BREAKING NEWS

तुर्किये और सीरिया में आए भीषण भूकंप में 6,200 से अधिक लोगों की मौत◾सुप्रीम कोर्ट में MCD मेयर चुनाव के लिए आप की याचिका पर बुधवार को होगी सुनवाई ◾युवा कांग्रेस ने अडाणी समूह के मामले को लेकर किया प्रदर्शन◾मनोज तिवारी : केजरीवाल मंदिर के पुजारियों के साथ अन्याय कर रहे हैं, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा◾Bilkis Bano case: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की सजा में छूट के खिलाफ याचिका पर जल्द सुनवाई का दिया आश्वासन◾अमित शाह बोले- नयी सहकारिता नीति बनने से देश में सहकारी आंदोलन मजबूत होगा◾'कांग्रेस की अडाणी से नजदीकी...', राहुल गांधी के बयानों पर भाजपा सांसद निशिकांत दुबे का पलटवार ◾ममता बनर्जी बोलीं- सिर्फ TMC ही ‘डबल इंजन’ सरकार को सत्ता से कर सकती है बाहर◾असम : बाल विवाह के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब समय सीमा के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने की बड़ी चुनौती ◾श्रद्धा वाकर हत्याकांड में अदालत ने चार्जशीट पर लिया संज्ञान, 21 को सुनवाई◾ UP Politics: राहुल गांधी का बड़ा आरोप, बोले- 'CM योगी धार्मिक नेता नहीं, बल्कि एक मामूली ठग, बीजेपी कर रही अधर्म'◾AgustaWestland Scam: सुप्रीम कोर्ट ने बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को जमानत देने से इंकार किया◾CM हिमंत बोले- त्रिपुरा की क्षेत्रीय अखंडता से समझौता नहीं करेगी भाजपा◾झारखंड : मंडी शुल्क के खिलाफ अनाज व्यापारियों का आंदोलन, दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय ◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान, 'देश के 31 जिलों में अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान'◾पुजारियों को वेतन देने की मांग को लेकर BJP ने केजरीवाल के घर के बाहर किया प्रदर्शन◾Chinchwad bypoll: नाना काटे होंगे एमवीए के उम्मीदवार, भाजपा ने अश्विनी जगताप को दिया चांस ◾आंध्रप्रदेश : आरपीआई नेता के कार्यालय में लगाई आग, दफ्तर पूरी तरह जलकर खाक◾रोडवेज बसों का बढ़ा किराया, अखिलेश यादव बोले- यूपी सरकार ‘‘इन्वेस्टर्स समिट’’ का खर्च जनता से चाहती है वसूलना◾HAL की आलोचना पर कर्नाटक BJP ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- माफी मांगें राहुल गांधी◾

बैकफुट पर गहलोत समर्थक विधायक? खाचरियावास बोले-मानेसर जाने वालों पर होनी चाहिए कार्रवाई

राजस्थान में गहलोत समर्थक विधायकों के रवैए पर आलाकमान ने गहरी जाहिर कि तो वहीं विधायकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की भी खबर सामने आई। इस बीच अशोक गहलोत के समर्थक नेता बैकफुट पर नजर आ रहे हैं। गहलोत के बेहद करीबी नेता और सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने कहा कि विधायक सोनिया जी के हर फैसले को मानने को तैयार हैं।

राजस्थान के मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने मंगलवार को कहा, अनुशासनात्मक कार्रवाई उन लोगों पर होनी चाहिए थी जो मानेसर गए थे। विधायक सोनिया जी के हर फैसले को मानने को तैयार हैं। मीडिया के जरिए धारणा बनाकर PM या CM की कुर्सी पर कब्जा नहीं कर सकते, जनता का विश्वास जीतने के लिए संघर्ष करने पड़ते हैं। 

उन्होंने कहा कि इतनी जल्दी पर्यवेक्षकों को नाराज नहीं होना चाहिए। ऐसे गुस्सा राजनीति में नहीं होता। अनुशासनात्मक कार्रवाई तो हमें बीजेपी पर करनी चाहिए। हमें बीजेपी के MLAs तोड़ने चाहिए। हम अपने लोगों से नहीं लड़ना चाहते, हमें तो बीजेपी से लड़ना है।

क्या है मानेसर विवाद?

जुलाई साल 2020 का वो महीना है जब सचिन पायलट ने भी बगावती तेवर अपनाते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी की खातिर अपने समर्थित विधायकों के साथ राजस्थान से बाहर मानेसर के एक होटल में डेरा जमाया। उस समय कांग्रेस सरकार के सामने बड़ा संकट और बीजेपी के लिए बड़ा मौका खड़ा हो गया। 

हालात ये तक बने कि सरकार बचाने के लिए अशोक गहलोत को अपने समर्थित विधायकों की बाड़ेबंदी करनी पड़ी। 34 दिनों तक विधायकों के साथ गहलोत भी पहले जयपुर और फिर जैसलमेर की होटलों में रहे। बाद में सचिन पायलट और उनके समर्थित विधायकों ने सरेंडर किया और सदन में गहलोत सरकार का साथ दिया तो सरकार तो संकट टल गया। लेकिन इस बार गहलोत विधायकों ने वही स्थिति ला खड़ी की है।

जानें राजस्थान में पूरा विवाद?

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोषित होने के बीच सचिन पायलट को राज्य सीएम बनाने की चर्चा के बीच गहलोत खेमे के करीब 90 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। इस बीच  पार्टी की अंतिरम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मामले को सुलझाने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन को हर एक बागी विधायक से बात करने के निर्देश दिए।

राजस्थान कांग्रेस में और बढ़ी तकरार, सोनिया के 'दूत' को ही लपेट रहे बागी

हालांकि, विधायकों ने दोनों नेताओं के सामने कुछ शर्तें रखते हुए मिलने से इनकार कर दिया। विधायकों के इन तेवरों से सोनिया गांधी काफी नाराज हो गई है। अब उन्होंने फैसला कर लिया है कि वो किसी के सामने झुकेंगी नहीं। दरअसल, बीते दिन विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट को नया सीएम चुना जा रहा था, लेकिन उससे पहले ही गहलोत गुट के 82 विधायकों ने यह कहते हुए इस्तीफा विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी को सौंप दिया की वो किसी भी हाल में पायलट को अपना नेता नहीं मानने वाले है। हालांकि तब तक सचिन पायलट को लेकर पार्टी की ओर से कोई आधिकारिक ऐलान नहीं हुआ था।