BREAKING NEWS

कोरोना कहर के बीच सरकार का बड़ा ऐलान, संक्रमण के मरीजों के लिए प्लाज्मा थेरेपी पर लगाई रोक◾ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कीमत पर लगाम लगाने के लिए फॉर्मूला बनाए केंद्र सरकार : दिल्ली HC◾पश्चिम बंगाल : नारदा मामले में गिरफ्तारी के 7 घंटे बाद चारों टीएमसी नेताओं को CBI कोर्ट से मिली जमानत◾दिल्ली को कोरोना से मिली राहत, पिछले 24 घंटे में आए 4524 नए मामले, 340 की हुई मौत◾नारदा केस : TMC का प्रदर्शन, अभिषेक बनर्जी बोले- लॉकडाउन का करें पालन, लड़ाई कानूनी तरीके से लड़ेंगे◾ऑक्सीजन एक्सप्रेस का 13 राज्यों को मिला है लाभ, रेलवे ने अब तक पहुंचाई रिकॉर्ड 10000 टन जीवनदायी गैस◾सुरजेवाला ने केंद्र को बताया ‘जन लूट सरकार’, कहा- कोरोना काल में राहत देने की बजाय लाद रही टैक्स का बोझ ◾TMC नेताओं पर हुई CBI कार्रवाई के बाद ममता ने शुरू किया धरना, कहा- ये गिरफ्तारियां राजनीति से प्रेरित और अवैध◾डीआरडीओ की एंटी कोविड दवा 2-DG की पहली खेप जारी,राजनाथ सिंह ने बताया- 'उम्मीद की किरण' ◾गुजरात की ओर बढ़ रहा Cyclone Tauktae, सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए एक लाख लोग ◾PMCares के वेंटिलेटर और पीएम में कई समानताएं, दोनों का हद से ज्यादा झूठा प्रचार, काम करने में फेल : राहुल ◾तेजस्वी यादव ने CM नीतीश पर साधा निशाना, बोले- 'कुर्सी छोडें, हम बताएंगे कैसे पहुंचाई जाती है लोगों को मदद◾नारदा केस: TMC के 2 मंत्रियों समेत 4 नेता अरेस्ट, CBI के दफ्तर पहुंची CM ममता, कहा- मुझे भी करो गिरफ्तार ◾कोरोना वायरस : देश में बीते 24 घंटे में आए 3 लाख से कम नए केस, 4106 लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना महामारी के बीच खुले केदारनाथ के कपाट, PM मोदी की ओर से की गई पहली पूजा◾तालाबंदी का हो रहा गहरा प्रभाव, कोरोना महामारी को मात देने में असरदार, आज से कई राज्यों में बढ़ा लॉकडाउन◾विश्व में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 33.7 लाख लोगों ने गंवाई जान◾गुजरात की तरफ बढ़ा चक्रवात तौकते, मुंबई में तेज हवाओं के साथ हो रही है बारिश, अब तक 8 लोगों की मौत ◾ताउते तूफान : गुजरात,दीव के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी◾ऑक्सिजन कंसंट्रेटर्स की कालाबाजारी के मामले में दिल्ली के कारोबारी नवनीत कालरा को गुरुग्राम से किया गिरफ्तार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राजस्थान सियासी संकट के बीच, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बोले- राज्य में उल्टी गंगा बह रही है

राजस्थान सियासी घमासान अब होटल से निकलकर राजभवन तक पहुंच गया है। कांग्रेस और उसके समर्थक विधायकों के राजभवन में धरना शुरू किए जाने के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार की शाम कहा कि राज्य में उल्टी गंगा बह रही है जहां सत्ता पक्ष खुद विधानसभा का सत्र बुलाना चाहता है और विपक्ष के नेता कह रहे हैं कि हम तो इसकी मांग नहीं कर रहे।

गहलोत ने राज्यपाल को संवैधानिक मुखिया बताते हुए अपने विधायकों को गांधीवादी तरीके से पेश आने की नसीहत दी। गहलोत ने उम्मीद जताई कि राज्यपाल कलराज मिश्र विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की कांग्रेस सरकार के प्रस्ताव पर जल्द ही फैसला करेंगे। गहलोत ने राजभवन के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमारी कैबिनेट ने विधानसभा का सत्र बुलाने का फैसला किया। पहल हमने की। उसका विपक्ष को भी स्वागत करना चाहिए। यही परंपरा रही है लोकतंत्र की। यहां उल्टी गंगा बह रही है, हम कह रहे हैं कि हम सत्र बुलाएंगे और अपना बहुमत सिद्ध करेंगे। कोरोना वायरस और बाकी मुद्दों पर चर्चा करेंगे।’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘राज्यपाल हमारे संवैधानिक मुखिया हैं। हमने उनसे आग्रह किया। मुझे यह कहते हुए संकोच नहीं है कि बिना ऊपर के दबाव के वह इस फैसले को रोक नहीं सकते थे क्योंकि राज्य कैबिनेट का जो फैसला होता है राज्यपाल उससे बंधे होते हैं।’’ गहलोत ने कहा कि अगर राज्यपाल के कुछ सवाल हैं तो वह सचिवालय स्तर पर समाधान कर सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमेशा विपक्ष मांग करता है कि विधानसभा का सत्र बुलाया जाए। यहां सत्ता पक्ष कह रहा है कि विधानसभा का सत्र बुलाया जाए जहां दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। वहीं विपक्ष कह रहा है कि हम ऐसी मांग ही नहीं कर रहे। यह क्या पहेली है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि कलराज मिश्र जिनका अपना एक व्यक्तित्व है और जिनका दिल्ली में भी पक्ष-विपक्ष सम्मान करता रहा है, वह दबाव में नहीं आएंगे क्योंकि उन्होंने संवैधानिक पद की शपथ ली है।’’ गहलोत ने कहा, ‘‘जिंदगी में कई ऐसे मौके आते हैं जब उन्हें साहस से फैसले करने पड़ते हैं। हमें उम्मीद है कि जल्द अपना फैसला सुनाएंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘विधायक राजभवन में कब तक रहेंगे और धरना कब तक चलेगा। इस पर निर्भर करेगा कि राज्यपाल कब तक पत्र देते हैं और उसमें क्या लिखते हैं। उसके बाद ही कुछ फैसला करेंगे कि हमें क्या करना है।’’

जनता राजभवन का घेराव करेगी संबंधी अपने बयान पर गहलोत ने कहा, ‘‘1993 में भैंरोसिंह शेखावत ने कहा था कि अगर बहुमत मेरे पास है और हमें नहीं बुलाया गया तो राजभवन का घेराव होगा। राजभवन का घेराव होगा यह राजनीतिक भाषा होती है। जनता को समझाने के लिए, संदेश देने के लिए।’’ गहलोत ने कहा कि कभी भैंरोसिंह शेखावत यहीं पर धरने पर बैठे थे। गहलोत ने कहा, ‘‘भाजपा के नये-नये नेता पैदा हुए हैं उन्हें कोई जानकारी नहीं। इन्हें चाहिए कि हम जैसे वरिष्ठ नेताओं से कुछ बातचीत करें और कुछ ज्ञान लें।’’ इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने अपने विधायकों से आग्रह किया है कि हमें गांधीवादी तरीके से पेश आना है। गहलोत ने कहा कि राज्यपाल संवैधानिक प्रमुख हैं और हम कोई टकराव नहीं चाहते।