BREAKING NEWS

'हाउडी मोदी' के लिए ह्यूस्टन तैयार, 50 हजार टिकट बिके ◾ शिवसेना, भाजपा को महाराष्ट्र चुनावों में 220 से ज्यादा सीटें जीतने का भरोसा◾आधारहीन है रिहाई के लिए मीरवाइज द्वारा बॉन्ड पर दस्तखत करने की रिपोर्ट : हुर्रियत ◾TOP 20 NEWS 21 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामदास अठावले ने किया दावा - गठबंधन महाराष्ट्र में 240-250 सीटें जीतेगा ◾कृषि मंत्रालय से मिले आश्वासन के बाद किसानों ने खत्म किया आंदोलन ◾फडणवीस बोले- भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, मैं दोबारा मुख्यमंत्री बनूंगा◾चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾कपिल सिब्बल बोले- कॉरपोरेट के लिए दिवाली लाई सरकार, गरीबों को उनके हाल पर छोड़ा◾मध्यप्रदेश सरकार ने शराब, पेट्रोल और डीजल पर बढ़ाया 5 फीसदी वैट◾Howdy Modi: 7 दिनों के अमेरिका दौरे पर रवाना हुए पीएम मोदी, ये रहेगा कार्यक्रम◾शरद पवार बोले- केवल पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र में बदल सकती है लोगों का मूड◾नीतीश पर तेजस्वी का पलटवार, कहा- जब एबीसीडी नहीं आती, तो मुझे उपमुख्यमंत्री क्यों बनाया था?◾महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए आज होगी तारीखों की घोषणा, 12 बजे EC की प्रेस कॉन्फ्रेंस◾विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾

राजस्‍थान

राजस्थान : कल्याण 1967 के बाद कार्यकाल पूरा करने वाले पहले राज्यपाल

कल्याण सिंह पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाले राजस्थान के चौथे राज्यपाल बन गए हैं। वह राज्य में 1967 के बाद कार्यकाल पूरा करने वाले पहले राज्यपाल हैं।

 

बता दें कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सिर्फ तीन अन्य राज्यपालों ने राज्य में अपना कार्यकाल पूरा किया है। सवाई मानसिंह ने राज्यपाल के रूप में 30 मार्च 1949 से 31 अक्टूबर 1956 तक सेवाएं दीं। गुरुमुख निहाल सिंह ने एक नवंबर 1956 से 15 अप्रैल 1962 तक और संपूर्णानंद ने 16 अप्रैल 1962 से 15 अप्रैल 1967 तक सेवाएं दीं। संपूर्णानंद इस विशिष्टता को हासिल करने वाले राज्य के अंतिम राज्यपाल थे। 

इसके बाद से राज्य में करीब 40 राज्यपाल नियुक्त किए गए, लेकिन किसी ने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया। सत्रह को विभिन्न राज्यों से लाया गया और संक्षिप्त कार्यकाल के लिए प्रभार दिया गया। कुछ स्थानांतरित कर दिए गए, जबकि कुछ अन्य ने केंद्र में सरकार बदलने के कारण इस्तीफा दे दिया। चार राज्यपालों की पद पर रहने के दौरान मौत हो गई। 

इस तरह से राजस्थान के राज्यपाल का कार्यकाल पूरा नहीं करने को 'बदकिस्मती' से जोड़ा जाने लगा था। 52 साल बाद कल्याण सिंह इस 'बदकिस्मती' को तोड़ने में सफल हुए हैं।