BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की जान को खतरा, बढाई गई सुरक्षा◾सियासत के धरती पुत्र मुलायम सिंह की बिगड़ी तबीयत, आईसीयू में शिफ्ट◾उद्धव गुट में टूट जारी, वर्ली के 3000 शिवसैनिकों ने थामा शिंदे गुट का दामन ◾फिर उबाल मार रहा हैं खालिस्तान मूवमेंट, बठिंडा में दीवार पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे◾पुलवामा में आतंकी हमला, एक पुलिस जवान शहीद, सशस्त्र बल का जवान घायल ◾बीजेपी ने नीतीश कुमार को दी सलाह, कहा - आपकी विदाई तय, बांध लें बोरिया-बिस्तर◾Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव क्यों लड़ रहे हैं मल्लिकार्जुन खड़गे? बताया पूरा प्लान ◾खड़गे से खुले आसमान के नीचे बहस करने के लिए तैयार हूं - शशि थरूर ◾ महात्मा गांधी की विरासत को हथियाना आसान पदचिन्हों पर चलना मुश्किल : राहुल गांधी ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महात्मा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि अर्पित की◾इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि नए मुख्यमंत्री के नाम पर विधायकों में नाराजगी क्यों है : गहलोत◾पायलट को बीजेपी का खुला ऑफर, घर लक्ष्मी आए तो ठुकराए नहीं ◾राजस्थान में बढ़ा सियासी बवाल, अशोक गहलोत ने विधायकों की बगावत पर दिया बड़ा बयान◾राजद नेताओं पर जगदानंद सिंह ने लगाई पाबंदिया, तेजस्वी यादव पर टिप्पणी ना करने की मिली सलाह ◾ इयान तूफान के कहर से अमेरिका में हुई जनहानि पर पीएम मोदी ने जताई संवेदना ◾महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज अवधारणा से प्रेरित हैं स्वयंपूर्ण गोवा योजना : सीएम सावंत◾उत्तर प्रदेश: अखिलेश यादव पर राजभर ने कसा तंज, कहा - साढ़े चार साल खेलेंगे लूडो और चाहिए सत्ता◾ पीएम मोदी ने गांधी जयंती पर राजघाट पहुंचकर बापू को किया नमन, राहुल से लेकर इन नेताओं ने भी राष्ट्रपिता को किया याद ◾महाराष्ट्र: शिंदे सरकार का कर्मचारियों के लिए नया अध्यादेश जारी, अब हैलो या नमस्ते नहीं 'वंदे मातरम' बोलना होगा◾Gandhi Jayanti: संयुक्त राष्ट्र की सभा में 'प्रकट' हुए महात्मा गांधी, 6:50 मिनट तक दिया जोरदार भाषण◾

राजस्थान : सेंधमारी से बचने के लिए विधायकों को उदयपुर शिफ्ट कर रही है कांग्रेस

राज्यसभा चुनावों के बीच राजस्थान कांग्रेस को एक बार फिर सेंधमारी का डर सता रहा है। ऐसे में एक बार फिर पार्टी ने अपने विधायकों को उदयपुर में शिफ्ट करना शुरू कर दिया है। विधायकों को उदयपुर के उस होटल में शिफ्ट किया जा रहा है जहां हाल ही में चिंतन शिविर का आयोजन किया गया था।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस मीडिया दिग्गज सुभाष चंद्रा को 5वें उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने से दबाव महसूस कर रही है, जिन्हें बीजेपी का समर्थन प्राप्त है। साथ ही, कुछ निर्दलीय और अन्य सहयोगियों ने पार्टी नेतृत्व के समक्ष कुछ मुद्दे उठाए हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद पार्टी के इस कदम पर निगरानी बनाए हुए हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी पार्टी के प्रति ईमानदार रहें। 

गहलोत सरकार से नाराज हैं निर्दलीय विधायक

कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी को दबाव में लाने वाले बीटीपी के असंतुष्ट विधायक और कुछ निर्दलीय हैं, जो राज्य सरकार से नाराज हैं। इसके अलावा, बहुजन समाज पार्टी ने बुधवार को राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्रा और विधानसभा अध्यक्ष सी. पी. जोशी से पत्र लिखकर मांग की थी कि जिन छह विधायकों ने बसपा पार्टी के चुनाव चिन्ह पर जीत हासिल की थी, लेकिन बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए थे, उन्हें राज्यसभा चुनाव में मतदान करने से रोक दिया जाना चाहिए। 

पत्र में, राजस्थान बसपा अध्यक्ष भगवान सिंह बाबा ने कहा, "सुप्रीम कोर्ट में विधायकों के खिलाफ दलबदल विरोधी कानून के तहत मामला चल रहा है, ऐसे में इन छह विधायकों को राज्यसभा चुनाव में मतदान करने से रोक दिया जाना चाहिए। बसपा ने फैसला किया है कि वह उच्च सदन के चुनाव में किसी पार्टी या निर्दलीय उम्मीदवार का समर्थन नहीं करेगी।" छह विधायक-राजेंद्र गुढ़ा, लखन मीणा, दीपचंद खेरिया, संदीप यादव, जोगिंदर अवाना और वाजिब अली - सितंबर 2019 में कांग्रेस में शामिल हुए थे। 

कांग्रेस ने राजस्थान से राज्यसभा के तीन उम्मीदवार मुकुल वासनिक, रणदीप सिंह सुरजेवाला और प्रमोद तिवारी को मैदान में उतारा है। हालांकि कांग्रेस को 'बाहरी' नेताओं को चुनावी मैदान में उतारने को लेकर अपने ही विधायकों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। बीजेपी ने छह बार के विधायक घनश्याम तिवारी को मैदान में उतारा है और राज्यसभा चुनाव के लिए सुभाष चंद्रा को समर्थन देने की घोषणा की है, जो राज्यसभा के मौजूदा सदस्य हैं और उनका कार्यकाल अगस्त में समाप्त होगा।

 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में बीजेपी के 71 विधायक हैं और उसे दो सीटें जीतने के लिए करीब 11 और वोटों की जरूरत है। चंद्रा को सीधे कांग्रेस के प्रमोद तिवारी के खिलाफ खड़ा किया गया है, जो एक कार्यकाल के अंतराल के बाद दोबारा राज्यसभा जाने के लिए मैदान में हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पार्टी के लिए तीन सीटें पक्की करने के लिए अपने सभी संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं। फिलहाल राज्य विधानसभा में 13 निर्दलीय उम्मीदवार हैं जो अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली राजस्थान सरकार का समर्थन कर रहे हैं। ओम प्रकाश हुडला ने गुरुवार को घोषणा की कि उन्होंने अभी तक नहीं सोचा है कि वह किसका समर्थन करेंगे।