BREAKING NEWS

ओमीक्रोन का असर कम रहने का अंदाजा, वैज्ञानिक मार्गदर्शन पर होगा बूस्टर देने का फैसला◾सुरक्षा के प्रति किसी भी खतरे से निपटने में पूरी तरह सक्षम है भारतीय नौसेना : एडमिरल कुमार◾एक बच्चे सहित तीन यात्री कोरोना संक्रमित , जांच के बाद ही ओमीक्रन स्वरूप की होगी पुष्टि : तमिलनाडु सरकार◾जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾

राजस्थान: CM अशोक गहलोत का ऐलान, जल्द होगा मंत्रिमंडल का विस्तार

राजस्थान में जल्द ही कैबिनेट का विस्तार होगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में इसकी जानकारी दी। अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल  में फेरबदल जल्द ही किया जाएगा। सचिवालय कर्मचारी संघ की नवगठित कार्यकारिणी के शपथ ग्रहण समारोह को संबोधित करते हुए गहलोत ने कहा, ‘मंत्रिमंडल पुनर्गठन जल्द होगा।एक भाषण के दौरान तब असहज हो गए जब राज्य में शिक्षकों की ओर से कहा गया कि उन्हें ट्रांसफर के लिए स्थानीय विधायकों की पैरवी करनी पड़ती है इसके साथ ही घूस देना पड़ता है. यह तब हुआ जब राज्य के शिक्षा मंत्री, गोविंद डोटासरा, मंच पर मौजूद थे.

अशोक गहलोत की स्पीच का एक छोटा सा अंश ऑनलाइन वायरल हो रहा है। इसमें मुख्यमंत्री खुद शिक्षकों को नकद भुगतान करने का मुद्दा उठाते हुए दिखाई दे रहे हैं और भीड़ से पूछते हैं कि क्या यह सच है। इस पर हॉल में सभी लोग जोर से हंसने लगे और तालियों की गड़गड़ाहट के साथ एक सुर में हां में जवाब दिया।

ट्रांसफर नीति बनाने की कही बात

इसके बाद तो जैसे मुख्यमंत्री के पास बोलने के लिए कोई शब्द ही नहीं रहे और फिर उन्होंने शिकायत पर गौर करने का वादा किया। उन्होंने कहा, “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि शिक्षकों को स्थानांतरण के लिए पैसे देने की जरूरत है। एक नीति बनाई जानी चाहिए, जिसमें शिक्षकों को पता हो कि दो साल बाद उनका ट्रांसफर होगा या कब होगा, ताकि उन्हें इस समस्या से निजात मिले।”इसके बाद शिक्षा मंत्री डोटासरा ने शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि “यह दिक्कत (स्थानांतरण के लिए नकद भुगतान) शिक्षकों के स्थानांतरण के लिए एक नीति के कार्यान्वयन के साथ समाप्त हो जाएगा।”

शिक्षकों ने हकीकत से कराया रूबरू- BJP

राजस्थान विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया, “शिक्षक सम्मान समारोह में शिक्षा मंत्री जी की उपस्थिति में CM अशोक गहलोत ने ट्रांसफर के लिए पैसे देने की बात पूछी तो सभी शिक्षकों ने एकस्वर में ‘हां’ में जवाब दिया। शिक्षक समाज का दर्पण होता है, जो कभी झूठ नहीं बोल सकते। आज शिक्षकों ने सरकार का भ्रष्ट चेहरा सभी को दिखाया है।”उन्होंने आगे कहा, “जन घोषणा पत्र में ‘Zero Discretion, Zero Corruption & Zero Tolerance’ के सिद्धांत पर काम करने का वादा करने वाली गहलोत सरकार के शासन में भ्रष्टाचार की गंगोत्री बह रही है जिसमें सभी गोते लगा रहे हैं। आज हमारे शिक्षकों ने मुखिया जी को इस हकीकत से भी रूबरू करवा दिया है।”

राठौड़ ने कहा कि शिक्षा विभाग तो एक बानगी है। कांग्रेस राज में किसी भी सरकारी विभाग में ट्रांसफर हो या अन्य कार्य, बिना रिश्वत के कोई काम नहीं होता। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश के 64 फीसदी नागरिकों ने भी स्वीकारा है कि सरकार में बिना रिश्वत के कोई काम नहीं करवाया जा सकता है।