BREAKING NEWS

तुर्किये और सीरिया में आए भीषण भूकंप में 6,200 से अधिक लोगों की मौत◾सुप्रीम कोर्ट में MCD मेयर चुनाव के लिए आप की याचिका पर बुधवार को होगी सुनवाई ◾युवा कांग्रेस ने अडाणी समूह के मामले को लेकर किया प्रदर्शन◾मनोज तिवारी : केजरीवाल मंदिर के पुजारियों के साथ अन्याय कर रहे हैं, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा◾Bilkis Bano case: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की सजा में छूट के खिलाफ याचिका पर जल्द सुनवाई का दिया आश्वासन◾अमित शाह बोले- नयी सहकारिता नीति बनने से देश में सहकारी आंदोलन मजबूत होगा◾'कांग्रेस की अडाणी से नजदीकी...', राहुल गांधी के बयानों पर भाजपा सांसद निशिकांत दुबे का पलटवार ◾ममता बनर्जी बोलीं- सिर्फ TMC ही ‘डबल इंजन’ सरकार को सत्ता से कर सकती है बाहर◾असम : बाल विवाह के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब समय सीमा के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने की बड़ी चुनौती ◾श्रद्धा वाकर हत्याकांड में अदालत ने चार्जशीट पर लिया संज्ञान, 21 को सुनवाई◾ UP Politics: राहुल गांधी का बड़ा आरोप, बोले- 'CM योगी धार्मिक नेता नहीं, बल्कि एक मामूली ठग, बीजेपी कर रही अधर्म'◾AgustaWestland Scam: सुप्रीम कोर्ट ने बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को जमानत देने से इंकार किया◾CM हिमंत बोले- त्रिपुरा की क्षेत्रीय अखंडता से समझौता नहीं करेगी भाजपा◾झारखंड : मंडी शुल्क के खिलाफ अनाज व्यापारियों का आंदोलन, दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय ◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान, 'देश के 31 जिलों में अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान'◾पुजारियों को वेतन देने की मांग को लेकर BJP ने केजरीवाल के घर के बाहर किया प्रदर्शन◾Chinchwad bypoll: नाना काटे होंगे एमवीए के उम्मीदवार, भाजपा ने अश्विनी जगताप को दिया चांस ◾आंध्रप्रदेश : आरपीआई नेता के कार्यालय में लगाई आग, दफ्तर पूरी तरह जलकर खाक◾रोडवेज बसों का बढ़ा किराया, अखिलेश यादव बोले- यूपी सरकार ‘‘इन्वेस्टर्स समिट’’ का खर्च जनता से चाहती है वसूलना◾HAL की आलोचना पर कर्नाटक BJP ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- माफी मांगें राहुल गांधी◾

पायलट गुट ने तोड़ी चुप्पी, सीएम गहलोत के खिलाफ खोला मोर्चा

राजस्थान में रविवार को हुए राजनीतिक घटनाक्रम के बाद से खामोश रहे पायलट धड़े के नेताओं ने गहलोत गुट पर पलटवार किया है। पायलट गुट मंत्री मुरारी लाल मीणा ने इशारों-इशारों में सीएम गहलोत पर निशाना साधा है। बगावत के नल का सामना कर रहे मंत्री मुरारी लाल मीणा ने राजधानी जयपुर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हमने कांग्रेस आलाकमान के खिलाफ कोई बगावत नहीं की। रविवार को कांग्रेस के दोनों पर्यवेक्षकों का गहलोत के मंत्रियों ने अपमान किया। 

कांग्रेस आलाकमान के आदेश अपमानजनक हैं। आपको बता दें कि गहलोत खेमे के नेता 2020 में पायलट की बगावत को याद कर लगातार सचिन पायलट का विरोध कर रहे हैं. आपको बता दें कि गहलो कैबिनेट में मंत्री मुरारी लाल मीणा, हेमाराम चौधरी और बृजेंद्र ओला सचिन पायलट से माने जाते हैं। शिविर मंत्री विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी पायलट कैंप माना जाता था, लेकिन अब उन्होंने पाला बदल लिया है। 2020 में पायलट की बगावत के कारण मंत्री विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी बर्खास्त कर दिया गया था। लेकिन बाद में दोनों मंत्रियों को कैबिनेट फेरबदल में शामिल कर लिया गया।

हमारे लिए देशद्रोही जैसी असंसदीय भाषा का प्रयोग

मंत्री मुरारी लाल मीणा ने कहा कि हमारे लिए देशद्रोही जैसी असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे बुरा और क्या हो सकता है? पलटवार करते हुए कहा कि जब तक उन्हें क्रीमी पोस्ट मिलते रहेंगे, आलाकमान की बात करते रहेंगे. लेकिन जैसे ही उन्हें झटका लगता है वो ऐसी हरकतें करने लगते हैं. मुरारी लाल मीणा ने पूछा कि परसादी लाल मीणा ने 2008 का चुनाव निर्दलीय क्यों लड़ा था। उन्होंने कहा कि एक तरफ वे कहते हैं कि हम आलाकमान में विश्वास करते हैं तो दूसरी तरफ 102 से सीएम बनने की बात करते हैं। 

आलाकमान के खिलाफ नहीं हुआ कोई काम

परसादी लाल मीणा ने झूठे आरोप लगाए कि हम भाजपा की गोद में बैठे हैं। हम केवल अपनी बात रखने के लिए आलाकमान के पास गए। वहां से आने के बाद हमने आलाकमान के खिलाफ कोई काम नहीं किया. मुरारी लाल मीणा ने यह भी कहा कि कौन कितने पानी में है, पता चल जाएगा, चुनाव होने वाले हैं. मध्यावधि चुनाव हों या एक साल, तो होना तय है। इसमें पता चलेगा कि कौन कितने पानी में है।