं

गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘तीनों काले कृषि कानूनों की वापसी की घोषणा लोकतंत्र की जीत एवं मोदी सरकार के अहंकार की हार है। यह पिछले एक साल से आंदोलनरत किसानों के धैर्य की जीत है।’’

गहलोत ने कहा,‘‘ देश कभी नहीं भूल सकता कि मोदी सरकार की अदूरदर्शिता एवं अभिमान के कारण सैकड़ों किसानों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। मैं किसान आंदोलन में शहादत देने वाले सभी किसानों को नमन करता हूं। यह उनके बलिदान की जीत है।’’

मोदी व उनकी सरकार के लोग समझ नहीं पा रहे थे

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस समिति मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत में गहलोत ने कहा कि केंद्र की सरकार देश व देश के किसानों की भावनाओं को समझने में विफल रही और घमंड में रही जिस कारण केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन साल भर चला और सैकड़ों किसान मारे गए।

गहलोत ने कहा, ‘‘ आंदोलनकारी किसान पूरे देश व किसानों की भावनाओं का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। मोदी व उनकी सरकार के लोग समझ नहीं पा रहे थे। इसे समझने में केंद्र सरकार विफल रही इसी कारण एक साल गुजर गया। संघर्ष चलता रहा सैंकड़ों किसान मारे गए।’’ 

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए घबराहट में यह फैसला किया है

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए घबराहट में यह फैसला किया है। उन्होंने कहा, ‘‘ उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री खुद तीन दिन जाकर डेरा डाल रहे हैं, चुनाव में जीत के लिए प्रधानमंत्री खुद जा रहे हैं और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को वहां संभागवार बूथ प्रबंधन की जिम्मेदारी सौंपी गई है, इससे अंदाज लगा लीजिए कि आज का फैसला भी उत्तर प्रदेश के चुनाव को देखते हुए लिया गया है।’’

कांग्रेस हमेशा किसानों के हर आंदोलन में उनके साथ खड़ी रही है और आगे भी खड़ी रहेगी- डोटासरा 

उन्होंने कहा, ‘‘ इससे अंदाजा लगा लीजिए कि इनमें कितनी घबराहट है। इस घबराहट के कारण आज इनको फैसला करना पड़ा है।’’ कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा किसानों के हर आंदोलन में उनके साथ खड़ी रही है और आगे भी खड़ी रहेगी।

उन्होंने कहा कि भाजपा और केंद्र की उसकी सरकार का अहंकार व बेईमानी का खुलासा देश के सामने हो चुका है। डोटासरा ने कहा, ‘‘इन्हें माफी मांगनी चाहिए और किसानों की आमदनी दोगुनी करने सहित अपने वादों पर काम करना चाहिए। यही प्रजातंत्र का तकाजा है, लेकिन इनसे उम्मीद नहीं है।’’

‘‘अन्नदाताओं के लंबे संघर्ष की आज जीत हुई है’’- सचिन पायलट  

पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी इसे किसानों की जीत बताया है। पायलट ने ट्वीट किया, ‘‘अन्नदाताओं के लंबे संघर्ष की आज जीत हुई है।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘ किसान शक्ति द्वारा उठाई गई सत्य और न्याय की आवाज के समक्ष हुकूमत के अहंकार को झुकना पड़ा और तीनों कृषि विरोधी कानून वापस लेने पड़े।

अखिलेश के बिगड़े बोल से संत समाज हुआ आहत, कहा- साधुओं को राजनीतिक युद्ध में घसीटने से बचना चाहिए

किसानों के बहते लहू, त्याग व बलिदान ने एक ऐतिहासिक अध्याय लिखा है, जिसे सदैव याद किया जाएगा।' किसान सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमराराम ने ट्वीट किया,‘‘ कहा था ना, किसान हार कर, अपमानित होकर नहीं जायेगा, किसान अपना हक लेकर ही वापस घर जाएगा।’’

संसद के आगामी सत्र में विधेयक लाया जाएगा

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष राजाराम मील ने ट्वीट कर इसे किसानों की जीत बताया है। मील ने ट्वीट किया, ‘‘सरकार द्वारा काले कानून वापस ले लिए गए। किसानों की जीत हुई है। किसानों का संघर्ष रंग लाया। किसानों की एकता जिन्दाबाद।’’ भादरा से विधायक व किसान सभा के संयुक्त सचिव बलवान पूनियां ने ट्वीट किया,‘‘ किसान-मजदूर एकता जिंदाबाद।’’

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले करीब एक वर्ष से अधिक समय से विवादों में घिरे तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की घोषणा शुक्रवार को की। इसके लिए संसद के आगामी सत्र में विधेयक लाया जाएगा। तीनों कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन कर रहे थे।