BREAKING NEWS

शेख हसीना के साथ बैठक सौहार्दपूर्ण रही : ममता ◾राजनाथ ने डीआरडीओ और घरेलू रक्षा उद्योगों के बीच सामंजस्य बनाने की अपील की ◾चुनावी बॉन्ड पर सरकार के पास जवाब नहीं : प्रियंका गांधी वाड्रा◾ कांग्रेस नेता अहमद पटेल बोले- बैठक अभी अधूरी है, कल हम फिर करेंगे बैठक ◾BHU में प्रो. फिरोज खान नियुक्ति विवाद पर छात्रों का धरना समाप्त,विरोध जारी◾राज्यसभा में उठा जेएनयू में फीस बढ़ोतरी का मुद्दा ◾TOP 20 NEWS 22 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे◾मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं◾प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बोले-पानी और सीवर के नए कनेक्शन पर देने होंगे 2,310 रुपये ◾NCP ने ली भाजपा की चुटकी, कहा- 'शरद पवार ने राजनीति के चाणक्य को दी मात'◾महाराष्ट्र : सरकार गठन को लेकर मुंबई में शाम 4 बजे होगी शिवसेना, NCP और कांग्रेस की बैठक◾संसद परिसर में कांग्रेस ने 'Electoral Bond' के खिलाफ किया प्रदर्शन◾गठबंधन पर संजय निरुपम तंज, कहा- 'तीन तिगाड़े काम बिगाड़े' वाली सरकार चलेगी कब तक?◾महाराष्ट्र में 5 साल के लिए शिवसेना का ही होगा मुख्यमंत्री : संजय राउत◾इजराइल के PM बेंजामिन नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और विश्वासघात मामले में आरोप तय◾सत्यपाल मलिक बोले- अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में केवट-शबरी की भी हों मूर्तियां, ट्रस्ट को लिखूंगा चिट्ठी◾झारखंड चुनाव: भाजपा के 'बागी' सरयू राय के बहाने नीतीश ने 'तीर' से साधे कई निशाने◾अयोध्या विवाद पर आए फैसले पर दूसरे देशों से संवाद बहुत सफल रहा : विदेश मंत्रालय◾

राजस्‍थान

राजस्थान : कल्याण 1967 के बाद कार्यकाल पूरा करने वाले पहले राज्यपाल

 kalyan singh

कल्याण सिंह पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाले राजस्थान के चौथे राज्यपाल बन गए हैं। वह राज्य में 1967 के बाद कार्यकाल पूरा करने वाले पहले राज्यपाल हैं।

 

बता दें कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सिर्फ तीन अन्य राज्यपालों ने राज्य में अपना कार्यकाल पूरा किया है। सवाई मानसिंह ने राज्यपाल के रूप में 30 मार्च 1949 से 31 अक्टूबर 1956 तक सेवाएं दीं। गुरुमुख निहाल सिंह ने एक नवंबर 1956 से 15 अप्रैल 1962 तक और संपूर्णानंद ने 16 अप्रैल 1962 से 15 अप्रैल 1967 तक सेवाएं दीं। संपूर्णानंद इस विशिष्टता को हासिल करने वाले राज्य के अंतिम राज्यपाल थे। 

इसके बाद से राज्य में करीब 40 राज्यपाल नियुक्त किए गए, लेकिन किसी ने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया। सत्रह को विभिन्न राज्यों से लाया गया और संक्षिप्त कार्यकाल के लिए प्रभार दिया गया। कुछ स्थानांतरित कर दिए गए, जबकि कुछ अन्य ने केंद्र में सरकार बदलने के कारण इस्तीफा दे दिया। चार राज्यपालों की पद पर रहने के दौरान मौत हो गई। 

इस तरह से राजस्थान के राज्यपाल का कार्यकाल पूरा नहीं करने को 'बदकिस्मती' से जोड़ा जाने लगा था। 52 साल बाद कल्याण सिंह इस 'बदकिस्मती' को तोड़ने में सफल हुए हैं।