BREAKING NEWS

CBI ने हेमंत बिस्व सरमा से पूछताछ नहीं की , राजीव कुमार ने कलकत्ता HC से कहा◾कुमारस्वामी सरकार का हटना कर्नाटक की जनता के लिए खुशखबरी : BJP◾लोकतंत्र, ईमानदारी और कर्नाटक की जनता हार गई : राहुल ◾अमित शाह ने कर्नाटक को लेकर पार्टी नेताओं से किया मशविरा◾कुमारस्वामी ने राज्यपाल वजूभाई वाला को सौंपा अपना इस्तीफा ◾BJP के शीर्ष नेताओं से सलाह के बाद राज्यपाल से मिलूंगा : येदियुरप्पा ◾अब 5 राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों में ही बची कांग्रेस की सरकार ◾‘किंगमेकर’ माने जाने वाले कुमारस्वामी बने ‘किंग’, लेकिन राजगद्दी जल्दी ही हाथ से निकली ◾कर्नाटक में गिरी कुमारस्वामी सरकार, विश्वास प्रस्ताव के पक्ष पड़े 99 वोट , BJP पेश करेगी सरकार बनाने का दावा ◾येदियुरप्पा के शपथ लेने के बाद मुम्बई से लौटेंगे कर्नाटक के बागी विधायक◾कश्मीर के बारे में ट्रंप के प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया से चकित हूं : इमरान खान ◾खुशी से पद छोड़ने को तैयार हूं : कुमारस्वामी ◾बोरिस जॉनसन बने ब्रिटेन के नए PM, यूरोपीय संघ से देश को बाहर निकालना होगी बड़ी चुनौती◾कश्मीर मुद्दे पर नरेंद्र मोदी और इमरान खान को मिलकर करनी चाहिए पहल - फारुख अब्दुल्ला◾Top 20 News 23 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भाजपा ने ट्रंप के दावे पर विपक्ष के रूख को गैर जिम्मेदाराना बताया ◾कर्नाटक संकट: भाजपा ने कुमारस्वामी पर करदाताओं का पैसा बर्बाद करने का लगाया आरोप◾गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, चिराग पासवान समेत कई बड़े नेताओं की सुरक्षा◾SC ने NRC प्रकाशन की समय सीमा बढ़ाई, 20 फीसदी नमूनों के पुन: सत्यापन का अनुरोध ठुकराया◾PM मोदी देश को बताएं कि उनकी ट्रंप से क्या बात हुई थी : राहुल गांधी◾

राजस्‍थान

कांग्रेस में कलह रही तो राजस्थान में होगी कर्नाटक, गोवा जैसी हालत : कटारिया

राजस्थान विधानसभा में विपक्ष के नेता और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक गुलाबचंद कटारिया ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस में अगर अंतर्कलह जारी रही तो राजस्थान विधानसभा में भी कर्नाटक और गोवा वाली कहानियों की पुनरावृत्ति होगी। उन्होंने कहा, "कांग्रेस की अंतर्कलह में हमारी कोई भूमिका नहीं है। वे अपने स्वार्थ के लिए लड़ रहे हैं और अगर यह जारी रहा तो निश्चित तौर पर यहां भी कर्नाटक और गोवा जैसी स्थितियां बनेंगी।" 

कटारिया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बुधवार को बजट पेश करने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में दिए बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे। गहलोत ने एक संवाददाता सम्मेलन में यह स्पष्ट कर दिया था कि वे मुख्यमंत्री का पद नहीं छोड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें मुख्यमंत्री नियुक्त किया है क्योंकि राज्य की जनता सिर्फ उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती है। 

सीतारमण ने बजट भाषण का बड़ा हिस्सा चिदंबरम के सवालों का जवाब देने में लगाया



कटारिया ने  कहा, बजट के संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने यह सब बहुत बेमन से बोला होगा। ये उनसे कभी किसी ने पूछा नहीं होगा, लेकिन उन्होंने खुद से ये बोला। उनका यह डर दिखाता है कि कांग्रेस नेतृत्व उन्हें राज्य से हटाकर दिल्ली बुला सकती है। इसलिए उन्होंने खुद ही अपनी ब्रांडिंग शुरू कर दी।" कटारिया ने कहा कि एक संवाददाता सम्मेलन में गहलोत का दावा करना ठीक नहीं है। 

उन्होंने कहा, "कांग्रेस ने विधानसभा चुनावों से पहले मुख्यमंत्री पद के किसी दावेदार का नाम घोषित नहीं किया था। तो वे यह कैसे कह सकते हैं कि जनता उन्हें मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती थी और इसलिए कांग्रेस को वोट दिया?" उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान कांग्रेस में दो धड़े हैं। एक धड़े के अगुआ गहलोत और दूसरे धड़े के अगुआ उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट हैं। दोनों धड़े पिछले कई महीनों से आपस में लड़ रहे हैं। 

उन्होंने कहा, "क्या इस समय गहलोत की यह नैतिक जिम्मेदारी नहीं है कि वे मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दें जब वे अपने गृह क्षेत्र से अपने बेटे को हारने से नहीं बचा पाए?" भाजपा के एक अन्य विधायक कालीचरण सर्राफ ने उनका समर्थन करते हुए कहा, "अगर ऐसी स्थिति (गुटबाजी) जारी रही तो कांग्रेस सरकार बहुत जल्द गिर जाएगी।" कांग्रेस विधायक शकुंतला रावत ने हालांकि भाजपा विधायकों के दावों को बकवास बताते हुए कहा, "सरकार में कोई कलह नहीं है और चिंता की कोई बात नहीं है।"