BREAKING NEWS

दुनिया ने भारत पर किया शक लेकिन देश ने सबसे पहले 100 करोड़ वैक्सीन लगाकर दिया जवाब : PM मोदी ◾सिंघु बॉर्डर पर फ्री में चिकन नहीं देने पर तोड़ी युवक की टांग, पुलिस ने निहंग नवीन को किया गिरफ्तार◾कल से तीन दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरे पर होंगे अमित शाह, टारगेट किलिंग पर करेंगे हाईलेवल मीटिंग ◾बांग्लादेश : कॉक्स बाजार से गिरफ्तार हुआ हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा भड़काने वाला आरोपी◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में 15786 नए मामलों की पुष्टि, 231 लोगों ने गंवाई जान ◾हॉलीवुड स्टार एलेक बाल्डविन ने गलती से सेट पर चला दी गोली, महिला कैमरामैन की मौत, एक घायल◾महामारी पर पीएम मोदी का लेख: ‘‘चिंता से आश्वासन’’ की ओर यात्रा है कोरोना टीकाकरण अभियान◾मायावती का तंज- समझना होगा कि जनता से छल व वादाखिलाफी के कारण कांग्रेस के आए बुरे दिन◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 25 करोड़ के करीब◾सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे PM मोदी, क्या रिकॉर्ड वैक्सीनेशन पर करेंगे चर्चा ◾इतिहास रचा, भारत में अब कोविड से लड़ने का मजबूत सुरक्षा कवच है : PM मोदी◾स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾कांग्रेस का PM से सवाल- जश्न से जख्म नहीं भरेंगे, ये बताएं 70 दिनों में 106 करोड़ टीके कैसे लगेंगे ◾केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज ◾‘विस्तारवादी’ पड़ोसी को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, संप्रभुता से कभी समझौता नहीं करेगा भारत : नित्यानंद राय ◾कोरोना वैक्सीन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार होने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गीत और फिल्म जारी की◾

दिवाली के बाद कांग्रेस प्रमुख की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं राहुल : सचिन पायलट

राजस्थान कांग्रेस के प्रमुख सचिन पायलट ने कहा है कि अब समय आ गया है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभाल लेनी चाहिए तथा वह दिवाली के कुछ समय के बाद यह जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि नेताओं के अंतिम नाम को राजनीति में कोई अयोज्ञता नहीं समझा जाना चाहिए। यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस के संगठन चुनाव में क्या राहुल गांधी को पार्टी की कमान संभालनी चाहिए, सचिन ने कहा, पार्टी में आम भावना तो यही है कि श्री गांधी को पार्टी की कमान संभालनी चाहिए। हालांकि उपाध्यक्ष के रूप में वह अभी भी पार्टी के अधिकतर कामों को अंजाम दे रहे हैं।

अब समय आ गया है कि उन्हें यह जिम्मेदारी संभाल लेनी चाहिए। वैसे स्वयं उन्होंने भी कहा है कि वह इसके लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा, संगठनात्मक चुनाव कांग्रेस में चल रहे हैं। नये अध्यक्ष दिवाली के बाद जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। इसकी योजना काफी समय से चल रही है। राहुल ने पिछले माह अमेरिका यात्रा के दौरान कहा था कि वह कांग्रेस नेतृत्व का उथरदायित्व संभालने के लिए तैयार हैं।

प्रियंका को क्या राजनीति में आना चाहिए, इस प्रश्न के उत्तर में सचिन ने कहा, यह उनका व्यक्तिगत निर्णय है। मेरा मानना है कि वह कांग्रेस परिवार से संबंधित हैं और जरूरत पड़ने पर अपना योगदान देती हैं। वह सक्रिय राजनीति में आयें या नहीं, यह उनका एवं उनके परिवार का निजी फैसला होगा। कांग्रेस में बुजुर्ग पीढ़ी को युवाओं को रास्ता देने के बारे में सवाल करने पर उन्होंने कहा, वैसे तो यह एक स्वाभाविक क्रम है। पर बात मौका देने की नहीं सबको साथ लेकर चलने की है। ऐसा नहीं है कि कोई कट आफ डेट होनी चाहिए।

उन्होंने केन्द, की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री के लिए कथित आयु मापदंड पर चुटकी लेते हुए कहा, राजनीति में मापदंड चयन के लिए नहीं बल्कि लोगों को हटाने के लिए बनाये जाते हैं। हमें पुरानी पीढ़ी के अनुभवों का पूरा लाभ उठाना चाहिए। हम (कांग्रेस) भाजपा की तरह मार्गदर्शक मंडल बनाने में विश्वास नहीं करते। भाजपा के मार्गदर्शक मंडल से बढ़कर कोई मजाक नहीं हो सकता। आज (लालकृष्ण) आडवाणीजी और (यशवंत) सिन्हा जी की क्या हालत बना रखी है, आप भाजपा वालों से पूछ सकते हैं। हमारे यहां ऐसा नहीं हो सकता।

उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि इसमें अच्छा मिश्रण होना चाहिए। साथ ही बदलाव भी होते रहने चाहिए। आजादी के बाद कांग्रेस ने भी समय समय पर अपनी सोच में बदलाव किया है। वंशवादी राजनीति के बारे में उनके विचार पूछे जाने पर सचिन ने अपना उदाहरण देते हुए कहा, मेरा मानना है कि इसमें विचार करने वाली बात यह है कि आपका कामकाज, प्रदर्शन कैसा है। आपको टिकट तो मिल गया किन्तु अंतिम निर्णय तो लाखों लोग करते हैं। महज आपके अंतिम नाम की वजह से आप बहुत दूरी तक नहीं जा पायेंगे। आपको अपना दिलो-जान लगाना पड़ता है। बहुत सारे परिवार हैं जिनके सदस्यों ने राजनीति में आने का प्रयास किया पर वे सफल नहीं हुए।

उन्होंने कहा, आप काम करोगे, जनता के बीच रहोगे तो जीतोगे। किसी के बेटे-भतीजे होने से ही सब कुछ नहीं हो जाता। जनता के बीच अपनी पैठ बनानी होगी। सचिन ने भाजपा द्वारा कांग्रेस पर वंशवादी राजनीति का आरोप लगाने का जिक्र करते हुए कहा, आप राजस्थान की मुख्यमंत्री (वसुंधरा राजे) को ही देखिए। उनका पुत्र सांसद है। उनकी एक बहन मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री है। उनकी मां भाजपा की संस्थापक सदस्यों में थीं।

उन्होंने कहा, यह कहना कि वंशवादी राजनीति केवल एक पार्टी में है। सत्य के कोसों दूर है। हम इस वास्तविकता को स्वीकार करते हैं कि यदि किसी में क्षमता है, वह परिणाम दे सकता है तो उसे मौका मिलना चाहिए। भाजपा को दूसरों पर अंगुली उठाने से पहले अपनी तरफ भी देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह न तो वंशवादी राजनीति का प्रोत्साहन करते हैं न ही इसकी निंदा करते हैं। आप जनता पर किसी को थोप नहीं सकते।