BREAKING NEWS

पार्टी की समर्पित कार्यकर्ता और कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक थीं शीला दीक्षित : रणदीप सुरजेवाला ◾सोनभद्र घटना : ममता ने भाजपा पर साधा निशाना ◾मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾Top 20 News 20 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शीला दीक्षित के निधन पर जताया दुख ◾दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित का निधन, PM मोदी सहित कई नेताओं ने जताया दुख◾दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन◾लाशों पर राजनीति करना कांग्रेस की पुरानी परंपरा : स्वतंत्र देव सिंह◾प्रियंका की हिरासत पर पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने जताया विरोध◾सोनभद्र हत्याकांड : पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी ने खत्म किया धरना ◾हम हथकंडों से डरने वाले नहीं, दलितों और आदिवासियों के लिए लड़ाई जारी रहेगी : राहुल◾

राजस्‍थान

राहुल गांधी का बयान मर्यादाहीन : सैनी

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कथित बयान 'सारे चोर मोदी ही क्यों होते है?' पर पलटवार करते हुए सोमवार को कहा कि यह एक वर्ग का अपमान है। भाजपा मुख्यालय पर संवाददाताओं से बातचीत में सैनी ने कहा, ‘राहुल गाँधी का यह कहना कि सारे चोर मोदी ही क्यों होते हैं.... यह एक वर्ग का अपमान है।

राहुल का बयान मर्यादाहीन है।’’ उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था चरमरा गई है, अपराधी बेखौफ हैं तथा प्रशासन का डर समाप्त हो गया है।

 सैनी ने मुख्यमंत्री के गृह जिले जोधपुर में रामनवमी के अवसर पर निकाले जा रहे धार्मिक जुलूस पर कथित पत्थरबाजी की निंदा करते हुए कहा कि यह स्पष्ट करता है कि मुख्यमंत्री के गृह जिले में भी प्रशासन का भय नहीं है। उन्होंने चौमूं और टोंक में प्रशासन द्वारा रामनवमी की शोभायात्रा निकालने की अनुमति नहीं देने की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री से इस मुद्दे पर बयान देने की मांग की।